पाषाण युग से यायावरी का केंद्र रहा है कुमाऊं


Lakhu udiyar (3)

-पाषाणयुगीन हस्तकला को संजोए लखु उडियार से लेकर रामायण व महाभारत काल में हनुमान व पांडवों से लेकर प्रसिद्ध चीनी यात्री ह्वेनसांग, आदि गुरु शंकराचार्य, राजर्षि विवेकानंद, महात्मा गांधी व रवींद्रनाथ टैगोर सहित अनेकानेक ख्याति प्राप्त जनों के कदम पड़े

-इनके पथों को भी विकसित किया जाए तो लग सकते हैं कुमाऊं के पर्यटन को पंख
नवीन जोशी, नैनीताल। जी हां, उत्तराखंड का प्राकृतिक व सांस्कृतिक तौर पर समृद्ध कुमाऊं अंचल युग-युगों से प्रकृति की गोद में ज्ञान और शांति की तलाश में आने वाले लोगों की सैरगाह और पर्यटन के लिए पहली पसंद रहा है। पाषाण युग की हस्तकला आज भी यहां अल्मोडा के पास लखु उडियार नाम के स्थान पर सुरक्षित है जो उस दौर में भी यहां मानव कदमों के पड़ने और उनकी कला प्रियता के साक्षी हैं। त्रेता युग में रामायण के कई चरित्र व महाभारत काल में कौरव-पांडवों से लेकर आगे प्रसिद्ध चीनी यात्री ह्वेनसांग, आदि गुरु शंकराचार्य, राजर्षि स्वामी विवेकानंद, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर, घुमक्कड़ी साहित्य लेखक राहुल सांस्कृत्यायन, सुप्रसिद्ध छायावादी कवयित्री महादेवी वर्मा सहित अनेकानेक ख्याति प्राप्त जनों के कदम यहां पड़े। वहीं स्कंद पुराण के मानसखंड में देवभूमि के रूप में वर्णित अनेकों धार्मिक महत्व के स्थलों से लेकर दुनिया के सबसे ऊंचे श्वेत-धवल नगाधिराज हिमालय पर्वत के अलग-अलग कोणों से सुंदरता के साथ दर्शन कराने वाले और अपनी आबोहवा से बीमार मानवों को प्राकृतिक उपचार से नवयौवन प्रदान करने तथा समृद्ध जैव विविधता और वन्य जीवों से परिपूर्ण जिम कार्बेट पार्क व अस्कोट मृग विहार जैसी अनेकों खूबियों वाले यहां के सुंदर पर्यटन स्थल मानव ही नहीं, पक्षियों को भी आकर्षित करते हैं, और इस कारण पक्षियों के भी पसंदीदा प्रवास स्थल हैं। कुमाऊं में इनके अलावा भी अपनी अलग वास्तुकला, सदाबहार फल-फूल, समृद्ध जैव विविधता के साथ ईको-टूरिज्म तथा ऐसी अनेकों विशिष्टताएं (आधुनिक पर्यटन के लिहाज से यूएसपी) हैं कि इनका जरा भी प्रयोग किया जाए तो कुमाऊं में वर्ष भर कल्पना से भी अधिक संख्या में पर्यटक आ सकते हैं।

पाषाण युग से बात शुरू करें तो अल्मोड़ा से आगे पेटशाल के पास सुयाल नदी के तट पर एक लाख गुफाओं (उडियारों) का समग्र बताए जाने वाले स्थान उस दौर के आदि मानवों द्वारा विशाल चट्टान पर निर्मित भित्ति चित्रों से आकर्षित और आश्चर्यचकित करता है। वहीं त्रेता युग में यहीं दूनागिरि के पास महाबली हनुमान को श्रीराम के अनुज लक्ष्मण को बचाने के लिए संजीवनी बूटी मिली थी। यहीं सीताबनी-रामनगर में सीता को बनवास के दौरान महर्षि वशिष्ठ के आश्रम में आश्रय मिला था। यहीं द्वापर युग में पांडवों के कुमाऊं आगमन की पुष्टि भीमताल, पांडुखोला, पनुवानौला, पांडुथल व कैरूथल जैसे अनेक स्थानों के नामों से होती है। वहीं कुमाऊं का काशीपुर क्षेत्र न केवल चीनी चात्री ह्वेनसांग और फाहियान के पथ का पाथेय रहा वरन यहां मौजूद प्राचीन गोविषाण किला व पंचायतन मंदिर क्षेत्र पूरी बौद्ध कालीन पुरातात्विक विरासत का गवाह रहा है। इधर हल्द्वानी के पास गहन नीरव वन में स्थित कालीचौड़ मंदिर आदि गुरु शंकराचार्य का उत्तराखंड में प्रथम पड़ाव रहा है, और यहीं पास ही भुजियाघाट से अंदर जंगल में महर्षि मार्कंडेय के आश्रम के अवेशेष आज भी मौजूद हैं। एक साधारण से भिक्षुक नरेंद्र को एक अणु में ब्रह्मांड का दर्शन कराकर राजर्षि विवेकानंद बनाने वाला पीपल का ‘बोधिवृक्ष” आज भी यहां हल्द्वानी-अल्मोड़ा रोड पर काकड़ीघाट में मौजूद है। यहां नैनीताल आकर देश को लूटने व राज करने वाले अंग्रेजों को भी अपना घर ‘छोटी बिलायत” नजर आया, तो यहीं के ‘मैन ईटर्स ऑफ कुमाऊं” ने एक शिकारी को अंतराष्ट्रीय पर्यावरणविद् व लेखक जिम कार्बेट बना दिया। यहीं कौसानी में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को ‘भारत के स्विटजरलेंड” के दर्शन हुए तो गुरुदेव रवींद्र नाथ टैगोर को यहां रामगढ़ के टैगोर टॉप में और सुप्रसिद्ध छायावादी कवयित्री महादेवी वर्मा को पास ही उमागढ़ में साहित्य साधना के लिए उपयुक्त ठौर मिला और घुमक्कड़ी साहित्यकार राहुल साहित्यकार को भी यहीं ‘ठेले पर हिमालय” दिखा। यहीं उत्तराखंड की काशी-बागेश्वर, देश का सबसे बड़ा मंदिर समूह-जागेश्वर, नैना देवी व पूर्णागिरि शक्तिपीठ, सारे संसार से इतर ‘सार संसार-एक मुन्स्यार” कहा जाने वाला मुन्स्यारी, प्राकृतिक सुंदरता के साथ ही चाय के बागानों के लिए मशहूर चौकोड़ी-बेरीनाग, उत्तराखंड का कश्मीर-पिथौरागढ़, संस्कृति के साथ ही चंद व कत्यूरी शासकों की राजधानी व स्थापत्य कला के केद्र-चंपावत, अल्मोड़ा, द्वाराहाट, कोणार्क से भी पुराना बताया जाने वाला अथवा समकालीन कटारमल सूर्य मंदिर, अपनी खूबसूरत लोकेशन के लिए 60 के दशक में फिल्म निर्माताओं की पहली पसंद रहा रानीखेत, जैव विविधता के साथ ही हिमालय और सूर्यास्त के दृश्यों के लिए विख्यात मुक्तेश्वर और बिन्सर, सातताल, नल दमयंती ताल, नौकुचियाताल, खुर्पापाल, सरियाताल, हरीशताल व लोहाखामताल आदि झीलों का समग्र-नैनीताल, पक्षी प्रेमियों के लिए ‘इंटरनेशनल बर्ड डेस्टीनेशन’ के रूप में विकसित होने जा रहा किलवरी-पंगोट-विनायक क्षेत्र, आज भी अनूठे पत्थर युद्ध-बग्वाल से पाषाणयुग की याद दिलाने वाला देवीधूरा, नागों की भूमि-बेरीनाग, न्याय के देवी-देवताओं के स्थान घोड़ाखाल, चितई और कोटगाड़ी, बाबा नींब करौरी का कैंची धाम, हैड़ाखान बाबा के हैड़ाखान व चिलियानौला, सोमवारी बाबा के धारी आश्रम तथा मायावती अद्वैत व नारायण आश्रम, सिख धर्म के प्रसिद्ध स्थल नानकमत्ता और रीठा साहिब के साथ ही हर स्थल अपनी एक अलग विशेषता और खूबसूरती के लिए प्रसिद्ध है। इसके अलावा भी साहसिक पर्यटन के शौकीनों के लिए यहां पिंडारी, सुंदरढूंगा, काफनी व मिलम ग्लेशियरों के साथ ही आदि कैलाश व कैलाश मानसरोवर के ट्रेक, सरयू व कोसी नदियों पर बागेश्वर व पंचेश्वर में रीवर राफ्टिंग, नौकुचियाताल में पैराग्लाइडिंग तथा मुन्स्यारी में स्नो स्कीइंग की सुविधाएं भी उपलब्ध हैं। कुमाऊं हवाई यातायात से पंतनगर तथा रेलवे से रामनगर, काठगोदाम व टनकपुर तक जबकि सड़क यातायात से सभी प्रमुख स्थानों तक जुड़ा हुआ है।

कुमाऊं के और फोटो और आलेख यहाँ देखें : कुमाऊं समग्र

Advertisements

5 responses to “पाषाण युग से यायावरी का केंद्र रहा है कुमाऊं

  1. पिंगबैक: क्या आपको पता है नैनीताल में कहां है देवगुरु बृहस्पति का मंदिर, और किस गांव में हुई थी मधुमती फिल्·

  2. पिंगबैक: भगवान राम की नगरी के समीप माता सीता का वन ‘सीतावनी’ | हम तो ठैरे UTTARAKHAND Lovers, हम बताते हैं नैनीताल की खिड़·

  3. पिंगबैक: महेश खान: यानी प्रकृति और जैव विविधता की खान | हम तो ठैरे UTTARAKHAND Lovers, हम बताते हैं नैनीताल की खिड़की से दे·

  4. पिंगबैक: महेश खान: यानी प्रकृति और जैव विविधता की खान | हम तो ठैरे UTTARAKHAND Lovers, हम बताते हैं नैनीताल की खिड़की से दे·

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s