अब बनाइये ऐसे बंबू हट, जिन पर गोली, आग व भूकंप का भी असर न होगा


Bamboo Huts at Maheshkhan
महेशखान में वन विभाग के बम्बू हट
Interior of Bamboo Huts at Maheshkhan
महेशखान में वन विभाग के बम्बू हट का इंटीरियर

-नैनीताल स्थित चिड़ियाघर में ऐसा ही एक बंबू हट, जो है पूरी तरह ईको फ्रेंडली तथा बारिश, सर्दी-गर्मी व बारिश के प्रभावों से भी सुरक्षित
नवीन जोशी, नैनीताल। पहाड़ों पर सीमेंट, सरिया की जगह हल्की संरचना के, पारिस्थितिकी के अनुकूल यानी ईको-फ्रेंडली घर बनाने की जरूरत तो बहुत जतायी जाती है, और इसके लिये बंबू हट यानी बांश के बनों घरों का विकल्प सुझाया भी जाता है, लेकिन बंबू हट एक सुरक्षित घरों की जरूरतों को पूरा नहीं करते। उनमें जल्द बारिश-नमी की वजह से फफूंद लग जाती है। बांश की लकड़ी को दीपक भी कुछ वर्षों के भीतर चट कर जाती है, और बांश की खपच्चियों के बीच से सर्द हवायें भीतर आकर बाहर जैसी ही ठंड कर देती हैं। वहीं ऐसे घरों में आग लगने, हल्के धक्कों में भी इसकी दीवारों को तोड़कर किसी के भी भीतर घुस जाने जैसे अन्य तमाम खतरे भी बने रहते हैं। लेकिन अब आप चाहें तो बांश से ही पूरी तरह ईको फ्रेंडली के साथ ही पूरी तरह सुरक्षित बंबू हट बनाने की अपनी ख्वाहिश आम घरों से कम कीमत में पूरी कर सकते हैं। ऐसा ही एक बंबू हट मुख्यालय स्थित नैनीताल जू में रिसेप्सन, टिकट काउंटर व सोविनियर शॉप के लिये इन दिनों निर्मित किया जा रहा है।

इन बंबू हट के निर्माताओं के दावों को सही मानें तो यह बंबू हट रिक्टर स्केल पर 9.5 यानी अधिकतम तीव्रता के भूकंप के लिये परीक्षित यानी टेस्टेड हैं। इस प्रकार यह पूरी तरह भूकंपरोधी है। इनका उपयोग लेह-लद्दाख में सेना के बंकरों के रूप में भी किया जाता है, जहां यह बारिश-बर्फवारी के साथ ही दुश्मन की गोलियों से भी न केवल पूरी तरह सुरक्षित हैं, वरन इनके भीतर बाहरी मौसम का भी कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। बांश चूंकि घास की श्रेणी में आता है, और इन हट्स के निर्माण में बांश की जिन एक तरह की प्लाईवुड जैसी ही कंपोजिट शीट्स का प्रयोग किया जाता है, उनमें 99 फीसद बांश को ही प्रयोग करने का दावा किया जाता है, इस प्रकार इनके निर्माण के लिये एक भी पेड़ को काटने तथा र्इंट, सीमेंट, कंक्रीट व लोहे आदि का प्रयोग नहीं किया जाता है।

नैनीताल चिड़ियाघर में बम्बू कंपोजिट शीट्स से बन रहा भवन
नैनीताल चिड़ियाघर में बम्बू कंपोजिट शीट्स से बन रहा भवन

इसका ढांचा आम सीमेंट-कंक्रीट के घरों के मुकाबले बेहद हल्का भी होता है। दीवारों में बांश की शीट्स के बीच ग्लाशवूल का प्रयोग किया जाता है, जिससे बाहर के मौसम, सर्दी-गर्मी का प्रभाव नहीं पड़ता है, इस प्रकार इनके भीतर सर्दियों में अपेक्षाकृत गर्मी और गर्मियों में अपेक्षाकृत ठंड रहती है, तथा गर्मी या ठंड के उपकरणों-एसी आदि की भी जरूरत नहीं पड़ती है। बांश की कंपोजिट शीट्स इस तरह अत्यधिक दबाव की तकनीक से निर्मित की जाती हैं कि इसे स्टील से भी अधिक घनत्व का होने का दावा भी किया जा रहा है। इस कारण इस पर बहुत प्रयास से भी कील नहीं ठुक पातीं, और ड्रिल मशीन से कील ठोंकनी पड़ती हैं। इस कारण यह फफूंद, दीमक और बारिश-नमी से भी पूरी तरह सुरक्षित बताया गया है। इसकी कीमत फर्श के क्षेत्रफल के आधार पर करीब दो हजार रुपये वर्ग फीट आती है। इस प्रकार 100 वर्ग फीट क्षेत्रफल का घर करीब दो लाख रुपये में बन जाता है, जो कि सामान्य घरों के निर्माण की कीमत से अधिक नहीं है। दिखने में भी यह घर बेहद सुंदर एवं यूरोपीय डीएफओ पराग मधुकर धकाते ने बताया कि नैनीताल चिड़ियाघर में वार्षिक योजना के करीब 20 लाख रुपये की लागत से चिड़ियाघर में निर्माण किये जा रहे हैं। हल्द्वानी के तराई-पश्चिमी वृत्त का डीएफओ कार्यालय भी इस तकनीक से बनाया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि वन विभाग के इको पर्यटन स्थल महेशखान स्थित वन विश्राम गृह में पहले से ही बम्बू हट उपलब्ध हैं।

यह भी पढ़ें: महेश खान: यानी प्रकृति और जैव विविधता की खान

महेशखान सम्बंधित चित्रों के लिए यहाँ क्लिक करें।

महेशखान में वन विभाग के बम्बू हट का इंटीरियर
महेशखान में वन विभाग के बम्बू हट का इंटीरियर

भारत सरकार से प्रमाणित है यह पद्धति

नैनीताल। डीएफओ पराग मधुकर धकाते ने बताया कि जिस तकनीक से नैनीताल चिड़ियाघर में रिसेप्सन सेंटर बन रहा है, वह भारत सरकार से न केवल प्रमाणित है, वरन सरकार इसे प्रोत्साहन दे रही है। इसी कारण वर्तमान में इसकी दर भी कम है। बांश की कंपोजिट शीट्स का निर्माण नार्थ-ईस्ट सेंटर फॉर टेक्नोलॉजी एप्लीकेशन एंड रीच ‘नेक्टर‘ के द्वारा विकसित किया जा रहा है, तथा नेक्टर ही इसे आगे आगे बढ़ा रही है। इसका कार्यालय शिलांग मेघालय में है।

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s