15 अगस्त को ‘स्वदेशी’ का नया विश्व कीर्तिमान बनाकर देश का ‘गौरव’ बढ़ाया नैनीताल के गौरव ने !


Gaurav Siddarth

बाइकर गौरव सिद्धार्थ बिष्ट का उत्साह बढ़ाने उन्हें बाइक पर पीछे बैठाकर चलते योगगुरु बाबा रामदेव।

-एक देश में सर्वाधिक बाइकिंग का अमेरिकी बाइकर डेनेल लिन का विश्व रिकॉर्ड तोड़ा

-आगे अप्रैल 2017 तक 1.2 लाख किमी का अजेय रिकॉर्ड बनाने की है योजना
-बाइक, ग्लब्स व सुरक्षा उपकरणों से लेकर जीपीएस व हाईवे पर स्थानों की पहचान के लिए मोबाइल ऐप सहित सबकुछ भारतीय प्रयोग कर ‘मेक इन इंडिया’ को भी दे रहे बढ़ावा
नवीन जोशी, नैनीताल। देश के खिलाड़ी आज जहां रियो ओलंपिक में विश्व के खिलाड़ियों से रिकॉर्डों के लिए जूझ रहे हैं, वहीं देश में 70वां स्वतंत्रता दिवस के मौके पर नैनीताल के गौरव सिद्धार्थ बिष्ट  एक विश्व रिकार्ड को तोड़कर देश का ‘गौरव’ बढ़ाया है। एक देश में एक यात्रा में सर्वाधिक दूरी तक मोटरसाइकिल चलाने का गिनीज बुक में दर्ज यह रिकार्ड अमेरिकी महिला बाइकर डेनेल लिन के नाम पर अमेरिका में 48,600 मील यानी 78,214.118 किमी चलने का था, जो उन्होंने 19 सितंबर 2014 से 29 अगस्त 2015 के बीच अमेरिका के सभी 48 राज्यों से गुजरकर बनाया था। गौरव ने इस रिकॉर्ड को स्वतंत्रता दिवस पर तोड़ दिया है, साथ ही यह  भी साफ़ कर दिया है कि वह रिकॉर्ड बनाकर थमने वाले नहीं हैं, वरन आगे उनका इरादा फरवरी 2017 तक 1.2लाख किमी चलकर अजेय रिकार्ड बनाने का भी है।

15 अगस्त 2017 को आजादी के वर्षों से तिहाई यानी 23 उम्र के नौजवान गौरव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘स्वदेशी’ और ‘मेक इन इंडिया’ अभियानों से प्रेरणा लेकर आजादी की एक नयी इबारत लिख डाली है। खास यह भी है कि गौरव सिद्धार्थ नाम के इस नौजवान ने अपनी यात्रा 17 सितंबर 2015 का यानी प्रधानमंत्री मोदी के जन्म दिन से लखनऊ से शुरू की थी, और 10 माह 22 दिन में ही रिकॉर्ड बना डाला है, जबकि लिन ने 11 माह 10 दिन में यह रिकार्ड बनाया था। यानी इस मामले में भी गौरव ने रिकॉर्ड तोड़ा है। इस साथ ही गौरव बकौल उनके, देश की ‘आत्मा’ को ढूंढने, देशज तरीके से पूरी तरह भारतीय अंदाज में अपनी ‘बावरी’ नाम की बाइक हीरो इम्पल्सिव संख्या यूपी32जीएम-3367, के साथ ही पूर्णतया भारतीय हाईवे डिलाइट मोबाइल एप और एल्फा ट्रेक जीपीएस ऐप सहित ग्लब्स, हेलमेट, जैकेट के साथ ही दैनिक प्रयोग की वस्तुओं सहित सब कुछ स्वदेशी सामग्री प्रयोग कर रहे हैं। बेंगलुरू से बात करते हुए मूल रूप से नैनीताल जिले के धारी ब्लॉक के धानाचूली निवासी गौरव ने बताया कि स्वतंत्रता दिवस को बंगलुरू में बेंगलौर बाइकर्स ग्रुप, 1947 नाम से रेस्टोरेंट एवं न्यूज-9 नाम के एक चैनल तथा बेंगलौर के कई विशिष्टजनों, आईएएस व आईपीएस अधिकारियों के साथ एक समारोह में रिकॉर्ड को तोड़े जाने की औपचारिकता पूरी की है। गौरव कहते हैं कि वह इस यात्रा के जरिए भारत की विविधता व विशालता को देखने के साथ ही दुनिया को भी दिखाना चाहते थे कि एक देश में ही यात्रा कर डेनेल लिन से कहीं बड़ा रिकॉर्ड बनाया जा सकता है। इस यात्रा के तहत रविवार तक वह अपनी पर हर दिन करीब 400 किमी की यात्रा करते हुए देश की चारों दिशाओं के 14 राज्यों और चार केंद्र शासित प्रदेशों की यात्रा कर चुके हैं।आगे अप्रैल 2017 तक 1.2 लाख किमी का नया रिकॉर्ड बनाएंगे। दो भाइयों में छोटे गौरव के पिता कुंदन बिष्ट नैनीताल बैंक में सहायक प्रबंधक के पद पर कार्यरत हैं। वह पूर्व में स्वयं स्थापित कम्प्यूटर डिजाइनिंग की अपनी कंपनी से स्वयं कमाये धन और पिता से मदद लेकर इस पूरी यात्रा का खर्चा उठा रहे हैं।

Rashtriya Sahara 25 July 2016

एक ट्रक चालक से मिली प्रेरणा

नैनीताल। इस यात्रा की प्रेरणा के बारे में गौरव बताते हैं कि भूगोल एवं घुमक्कड़ी में रुचि के चलते फरवरी 2015 में उन्होंने साइकिल पर केवल 45 दिनों में कश्मीर से कन्याकुमारी की नॉर्थ-साउथ कॉरीडोर पर 4750 किमी की यात्रा कर रिकॉर्ड बनाया था, और मन में बात आई कि पूरे भारत को देख चुके हैं। तभी एक ट्रक ड्राइवर ने बात करते हुए बताया कि यह तो वह कई बार कर चुका है। इस पर अहसास हुआ कि देश केवल मुख्य सड़कों-राजमार्गों पर ही नहीं वरन अंदर है, इसलिए बिना किसी पूर्व अनुभव के होते हुए भी अकेले ही इस यात्रा पर चलने का निश्चय किया।

देश के 12000 गांवों का कर चुके हैं भ्रमण

नैनीताल। गौरव ने बताया कि देश की आत्मा को अंदर तक छूने और लखनऊ विवि से मनोविज्ञान में ऑनर्स का छात्र रहने के नाते देशवासियों के मनोविज्ञान को समझने की इच्छा के साथ वह इस यात्रा में केवल राजमार्गों या मुख्य सड़कों पर ही नहीं वरन अंदरूनी मार्गों से होते हुए गांवों तक जा रहे हैं, और इस दौरान पड़ने वाले गांवों में लोगों से बात करते हैं। इस तरह वह अब तक करीब 12000 गांवों की यात्रा कर चुके हैं, और उन्हें लगता है कि उत्तर, पूर्व, मध्य और पूर्वोत्तर भारत के किसी भी गांव के 10-15 किमी की परिधि को वह जरूर छू चुके हैं, और हर गांव के बारे में काफी जानकारी बता सकते हैं। इस दौरान उन्हें पूर्वोत्तर में 120 रुपए प्रति लीटर की दर से पेट्रोल मिलने, आज के युग में भी लोगों को बिल्कुल निर्वस्त्र रहते हुए देखने, शाकाहारी भोजन भी मांशाहारी भोजन की करछियों से व मैगी भी मांशाहारी ही परोसे जाने जैसे अनेकानेक अनुभव मिले हैं।

अनेक हस्तियों से भी मिले हैं गौरव

नैनीताल। गौरव ने अपनी यात्रा की शुरुआत कमोबेश पीएम नरेंद्र मोदी की तरह ही उनकी माता हीरा बेन के चरण छूकर तथा उनके परिजनों से मिलकर की थी। आगे उन्हें यात्रा के दौरान उत्तराखंड भ्रमण पर योगगुरु बाबा रामदेव मिले, जिन्होंने गौरव को पीछे बैठाकर उनकी मोटरसाइकिल भी चलाई। आगे देश की सॉफ्टवेयर कंपनी इंफोसिस के संस्थापक एनआर नारायणमूर्ति ने यात्रा के लिये आर्थिक मदद का भरोसा दिलाया। वहीं आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर, 16 वर्षों से मणीपुर में अनशन पर बैठी और अब शादी कर चुनाव लड़ने का एलान करने वाली ईरोम शर्मिला, पुडुचेरी की राज्यपाल किरन बेदी, पूर्व टेस्ट कप्तान सौरभ गांगुली व समाजसेवी अन्ना हजारे आदि भी मिले और उनका उत्साह बढ़ाया।

Advertisements

2 responses to “15 अगस्त को ‘स्वदेशी’ का नया विश्व कीर्तिमान बनाकर देश का ‘गौरव’ बढ़ाया नैनीताल के गौरव ने !

  1. पिंगबैक: उत्तराखंडी ‘बांडों’ के कन्धों पर देश की सुरक्षा की जिम्मेदारी – नवीन समाचार : हम बताएंगे नैन·

  2. पिंगबैक: इतिहास के झरोखे से कुछ महान उत्तराखंडियों के नाम-उपनाम व एतिहासिक घटनायें – नवीन समाचार : हम बता·

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s