नैनीताल में 66 फीसद प्रतिष्ठान बिना कर्मचारी के !


Rashtriya Sahara-8.9.14
Rashtriya Sahara-8.9.14

-आठ होटलों व 29 रेस्टोरेंटों में मालिक खुद ही परोसते हैं भोजन और खुद ही उठाते हैं जूठन
-श्रम विभाग से सूचना के अधिकार के तहत मिली जानकारी में मिली अजब-गजब जानकारी
नवीन जोशी, नैनीताल। क्या कोई सोच सकता है कि पर्यटकों को विश्व स्तरीय सुविधाएं दिलाते हुए आकर्षित करने वाली सरोवरनगरी में 66 फीसद प्रतिष्ठान बिना कर्मचारियों के ही चल रहे हैं। मजे की बात यह भी है कि इनमें नगर के आठ प्रतिष्ठित होटल और 29 रेस्टोरेंट भी शामिल हैं, जिनके मालिकों ने श्रम विभाग में जानकारी दी है कि उनके यहां एक भी कर्मचारी कार्यरत नहीं है। यानी वह खुद ही ग्राहकों के लिए भोजन तैयार करते हैं, उसे खुद ही परोसते हैं, खुद ही जूठन उठाते हैं और फिर सैलानियों के लिए बिस्तर भी खुद ही बिछाते हैं।

पढ़ना जारी रखें “नैनीताल में 66 फीसद प्रतिष्ठान बिना कर्मचारी के !”

मां ‘नयना की नगरी’ में होती है राज राजेश्वरी मां नंदा की ‘लोक जात’


Flowering on Nanda-Sunada
Flowering on Nanda-Sunada

-यहां राज परिवार का नहीं होता आयोजन में दखल, जनता ने ही की शुरुआत, जनता ही बढ़-चढ़ कर करती है प्रतिभाग
नवीन जोशी, नैनीताल। प्रदेश में चल रही मां नंदा की ‘राज जात’ से इतर मां नयना की नगरी नैनीताल में माता नंदा-सुनंदा की ‘लोक जात’ का आयोजन किया जाता है। अमूमन 12 वर्षों के अंतराल में आयोजित होने वाली ‘राज जात’ के इतर सरोवरनगरी में 111 वर्षों से हर वर्ष अनवरत, बीच में प्रथम व द्वितीय दो विश्व युद्धों की विभीषिका के बावजूद बिना किसी व्यवधान के न केवल यह महोत्सव जारी है, वरन हर वर्ष समृद्ध भी होता जा रहा है। बिना राज परिवार के जनता द्वारा शुरू किए गए और जनता की ही सक्रिय भागेदारी से आयोजित होने वाले इस महोत्सव को मां नंदा की ‘लोक जात’ ही अधिक कहा जा सकता है। पढ़ना जारी रखें “मां ‘नयना की नगरी’ में होती है राज राजेश्वरी मां नंदा की ‘लोक जात’”

नेपाली, तिब्बती, पैगोडा, गौथिक व ग्वालियर शैली में बना है नयना देवी मंदिर


nAYNA dEVI tEMPLE (2)
Nayna Devi Mandir

“सरोवरनगरी की पहचान से जुड़ा नगर का प्राचीन नयना देवी मंदिर नेपाली, तिब्बती, पैगोडा व कुछ हद तक अंग्रेजी गौथिक व ग्वालियर शैली में भी बना हुआ है। इसकी स्थापना नगर के संस्थापकों में शुमार मूलतः नेपाल निवासी मोती राम शाह के पुत्र अमर नाथ शाह ने अंग्रेजों से एक समझौते के तहत यहां लगभग सवा एकड़ भूमि पर 1883 में माता के जन्म दिन माने जाने वाली ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की नवमी की तिथि को की थी।

पढ़ना जारी रखें “नेपाली, तिब्बती, पैगोडा, गौथिक व ग्वालियर शैली में बना है नयना देवी मंदिर”

आरबीआई गवर्नर व संयुक्त राष्ट्र महासचिव के नाम से हो रही धोखाधड़ी की कोशिष


RBI Letter
RBI Letter

-अनेक लोगों को आए ईमेल में चार करोड़ रुपए देने का झांसा देकर मांगे जा रहे 19,500 रुपए
नवीन जोशी, नैनीताल। अब तक शातिर अपराधियों के द्वारा झूठे नामों से इंटरनेट के माध्यम से ठगी के प्रयास करने के ही मामले प्रकाश में आते रहे हैं, लेकिन इधर अनेक लोगों के पास आए ईमेल में भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर डा. रघुराम राजन एवं संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान-की-मून के नाम से ठगी करने का अपनी तरह का अनूठा मामला प्रकाश में आया है। ठगी भी इन बड़े नामों की तरह बड़ी धनराशि की ही करने की कोशिष की जा रही है। इन ईमेल में संबंधित व्यक्ति की चार करोड़ रुपए से अधिक की धनराशि देने का झांसा दिया जा रहा है, और इस धनराशि को प्राप्त करने के लिए 19,500 रुपए बैंक खाते में जमा करने को कहा जा रहा है। पढ़ना जारी रखें “आरबीआई गवर्नर व संयुक्त राष्ट्र महासचिव के नाम से हो रही धोखाधड़ी की कोशिष”

पहाड़ चढ़ेगी रेल ! बिना सुरंग केवल चार पुलों से 610 मीटर ही चढ़ कर पहुँच जाएगी बागेश्वर !


Train-प्रथम विश्व युद्ध से पूर्व 1888-89 में ही अंग्रेजों ने करा दिया था इस रेल मार्ग का सर्वेक्षण
-137 किमी के इस रेल पथ में केवल 610 मीटर का ही उतार-चढ़ाव होगा, लग सकते हैं टनकपुर-बागेश्वर रेल लाइन को पंख
नवीन जोशी, नैनीताल। गत दिवस केंद्रीय रेलमंत्री सुरेश प्रभु द्वारा गैरसेंण में टनकपुर से बागेश्वर रेल लाइन के निर्माण पर वक्तव्य देने के बाद यह प्रस्तावित रेल पथ पुन: चर्चा में आ गया है। इस बाबत पूर्व में भी अपने अध्ययन के बाद बनाये गये प्रस्ताव को दिखा चुके कुमाऊं विश्व विद्यालय के भूगोल विभाग के सेवानिवृत्त प्राध्यापक डा. जीएल साह ने दावा किया है कि उनकी प्रोजेक्ट रिपोर्ट पर ही राष्ट्रीय महत्व की परियोजना के रूप में शामिल हुई और पुन: इसकी घोषणा हुई है। उन्होंने ही बीते दिनों रेल मंत्री सुरेश प्रभु और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस रेल पथ के बारे में विस्तृत प्रस्ताव भेजा दिया था, जिसके आधार पर ही श्री प्रभु ने इस मार्ग के बारे में घोषणा की है।

पढ़ना जारी रखें “पहाड़ चढ़ेगी रेल ! बिना सुरंग केवल चार पुलों से 610 मीटर ही चढ़ कर पहुँच जाएगी बागेश्वर !”

Nainital

‘फोटोजेनिक’ नैनीताल के साथ ही जन्मी फोटोग्राफी !


 19 अगस्त विश्व फोटोग्राफी दिवस पर विशेशः

Nainital
Nainital
Nainital-The English Beauty
Nainital-The English Beauty

हर कोण से एक अलग सुंदरता के लिए पहचानी जाने वाली और इस लिहाज से ‘फोटोजेनिक’ कही जाने वाली सरोवरनगरी नैनीताल के साथ यह संयोग ही है कि जिस वर्ष अंग्रेज व्यापारी पीटर बैरन द्वारा इसकी खोज किए जाने की बात कही जाती है, उसी वर्ष न केवल ‘फोटोग्राफी’ शब्द अस्तित्व में आया, और उसी वर्ष फोटोग्राफी का औपचारिक आविष्कार हुआ। अंग्रेजों के साथ ही नैनीताल में फोटोग्राफी बहुत जल्दी पहुंच गई। 1850 में अंग्रेज छायाकार डा. जॉन मरे और कर्नल जेम्स हेनरी एर्सकिन रेड (मैकनब कलेक्शन) को नैनीताल में सर्वप्रथम फोटोग्राफी करने का श्रेय दिया जाता है। उनके द्वारा खींचे गए नैनीताल के कई चित्र ब्रिटिश लाइब्रेरी में आज भी सुरक्षित हैं। 1860 में नगर के मांगी साह ने फोटोग्राफी की शुरुआत की। 1921 में चंद्रलाल साह ठुलघरिया ने नगर के छायाकारों की फ्लोरिस्ट लीग की स्थापना की, जबकि देश में 1991 से विश्व फोटाग्राफी दिवस मनाने की शुरुआत हुई। नैनीताल के ख्याति प्राप्त फोटोग्राफरों में परसी साह व एनएल साह आदि का नाम भी आदर के साथ लिया जाता है, जबकि हालिया दौर में अनूप साह अंतराष्टीय स्तर के फोटोग्राफर हैं, जबकि देश के अपने स्तर के इकलौते विकलांग छायाकार दिवंगत बलवीर सिंह, एएन सिंह, बृजमोहन जोशी व केएस सजवाण आदि ने भी खूब नाम कमाया है।

पढ़ना जारी रखें “‘फोटोजेनिक’ नैनीताल के साथ ही जन्मी फोटोग्राफी !”

अब डाक टिकटों पर छपवाइए अपनी ‘सेल्फ़ी’


इस तर डाक टिकट पर छपेंगी आम जन की फोटो।
इस तरह डाक टिकट पर छपेंगी आम जन की फोटो।

-केवल 300 रुपए में डाक टिकटों पर छपवा सकते हैं अपने फोटो
-जनता की घटती रुचि के मद्दनजर आम जन को विभाग से जोड़ने के लिए डाक विभाग शुरू कर रहा अनूठी पहल
नवीन जोशी, नैनीताल। सामान्यतया डाक टिकटों पर देश की महान हस्तियों, अवसरों, इमारतों आदि की फोटो देखकर कई बार मन में चाह उठती है कि काश, हमारे फोटो, हमारी अपनी सेल्फ़ी भी डाक टिकटों पर छपती। इस चाह को सच साबित करने की राह अब आसान हो गई है। अब कोई भी व्यक्ति मात्र 300 रुपए में अपनी खुद की, बच्चों, परिजनों अथवा परिचितों की और यहां तक कि अपनी खींची हुई किसी स्थान, प्राकृतिक दृश्य, अवसर आदि किसी भी प्रकार की फोटो को बकायदा डाक विभाग के माध्यम से डाक टिकट पर छपवा सकते हैं। और ऐसा करना कुछ अधिक महंगा भी नहीं है। केवल 300 रुपए देकर अपने मनचाहे फोटो युक्त डाक टिकट छपवाए जा सकते हैं। इस धनराशि में पांच-पांच रुपए के 12 यानी कुल 60 रुपए के टिकट की एक शीट भी विभाग से प्राप्त होगी। व्यवसायिक कंपनियों के लिए भी यह सुविधा उपलब्ध होगी। अलबत्ता उन्हें इसके लिए कम से कम 500 शीटें छपवानी हांेगी, यानी कम से कम डेढ़ लाख रुपए खर्च करने होंगे। पढ़ना जारी रखें “अब डाक टिकटों पर छपवाइए अपनी ‘सेल्फ़ी’”

कुदरत सूखाताल को भरने और प्रशासन सुखाने पर आमादा


– प्रशासन पंप लगाकर खाली करा रहा झील को नवीन जोशी, नैनीताल। वर्षभर पानी से विहीन सूखाताल झील को पुनर्जीवित करने के प्रति उत्तराखंड उच्च न्यायालय की गंभीरता को देखते हुए जिला प्रशासन झील में पंप लगाकर पानी बाहर निकलवा रहा है। इन दिनों हुई भारी बरसात के कारण झील के किनारे बने घरों के साथ झील के बीच में बना जल संस्थान का पंप हाउस व एडीबी का स्टोर भी पानी में डूब गया है। खतरे को भांपते हुए जिला प्रशासन ने पंप चलाकर झील से पानी बाहर निकालना प्रारंभ कर दिया। उल्लेखनीय है कि सूखाताल झील, विश्व प्रसिद्ध … पढ़ना जारी रखें कुदरत सूखाताल को भरने और प्रशासन सुखाने पर आमादा

झील के साथ ही खूबसूरत झरने भी बन सकते हैं नैनीताल की पहचान



नवीन जोशी, नैनीताल। विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी सरोवरनगरी नैनीताल की वैश्विक पहचान केवल नगर के भीतर के नैनी सरोवर व अन्य आकर्षणों की वजह से नहीं, इसके बाहरी क्षेत्रों की खूबसूरती के समग्र से भी है। और यह खूबसूरती भी सैलानियों को सर्वाधिक आकर्षित करने वाले ग्रीष्मकालीन पर्यटन सीजन के दौरान की ही नहीं, वरन वर्ष भर और कमोबेस हर मौसम में अलग-अलग रूपों में कुदरत द्वारा उदारता से बरती जाने वाली नेमतों की वजह से भी है। मौजूदा वर्षा काल की ही बात करें तो इस मौसम में जहां पहाड़ की कमजोर प्रकृति की वजह से होने वाले खतरों की वजह से कम संख्या में सैलानी यहां आने का रुख कर पाते हैं, परंतु यही समय है जब यहां प्रकृति सुंदरी को उसकी वास्तविक सुंदरता को मानो नहा-धो कर साफ-स्वच्छ हुई स्थिति में देखा जा सकता है।

पढ़ना जारी रखें “झील के साथ ही खूबसूरत झरने भी बन सकते हैं नैनीताल की पहचान”

सरकार की गलती व पंतनगर विवि की वादाखिलाफी से कुमाऊं विवि के छात्रों का भविष्य अधर में


Kumaon University Vice Chancellor Pr. Hoshiyar Singh Dhami
Kumaon University Vice Chancellor Pr. Hoshiyar Singh Dhami
  • हल्द्वानी के एमबी डिग्री कालेज तथा पिथौरागढ़ व बागेश्वर महाविKumaon Universityद्यालयों को लोक सभा चुनाव के संचालन को लंबे समय के लिए लेने के कारण देर से हो पाई परीक्षाएं
  • पंतनगर विवि ने कुमाऊं विवि की परीक्षाओं से पहले ही करा दी काउंसिलिंग, और पहले प्रोविजनल और बाद में ऑरिजिनल मार्कशीट लाने को कहा, लेकिन पहले ही भर दी पूरी सीटें
नवीन जोशी, नैनीताल। कुमाऊं विवि के सैकड़ों छात्र-छात्राएं इस वर्ष उच्च मैरिट के बावजूद पंतनगर विवि में प्रवेश से वंचित हो गए हैं। पंतनगर विवि ने पूर्व में कुमाऊं विवि के कुलपति से इस बाबत किए गए वादे को न निभाते हुए यहां के छात्रों को प्रवेश देने के मार्ग कमोबेश बंद कर दिए हैं।
उल्लेखनीय है कि कुमाऊं विवि ने मूलतः अपने शैक्षणिक कलेंडर के आधार पर अप्रैल माह में वार्षिक परीक्षाएं निर्धारित की थीं, और लोक सभा चुनावों के मद्देनजर व्यवस्था करते हुए परीक्षा दो चरणों में, पहले चरण में दो अप्रेल से 19 अप्रैल तक और चुनाव के लिए समय छो़कर 22 मई से दूसरे चरण में कराने का कार्यक्रम जारी भी कर दिया था। इस कार्यक्रम पर भी परीक्षा हो जाती तो परिणाम समय पर आ सकते थे, लेकिन केवल हल्द्वानी के एमबी डिग्री कॉलेज तथा पिथौरागढ़ व बागेश्वर महाविद्यालयों को परीक्षा संचालन के लिए जिला प्रशासन द्वारा विवि की ‘नां’ के बावजूद संबंधित जिलों के जिलाधिकारियों के द्वारा संविधान की धारा 160 का प्रयोग करते हुए 28 मार्च से 20 मई पढ़ना जारी रखें “सरकार की गलती व पंतनगर विवि की वादाखिलाफी से कुमाऊं विवि के छात्रों का भविष्य अधर में”

कैलाश मानसरोवर यात्रा ने छुवा रिकार्ड का नया ‘शिखर’


kailash mansarovar
-1981 से शुरू हुई यात्रा में 2013 को छोड़कर लगातार बन रहे हैं रिकार्ड, 2010 में 754, 11 में 761, 12 में 774 और इस वर्ष 15 दलों में ही जा चुके 776 यात्री
नवीन जोशी, नैनीताल। ‘हाई टेक’ होते जमाने में भी आस्था का कोई विकल्प नहीं है। आज भी दुनिया में यह विश्वास कायम है कि ‘प्रभु’ के दर्शन करने हों तो कठिन परीक्षा देनी ही पड़ती है। शायद इसीलिए हिंदुओं के साथ ही जैन, बौद्ध, सिक्ख और बोनपा धर्म के श्रद्धालुओं की आस्था का केंद्र, विश्व की सबसे कठिनतम और प्राचीनतम पैदल यात्राओं में शुमार 1,700 किमी लंबी कैलाश मानसरोवर की यात्रा में हर वर्ष यात्रियों की संख्या के नऐ रिकार्ड बनते जा रहे हैं। वर्ष 2012 में 774 तीर्थ यात्रियों ने इस यात्रा पर जाकर रिकार्ड का नया शिखर छुआ था, जिसे इस वर्ष इस वर्ष 2014 की यात्रा में पहली बार सर्वाधिक 18 दल इस यात्रा में शामिल हुए  909 तीर्थयात्रियों ने ही तोड़ दिया है।  पढ़ना जारी रखें “कैलाश मानसरोवर यात्रा ने छुवा रिकार्ड का नया ‘शिखर’”

आखिर अध्यादेश के पांच साल बाद जगी उत्तराखंड का राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय बनने की उम्मींद


प्रो. धामी को दिया गया राष्ट्रीय विधि विवि के सीईओ का जिम्मा

Kumaon University Vice Chancellor Pr. Hoshiyar Singh Dhami
Kumaon University Vice Chancellor Pr. Hoshiyar Singh Dhami

प्रो. धामी को कुमाऊं विवि का कुलपति बनने के कार्यकाल में मिली किसी विविद्यालय की चौथी जिम्मेदारी

नैनीताल (एसएनबी)। आखिर अध्यादेश के पांच साल बाद जगी उत्तराखंड का राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय बनने की उम्मींद बन गयी है। कुमाऊं विवि के कुलपति प्रो. होशियार सिंह धामी को प्रस्तावित राष्ट्रीय विधि विविद्यालय के विशेष कार्याधिकारी का दायित्व दिया गया है। यह प्रो. धामी को कुमाऊं विवि का कुलपति बनने के कार्यकाल में मिली किसी विविद्यालय की चौथी जिम्मेदारी है। इससे पूर्व उन्हें कुमाऊं विवि का दायित्व रहते पंतनगर विवि के कुलपति का भी अतिरिक्त दायित्व दिया गया था, जबकि वह वर्तमान में अल्मोड़ा में प्रस्तावित आवासीय विवि की स्थापना का दायित्व का भी पूरा दायित्व संभाले हुए हैं, जबकि अब उन्हें एक अन्य, राष्ट्रीय विधि विवि की जिम्मेदारी दी गई है। प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा एस रामास्वामी की ओर से इस बाबत जारी कार्यालय ज्ञाप में कहा गया है कि प्रो. धामी कुमाऊं विवि का दायित्व देखते हुए राष्ट्रीय विधि विवि की स्थापना से संबंधित समस्त कायरे का संपादन भी करेंगे। उल्लेखनीय है कि देश का 15वां राष्ट्रीय विधि विवि भवाली में प्रस्तावित है। नैनीताल में उत्तराखंड उच्च न्यायालय होने के मद्देनजर इसकी काफी आवश्यकता महसूस की जा रही है। उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय विधि विवि का शासनादेश चार नवम्बर 2010 में जारी हा गया है।

राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय के लिए न्यायालय ने नियुक्त किया ओएसडी

-नैनीताल जनपद के भवाली में होना है स्थापित, 2010 में जारी हुआ था असाधारण गजट व अध्यादेश
नवीन जोशी, नैनीताल। उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने उत्तराखंड राज्य को चार वर्ष पूर्व केंद्र सरकार से स्वीकृति के बावजूद स्थापना की बाट जोह रहे आईएमए या केंद्रीय विवि सरीखा राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय (नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी ऑफ उत्तराखंड) के तोहफे को अमली जामा पहनाने के लिए विशेष कार्याधिकारी नियुक्त कर दिया है। शुक्रवार(4th October 2015) को मामले में वरिष्ठ अधिवक्ता डा. भूपाल सिंह भाकुनी व एक अन्य वरिष्ठ अधिवक्ता पूर्व सांसद डा. महेंद्र पाल की जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति वीके बिष्ट एवं न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया की संयुक्त खंडपीठ ने अपर शिक्षा निदेशक उच्च शिक्षा अजय अग्रवाल को भवाली में प्रस्तावित राष्ट्रीय विधि विवि का विशेष कार्याधिकारी नियुक्त कर दिया है। श्री अग्रवाल से विवि की स्थापना के लिए जमीन अधिगृहीत करने सहित इसकी स्थापना के लिए अन्य जरूरी जिम्मेदारियां निभाने को कहा गया है। इसी मामले में एक अन्य वरिष्ठ अधिवक्ता पूर्व सांसद डा. महेंद्र पाल ने भी जल्द राष्ट्रीय विधि विवि की स्थापना के लिए उच्च न्यायालय में जनहित याचिका दायर की है। संयुक्त खंडपीठ ने दोनों याचिकाओं को एक साथ संबद्ध करते हुए मामले की अगली सुनवाई के लिए 18 दिसंबर की तिथि नियत कर दी है।

पढ़ना जारी रखें “आखिर अध्यादेश के पांच साल बाद जगी उत्तराखंड का राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय बनने की उम्मींद”

गजबः नैनीताल जिला पंचायत में जीत कांग्रेस की पर जीते भाजपाई


 
Yashpal Arya Hugged Dr. Indira Hridyesh and Sumitra Prasad, just after winning Nainital Jila Panchayat President Election
Yashpal Arya Hugged Dr. Indira Hridyesh and Sumitra Prasad, just after winning Nainital Jila Panchayat President Election

-विजयी अध्यक्ष सुमित्रा प्रसाद व उपाध्यक्ष पुष्कर नयाल दोनों ने भाजपा के चुनाव चिह्न पर जीता था जिला पंचायत का चुनाव

नवीन जोशी, नैनीताल। जी हां, यकीनन नैनीताल जिला पंचायत में कांग्रेस की ओर से घोषित अध्यक्ष पद प्रत्याशी सुमित्रा प्रसाद और उपाध्यक्ष पद पर पुष्कर नयाल ने चुनाव जीता है, लेकिन दोनों विजयी सदस्य न केवल मूलतः भाजपाई रहे हैं, वरन उन्होंने चुनाव लड़ने के लिए जिला पंचायत सदस्य बनने की अर्हता धुर विरोधी भारतीय जनता पार्टी के चुनाव चिह्न कमल के फूल पर चुनाव लड़ कर अर्जित की है। वरन, उपाध्यक्ष बने पुष्कर नयाल ने तो स्वयं को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का सक्रिय कार्यकर्ता भी बताया है। कांग्रेस प्रत्याशियों की विजय में योगदान देने वाले कम से कम दो सदस्य प्रताप गोरखा और कृष्णानंद कांडपाल भी मूलतः भाजपाई रहे हैं। पढ़ना जारी रखें “गजबः नैनीताल जिला पंचायत में जीत कांग्रेस की पर जीते भाजपाई”

ग्लास्गो में ‘कैच’ हुआ नैनीताल का एक ‘सिक्सर किंग’


राजीव मेहता
राजीव मेहता
  • डीएसए मैदान में मारे गए छक्कों जैसा ही रोमांचक रहा है भारतीय ओलंपिक संघ के अध्यक्ष राजीव मेहता का खेल सफर
  • उत्तराखंड में खेलों के एकछत्र आधिपत्य है राजीव मेहता का, पूर्व ओलपिंक संघ अध्यक्ष सुरेश कलमाड़ी से है काफी नजदीकी संबंध

नवीन जोशी, नैनीताल। कोई बल्लेबाज जब क्रिकेट के मैदान में गैंद को बहुत ऊंचा उठाता है तो गैंद के सीमा पार सर्वोच्च स्कोर छह रन प्राप्त करने अथवा सीमा पर या कहीं भी कैच पकड़े जाने की बराबर संभावना रहती है। रविवार को ग्लास्गो में शराब पीकर पक़डे जाने से देश को शर्मशार करने वाले भारतीय ओलंपिक संघ के महासचिव राजीव मेहता का खेल सफर भी छक्कों के लिए उछाली गई गैंद जैसा ही रोमांचक रहा है। पढ़ना जारी रखें “ग्लास्गो में ‘कैच’ हुआ नैनीताल का एक ‘सिक्सर किंग’”