भारत एवम् विश्व


अरब सागर पर अपना दावा ठोक सकेगा भारत!

-अमेरिका की अगुआई में चल रहा है अध्ययन, अरब सागर और भारतीय प्रायद्वीप की चट्टानों में समानता मिलने की है संभावना

-परियोजना में भारत के आठ वैज्ञानिक शामिल, जिनमें कुमाऊं विवि के भूविज्ञानी एवं वाडिया संस्थान के शोध छात्र भी

-सामरिक दृष्टिकोण से भारत के लिए हो सकता है अत्यधिक महत्वपूर्ण

प्रो.जी.के.शर्मा

प्रो.जी.के.शर्मा

नवीन जोशी, नैनीताल। अमेरिका की एक परियोजना के तहत हो रहे भू-वैज्ञानिक महत्व के शोध भारत के लिए सामरिक दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं। इस परियोजना के तहत प्रारंभिक आकलनों के अनुसार अरब सागर भारतीय प्रायद्वीप की चट्टानों से ही बना हो सकता है। यदि यह आकलन अपने निष्कर्षो पर इसी रूप में पहुंचे तो भारत अरब सागर पर अपना दावा ठोक सकता है और इस पर अमेरिका का भी स्पष्ट तौर पर जुड़ाव होने की वजह से विश्व बिरादरी की मुहर भी आसानी से लग सकती है। कुल मिलाकर यह परियोजना भारत को बड़ा सामरिक लाभ दिला सकती है।अरब सागर भारत के दक्षिण पश्चिम में करीब 38.62 लाख वर्ग किमी में फैला है और करीब 2400 किमी यानी करीब 1500 नॉटिकल मील (सामुिद्रक दूरी मापने की इकाई) की चौड़ाई में स्थित है। हिमालय से निकलकर भारत से होते हुए पाकिस्तान से इसमें आने वाली प्रमुख नदी सिंधु के नाम पर इसका प्राचीन भारतीय नाम ‘सिंधु सागर’ था, लेकिन बाद में अंग्रेजी दौर में इसका नाम अरब सागर, उर्दू व फारसी में बह्न-अल-अरब और यूनानी भूगोलवेत्ताओं के द्वारा इरीरियन सागर भी कहा जाता है। बहरहाल अमेरिका की एक परियोजना-‘ज्वॉइंट इंटीग्रेटेड ओसेन ड्रिलिंग प्रोग्रोम’ के तहत अरब सागर की भूसतह की चट्टानों का भारतीय सतह से मिलान किया जा रहा है। इस परियोजना में अमेरिका सहित जर्मनी, जापान व भारत के करीब 36 अलग-अलग क्षेत्रों में महारत रखने वाले भूवैज्ञानिक शामिल हैं। भारत की इस परियोजना में 50 फीसद की वित्तीय भागेदारी के साथ अत्यधिक महत्वपूर्ण भूमिका है। इसमें उत्तराखंड से कुमाऊं विवि के भू-विज्ञान विभाग के प्रोफेसर जीके शर्मा तथा वाडिया इंस्टीटय़ूट देहरादून के एक शोध छात्र अनिल कुमार सहित भारत के सर्वाधिक आठ वैज्ञानिक शामिल हैं। प्रोजेक्ट में भारत के एक वैज्ञानिक को सह टीम लीडर की हैसियत भी प्राप्त है। परियोजना में शामिल प्रो. शर्मा बताते हैं इस परियोजना के तहत भूवैज्ञानिकों की टीम पूरे दो माह अरब सागर में रहकर लौटी है। परियोजना के तहत उनके जिम्मे अरब सागर की सतह पर पाई जाने वाली ‘रेडियो लेरिया’ नाम की ‘माइक्रो फॉसिल’ यानी एक तरह का जीवाश्म है, जिसके जरिये वह इस जीवाश्म का भारत के तमिलनाडु में पाई जाने वाली देश की करीब 12 अरब वर्ष पुरानी चट्टानों से संबंध स्थापित करने का प्रयास कर रहे हैं। इसके अलावा अन्य वैज्ञानिक करीब 15-20 प्रकार की अरब सागर की भू-सतह की मूल ‘इग्नियस’ यानी आग्नेय और ‘मेटा मॉर्फिक’ यानी कायांतरित चट्टानों तथा उन पर ताजा मिट्टी के जमाव का अलग-अलग दृष्टिकोणों से अध्ययन करेंगे। अपने अध्ययनों से वह प्रारंभिक तौर पर कह सकते हैं कि भारत के तमिलनाडु और अरब सागर की गहराइयों में मौजूद चट्टानों में समानता हो सकती है।

पेट्रोलियम भंडार का भी खुल सकता है राज

नैनीताल। प्रो. जीके शर्मा के अनुसार उनके द्वारा किए जा रहे ‘रेडियो लेरिया’ नाम की ‘माइक्रो फॉसिल’ के अध्ययन में भारत और तमिलनाडु की चट्टानों की एकरूपता के साथ ही इस जीवाश्म से ही पेट्रोलियम पदार्थो व गैस इत्यादि के बारे में काफी जानकारी प्राप्त हो सकती है कि यह पदार्थ अरब सागर में कितनी गहराई में और कहां हो सकते हैं। उल्लेखनीय है कि प्रो. शर्मा पूर्व में अंटार्कटिक महासागर और भारती चट्टानों की एकरूपता की जांच भी कर चुके हैं, तथा उन्हें दुनिया के सभी समुद्रों में जाकर शोध अध्ययन करने का गौरव भी प्राप्त है।

भारत के मजबूत हुए बिना देश की विदेश नीति की सफलता संदिग्ध

प्रो. एसडी मुनि

-दक्षिण एशियाई मामलों के विशेषज्ञ जवाहर लाल नेहरू विवि के प्रोफेसर एसडी मुनि ने कहा-अमेरिका व रूस की नजदीकी भारत के हित में
-चीन के बाबत कहा कि 15वीं-18वीं सदी तक भारत के बराबर व पीछे रहा चीन आगे निकलते ही संबंध खराब कर रहा
-पाकिस्तानी सेना तिजारत और सियासत से दूर हो तभी पाकिस्तान का और भारत से उसके संबंधों का हो सकता है भला
नवीन जोशी। नैनीताल। दक्षिण एशियाई मामलों के विशेषज्ञ एवं जवाहर लाल नेहरू विवि के प्रोफेसर एसडी मुनि ने कहा कि भारत काफी हद तक आर्थिक व सामरिक मोर्चों पर मजबूत हुआ है, बावजूद अभी देश ने वह स्तर नहीं छुवा है कि दुनिया के देश उसकी सुन पायें। इसी कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को अपने शपथ ग्रहण समारोह में बुलाने व स्वयं उनके पारिवारिक समारोह में पाकिस्तान जाने व चीन के राष्ट्रपति शी के साथ झूला झूलने जैसे डिप्लोमैटिक उपाय भी इन देशों के साथ बेहतर रिश्ते नहीं बना सके। उन्होंने अमेरिका व रूस के बीच राष्ट्रपति ट्रम्प के आने के बाद बढ़ रही नजदीकी को भारत के हक में बताया। कहा कि ऐसा होने से रूस की चीन पर निर्भरता घटेगी। साथ ही कहा कि ओबामा के दोस्ती के दौर के बावजूद अमेरिका कभी भारत के लिये रूस जितना विश्वस्त नहीं रहा। पाकिस्तान पर उन्होंने कहा, ‘जब तक पाकिस्तानी फौज तिजारत व सियासत से अलग नहीं होती, तब तक भारत-पाकिस्तान के संबंध नहीं सुधर सकते।’ भारत चीन संबंधों पर उन्होंने टिप्पणी की कि 15वीं शताब्दी तक चीन ‘सोने की चिड़िया’ और बुद्ध की धरती रहे भारत से आर्थिक, सामाजिक व सामरिक स्तर पर पीछे और 15वीं से 18वीं सदी तक बराबर रहा। तब भारत-चीन के बीच बेहतर संबंध रहे। किंतु इधर भारत से आगे निकल रहा चीन आंखें तरेर रहा है। कहा कि भारत की विदेश नीति तभी सफल हो सकती है, जबकि वह स्वयं को और अधिक मजबूत करे।
प्रो. मुनि ने कहा कि कहा कि भारत आज दुनिया का सबसे युवा, सशक्त, सबसे बड़े बाजार युक्त व विश्वस्त देश है। उसे अपनी इन ताकतों के साथ विश्व राजनीति में आगे बढ़ना होगा। कहा कि पाकिस्तान की समस्या का कोई इलाज संभव नहीं है। भारत और पाकिस्तान के बुरे संबंध पाकिस्तान की फौज की आंतरिक समस्या में निहित हैं। इसलिये इसका कोई निदान संभव नहीं है। सिवाय इसके कि भारत स्वयं अत्यधिक मजबूत होकर उसे विश्व बिरादरी से अलग-थलग कर दे। वहीं चीन से भारत के संबंध तभी मजबूत हो सकते हैं, जब भारत चीन से अधिक शक्तिशाली हो जाये, और दक्षिण एशिया के अपने पड़ोसी देशों को चीन के मदद के बहाने घुसने से दूर रख पाये, तथा चीन को दलाईलामा से बात करने को मजबूर कर सके। उसे अपनी ‘लुक ईस्ट पॉलिसी’ से हुई ‘एक्ट ईस्ट पॉलिसी’ पर कार्य करके दक्षिण पूर्व के मित्र देशों को भी अपने साथ एकजुट रखना और पड़ोसियों से संबंधों को और प्रगाढ़ करना होगा। अमेरिका व भारत के रिस्तों के बाबत उन्होंने कहा कि 1949 में नेहरू के पहले अमेरिकी दौरे से ही भारत अमेरिका से बेहतर संबंधों का पक्षधर रहा, और ये संबंध ओबामा-मोदी के साथ परवान चढ़े।

ओसामा के पतन के बाद भारत को चीन-पाक से खतरा बढ़ा : ले.ज. भंडारी

राज्य की सीमाओं पर सुरक्षा को लेकर संवेदनशील रहे सरकार
भारत को अमेरिका, चीन, पाक और रूस से जारी रखनी चाहिए वार्ता
नवीन जोशी, नैनीताल। परम विशिष्ट व अति विशिष्ट सेवा मेडल प्राप्त सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल डा. एमसी भंडारी ने आशंका जताई कि ओसामा की मौत के बाद भारत पर दोतरफा खतरा है। पाकिस्तान से आतंकियों की आमद के साथ चीन भी भारत की ओर बढ़ सकता है। डा. भंडारी ने कहा कि भारत पांच-छह वर्षो में दुनिया की आर्थिक सुपर पावर बन सकता है। इसलिए उसे इस अवधि में कूटनीति का परिचय देते हुए अमेरिका, चीन, पाकिस्तान व रूस सहित सभी देशों से बातचीत जारी रखनी चाहिए। 
कुमाऊं विवि के अकादमिक स्टाफ कालेज में कार्यक्रम में आए डा. भंडारी ने ‘राष्ट्रीय सहारा’ से कहा कि ओसामा बिन लादेन के बाद पाक अधिकृत कश्मीर में चल रहे 32 शिविरों से प्रशिक्षित आतंकी दो-तीन माह में भारत की तरफ कूच कर सकते हैं। कश्मीर में शांति पाकिस्तान की ‘जेहाद फैक्टरी’ में बैठे लोगों को रास नहीं आएगी। ओसामा ने भी कश्मीर में जेहाद की इच्छा जताई थी। उधर चूंकि पाकिस्तान बिखर रहा है, इसलिए तालिबानी- पाकिस्तानी भी यहां घुसपैठ कर सकते हैं। पाक पहले ही गिलगिट व स्काई क्षेत्रों में अनधिकृत कब्जा कर चुका है, दूसरी ओर चीन के 10 से 15 हजार सैनिक ‘पीओके’ में पहुंच चुके हैं, पाकिस्तान ने उन्हें सियाचिन के ऊपर का करीब 5,180 वर्ग किमी भू भाग दे दिया है, ऐसे में चीन तिब्बत के बाद भारत के अक्साई चिन व नादर्न एरिया तक हड़पने का मंसूबा पाले हुए है। उन्होंने कहा कि चीन ने यहां उत्तराखंड के चमोली जिले के बाड़ाहोती में 543 वर्ग किमी व पिथौरागढ़ के कालापानी में 52 वर्ग किमी क्षेत्र को अपने नक्शे में दिखाना प्रारंभ कर दिया है। ऐसे में उत्तराखंड में अत्यधिक सतर्कता बरतने व सीमावर्ती क्षेत्रों से पलायन रोकने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में चीन के घुसने की संभावना वाले 11 दर्रे हैं, जिनके पास तक चीन पहुंच गया है, और भारतीय क्षेत्र जनसंख्या विहीन होते जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में सीमाओं की सुरक्षा मुख्यमंत्री देखें और वह सीधे प्रधानमंत्री से जुड़ें। साथ ही उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के बावजूद 10 फीसद की विकास दर वाला भारत अगले पांच-छह वर्षो में सुपर पावर बन सकता है, इसलिए उसे इस अवधि में सभी देशों से कूटनीतिक मित्रता करनी चाहिए और अपने यहां सीमाओं की सुरक्षा दीवार मजबूत करनी चाहिए, ताकि बिखरते पाकिस्तान के बाद जब अमेरिका, चीन मजबूत होते भारत की ओर आंख उठाएं, वह मुंहतोड़ जवाब देने को तैयार हो जाए। उन्होंने भारत में सेना का बजट जीडीपी का 2.1 फीसद (64 हजार लाख रुपये) को बढ़ाने की जरूरत पर बल दिया।
Advertisements

5 responses to “भारत एवम् विश्व

  1. पिंगबैक: अरब सागर पर अपना दावा ठोक सकेगा भारत! | oshriradhekrishnabole·

  2. पिंगबैक: विभिन्न विषयों पर अधिक पसंद किए गए ब्लॉग पोस्ट | हम तो ठैरे UTTARAKHAND Lovers, हम बताते हैं नैनीताल की खिड़की स·

  3. पिंगबैक: विभिन्न विषयों पर अधिक पसंद किए गए ब्लॉग पोस्ट | नवीन समाचार : हम बताएंगे नैनीताल की खिड़की से देवभू·

  4. पिंगबैक: तरुण विजय ने पूरा किया कुमाऊं विवि में नैनो साइंस एवं नैनो तकनीकी केंद्र का सपना | नवीन समाचार : हम ·

  5. पिंगबैक: ‘प्रोक्सिमा-बी’ पर जीवन की संभावनाओं के प्रति बहुत आशान्वित नहीं वैज्ञानिक – नवीन समाचार : ह·

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s