डा. मुरली मनोहर जोशी हो सकते हैं भारत के अगले राष्ट्रपति !


पहले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, फिर सेनाध्यक्ष, फिर रॉ प्रमुख और फिर डीजीएमओ के बाद अब देश के राष्ट्रपति पद की दौड़ में एक और उत्तराखंडी सबसे आगे है। वे हैं भारतीय जनता पार्टी में कभी ‘भारत मां की तीन धरोहर, अटल, आडवाणी, मुरली मनोहर’ कहे जाने वाले और सार्वजनिक जीवन में अपनी बेदाग छवि, बौद्धिकता और संघनिष्ठ वैचारिक प्रतिबद्धता के लिए पहचाने जाने वाले भाजपा नेता डॉ. मुरली मनोहर जोशी। विदित हो की भारत के राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी का कार्यकाल समाप्ति की ओर है। केंद्र में भाजपा पूरे बहुमत के साथ सत्तासीन है। ऐसे में तय है कि देश के अगले राष्ट्राध्यक्ष भाजपा की ही पसंद के होंगे। बताया गया है कि जोशी भाजपा के साथ ही राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की भी पहली पसंद हैं। संघ प्रमुख मोहन भागवत ने भाजपा नेतृत्व को अवगत करा दिया है कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ भारतीय गणराज्य का नया राष्ट्रपति देखना चाहता है।

उत्तराखंड के छह फीसद गांव हो गये ‘भुतहा’, नेताओं, देवी-देवताओं ने भी कर दिया पलायन


पहाड़ के एक गाँव में पलायन के बाद वीरान पड़ा एक संभ्रांत परिवार का घर और मंदिर
पहाड़ के एक गाँव में पलायन के बाद वीरान पड़ा एक संभ्रांत परिवार का घर और मंदिर

-60 लाख पर्वतीय आबादी में से 32 लाख लोगों ने किया पलायन, 17,793 गांवों में 1,053 गांव हो गये खाली

नवीन जोशी, नैनीताल। उत्तराखंड प्रदेश में ‘विकास’ के लिये 409 अरब रुपये कर्ज लेने के बाद भी राज्य की अवधारणा के अनुरूप पलायन नहीं रुका है। 2011 की ताजा जनगणना के अनुसार प्रदेश के 17,793 गांवों में 1,053 यानी करीब छह फीसद गांव खाली हो चुके हैं, बल्कि इन्हें ‘भुतहा गांव’ (घोस्ट विलेज) कहा जा रहा है। वहीं कुल मिलाकर करीब एक करोड़ की आबादी वाले इस राज्य की पर्वतीय क्षेत्र में रहने वाली 60 लाख की आबादी में से 32 लाख लोगों का पलायन हो चुका है। प्रदेश के अधिकांश बड़े राजनेताओं (कोश्यारी, बहुगुणा, निशंक, यशपाल आर्य) ने भी अपने लिये मैदानी क्षेत्रों की सीटें तलाश ली हैं, वहीं भूमिया, ऐड़ी, गोलज्यू, छुरमल, ऐड़ी, अजिटियां, नारायण व कोटगाड़ी सहित कई देवताओं ने भी पहाड़ों से मैदानों में पलायन कर दिया है।

पढ़ना जारी रखें “उत्तराखंड के छह फीसद गांव हो गये ‘भुतहा’, नेताओं, देवी-देवताओं ने भी कर दिया पलायन”