अपने मरीजों ही नहीं, दुनिया को बचाने चला है यह डॉक्टर


डा.आशुतोष पन्त
डा.आशुतोष पन्त

15 फरवरी तक अखरोट के तीन हजार पौधे लगायेंगे पेड़ लगाने के जुनूनी डा. पंत
-अपने पिता की प्रेरणा से वर्ष 1988 से लाखों औषधीय एवं फलदार पौधे लगा चुके हैं पेशे से चिकित्सक पर्यावरण प्रेमी
-प्रतिवर्ष न्यूनतम 10 हजार पौधे लगाने का है लक्ष्य
नवीन जोशी, नैनीताल। इस वर्ष शीतकाल में अपेक्षित बर्फ नहीं गिरने से बढ़ती ग्लोबल वार्मिंग के साथ आसमान में ओजोन परत के छिद्र में लगातार वृद्धि होने, ग्रीनहाउस गैसों के बढ़ते उत्सर्जन आदि पर चिंता तो सभी करते हैं, लेकिन विरले लोग ही हैं जो इन स्थितियों से स्वयं की चिंता किये बिना पूरी धरती को बचाने का भगीरथ प्रयास कर रहे हैं। पेशे से हल्द्वानी में चिकित्सक डा. आशुतोष पंत जैसा कार्य राज्यों की पूरी सरकारें भी कर लें तो कम है। डा. पंत अपने पिता स्वर्गीय सुशील चंद्र पंत की प्रेरणा से वर्ष 1988 से लगातार अपने स्वयं के संसाधनों से यथासंभव अधिक से अधिक संख्या में औषधीय और फलदार पेड़ लगाते आ रहे हैं, और अब तक लाखों पौधे लगा चुके हैं। उनका लक्ष्य प्रतिवर्ष कम से कम दस हजार पौधे लगाने का लक्ष्य रखा है। खास बात यह भी है कि इसके लिये अब तक उन्होंने किसी भी संस्था या व्यक्ति से किसी प्रकार का कोई आर्थिक सहयोग नहीं लिया है, तथा आगे भी ऐसी कोई अपेक्षा नहीं रखते हैं। इधर उन्होंने आगामी जनवरी से 15 फरवरी 24 के बीच प्रदेश के नैनीताल, चम्पावत और टिहरी जिलों के पर्वतीय क्षेत्रों में अखरोट की अच्छी प्रजातियों के तीन हजार पौधे लगाने का ऐलान किया है। बताया कि अखरोट के पेड़ों की आयु बहुत लंबी होती है, तथा इनके रोपण से पर्यावरण को लाभ के साथा ही ग्रामीणों की अच्छी आय भी होगी। कोई भी इच्छुक व्यक्ति अपनी भूमि पर लगाने के लिए उनसे नि: शुल्क पौधे प्राप्त कर सकता है।

डा. पंत ने बताया कि उन्होंने इस वर्ष पर्वतीय क्षेत्र में शीतकालीन पौधारोपण करने का जबकि जुलाई-अगस्त में मैदानी क्षेत्र में पौधे लगाना तय किया है। इसी कड़ी में 24 जनवरी को नैनीताल के तल्ला रामगढ़ व कसियालेख क्षेत्र से इस वर्ष अभियान की शुरूआत की जाएगी। आगे इसी तरह 31 जनवरी को टिहरी जनपद में इच्छुक काश्तकारों को पौधे वितरित किये जाएंगे, तथा इसके बाद फरवरी में चम्पावत जिले में निशुल्क पौध वितरण कार्यक्रम होगा। डा. पंत का कहना है कि सभी को मिलकर इस धरती को बचाने की मुहिम में जुटना होगा वरना आने वाले कुछ सालों में यहां सांस लेना भी दूभर हो जाएगा। ग्लोबल वार्मिंग से पृथ्वी को केवल हरियाली ही बचा सकती है। हरियाली बढ़ाने के लिये हमें अधिक से अधिक पेड़ लगाने होंगे। अपने अनुभव के आधार पर वह कहते हैं कि सड़कों के किनारे, सार्वजनिक पार्कों आदि में पौधारोपण करने पर सफलता की दर अर्थात पौधे से वयस्क बनने की दर बहुत कम होती है। इसलिये पिछले कुछ वर्षाें से सफलता की दर बढ़ाने के लिए चारों ओर से दीवार से सुरक्षित विद्यालय परिसरों में पौधरोपण का प्रयास कर रहे हैं। इसके साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में भूमिधरों को उनकी जमीन में लगाने के लिए ओर शहरी क्षेत्रों में जागरूक व चिंतनशील सम्मानित को अपनी या सार्वजनिक भूमि पर लगाने के लिए पौधे भेंट करना शुरू किया है लोगों। वह कहते हैं कि हम वर्ष भर में चाहे दो-चार पेड़ ही लगाएं, पर कम से कम तीन वर्ष तक उनकी देखभाल (नियमित सिंचाई और गाय-भैंस-बकरी आदि से रक्षा) जरूर करें। इसके बाद तो पेड़ स्वयं ही हमें बहुत कुछ देने लगते हैं।

Advertisements

2 thoughts on “अपने मरीजों ही नहीं, दुनिया को बचाने चला है यह डॉक्टर

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s