Police


यह भी पढ़ें : भ्रष्टाचार व मारपीट के आरोप में दो पुलिस कर्मियों को 3 व दो अन्य लोगों को 1-1 वर्ष की सजा

-नकली पिस्टल बेचने की आढ़ में फिरौती की मांग कर दो लोगों को पीटने के पाए गए थे दोषी
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 31 मार्च 2022। दो दिन पूर्व विशेष न्यायाधीश भ्रष्टाचार निवारण-प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत में नकली पिस्टल बेचने की आढ़ में दो लोगों को फिरौती की मांग कर पीटने के दोष सिद्ध दो पुलिस कर्मियों सहित चार लोगों पर को गुरुवार को सजा सुना दी गई।

दोनों पुलिस कर्मियों को भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 15 के तहत 3-3 वर्ष का कारावास एवं 10-10 हजार रुपए के जुर्माने जबकि पुलिस कर्मियों सहित चारों आरोपितों को भारतीय दंड संहिता की धारा 323 व 342 के तहत एक-एक वर्ष की सजा सुनाई गई है।

जिला शासकीय अधिवक्ता-फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने मामले में अदालत को पूर्व घटना का जिक्र करते हुए बताया कि दो पुलिस कर्मियों आरक्षी गोविंद प्रसाद पुत्र गंगा राम निवासी ग्राम करैला जिला पिथौरागढ़ व आरक्षी विजेंद्र नेगी पुत्र देव सिंह नेगी निवासी ग्रामी नौगांव गैरसेंण चमोली तथा सह आरोपित ताज मोहम्मद पुत्र मो. असलम निवासी ग्राम दौलपुरी भगतपुर जिला मुरादाबाद व इदरीश अहमद पुत्र कुतुबुद्दीन निवासी ग्राम लालपुर ठाकुरद्वारा जिला मुरादाबाद ने शिकायतकर्ता विजय पाठक पुत्र गोविंद बल्लभ पाठक निवासी मल्ला गोरखपुर हल्द्वानी के भाई संजय पाठक व उसके मित्र उस्मान के साथ होटल के कमरे में डंडों व बेल्ट से पीटा और संजय से 5 लाख व उस्मान से 1 लाख की रंगदारी मांगी।

लिहाजा उन्होंने आरोपितों को अधिकाधिक सजा देने की मांग की। इस पर न्यायालय ने चारों दोषियों को मारपीट के अभियोग में एवं पुलिस कर्मियों को भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत भी सजा सुना दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : भ्रष्टाचार व मारपीट के आरोप में दो पुलिस कर्मी सहित चार लोग दोषी करार, जेल भेजे

-नकली पिस्टल बेचने की आढ़ में फिरौती की मांग कर दो लोगों को पीटने का आरोप
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 29 मार्च 2022। विशेष न्यायाधीश भ्रष्टाचार निवारण-प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत में दो लोगों को नकली पिस्टल बेचने की आढ़ में फिरौती की मांग कर पीटने के आरोपित दो पुलिस कर्मियों सहित चार लोगों पर पर आरोप साबित हो गये हैं। न्यायालय ने आरोपितों को दोषी पाते हुए न्यायिक हिरात में लेकर जेल भेज दिया है। सजा 31 मार्च को सुनाई जाएगी।

जिला शासकीय अधिवक्ता-फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने मामले में अदालत को बताया कि मामले के शिकायतकर्ता विजय पाठक पुत्र गोविंद बल्लभ पाठक निवासी मल्ला गोरखपुर हल्द्वानी को एक लाइसेंसी रिवाल्वर की आवश्यकता थी। इसके लिए उनके भाई संजय पाठक को उसके मित्र उस्मान के बताए अनुसार काशीपुर लाइसेंसी पिस्टल देखने गए थे। लेकिन पिस्टल पर कुछ शक होने पर मना कर वापस लौटते हुए चार पुलिस कर्मी उन्हें पिस्टल व कट्टा दिखाकर जबर्दस्ती सिटी स्टार होटल के कमरे में ले गए और चारों ने उन्हें डंडों व बेल्ट से पीटा और संजय से 5 लाख व उस्मान से 1 लाख की रंगदारी के लिए उनके घर फोन मिलाया।

इस पर विजय पाठक ने काशीपुर जाकर 50 हजार रुपए देकर उन्हें छुड़ाया और काशीपुर के तत्कालीन प्रभारी निरीक्षक बहादुर को घटना की सूचना दी। मामले में अभियोजन की ओर से 10 गवाह पेश किए गए।

अभियोजन के तर्कों को स्वीकार करते हुए न्यायालय ने मामले में दो पुलिस कर्मियों आरक्षी गोविंद प्रसाद पुत्र गंगा राम निवासी ग्राम करैला जिला पिथौरागढ़, आरक्षी विजेंद्र नेगी पुत्र देव सिंह नेगी निवासी ग्रामी नौगांव गैरसेंण चमोली को भारतीय दंड संहिता की धारा 323 व 342 तथा भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 15 के तहत तथा सह आरोपित ताज मोहम्मद पुत्र मो. असलम निवासी ग्राम दौलपुरी भगतपुर जिला मुरादाबाद व इदरीश अहमद पुत्र कुतुबुद्दीन निवासी ग्राम लालपुर ठाकुरद्वारा जिला मुरादाबाद को भारतीय दंड संहिता की धारा 323 व 342 के तहत दोषी मानकर जेल भेज दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल के डीएम ने राजस्व क्षेत्रों की पुलिसिंग नियमित पुलिस को सोंपी

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 26 मार्च 2022। नैनीताल जनपद के जिलाधिकारी ने जनपद की नैनीताल, बेतालघाट, कोश्यांकुटौली, व धारी तहसीलों यानी जनपद की पर्वतीय तहसीलों के सभी अभियोगों का पंजीकरण एवं विवेचना राजस्व पुलिस की जगह नियमित पुलिस को सोंपने के आदेश जारी कर दिए हैं।

डीएम धीराज गर्ब्याल ने इस संबंध में जनपद के एसएसपी को पत्र लिखकर कहा है कि राजस्व निरीक्षकों व उप निरीक्षकों के अनिश्चितकालीन तौर पर पुलिस कार्यों का बहिष्कार कर दिए जाने के दृष्टिगत राजस्व क्षेत्रों के समस्य अभियोगों को घटनास्थल के नजदीकी पुलिस स्टेशन में पंजीकृत करवाने और विवेचना कराने हेतु संबंधित प्रभारी निरीक्षक व थानाध्यक्षों को निर्देश दिए जाएं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : सादी वर्दी में पुलिस कर्मी को लिटाकर पीटे जाने का वीडियो वायरल, पुलिस यूपी की तर्ज पर आरोपितों की कुर्की करने की राह पर

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 24 मार्च 2022। उत्तराखंड पुलिस भी अब सख्ती के मामले में यूपी पुलिस की राह पर चल पड़ी है। पुलिस कर्मी पर जानलेवा हमला करने और इस मामले में वायरल हुए वीडियो में दिख रहे फरार आरोपितों के खिलाफ पुलिस गैर जमानती वारंट लेने और उनकी संपत्तियों की कुर्की की कार्रवाई करने की कार्रवाई शुरु कर दी है। साथ ही पुलिस की तीन टीमें आरोपितों की तलाश में दबिश दे रही हैं। इस मामले में एक पक्ष यह भी है कि पिटा पुलिस कर्मी सादी वर्दी में था।

उल्लेखनीय है कि सोशल मीडिया में पुलिसकर्मी के साथ मारपीट का एक वीडियो बड़ी तेजी से वायरल हो रहा है। 19 मार्च के इस वीडियो में रम्पुरा में दो पक्षों के विवाद की सूचना पर कोतवाली में तैनात आरक्षी वृजेंद्र शर्मा लोगों को समझाने के लिए शिव मंदिर रम्पुरा पहुंचे, जहां लोगों ने उन्हें ही लाठी-डंडों से पीट दिया। वीडियो में देखा जा रहा है कि किस तरह पुलिस कर्मी को जमीन पर गिराने के बाद भी बुरी तरह से लाठी-डंडों से पीटा जा रहा है। उन्हें गंभीर हालत में जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जहां उनके सिर में 18 टांके के साथ ही शरीर पर भी कई जगह खुली चोट पर टांके लगाने पड़े थे।

सूचना मिलने के बाद जब कोतवाली पुलिस भी मौके पर पहुंची, तब तक आरोपित अपने घर से फरार हो गए थे। इसके बाद पुलिस ने रम्पुरा निवासी शिव उर्फ काली, दीपक अड्डा, सनी, गौरव उर्फ भूरा, मुकेश उर्फ मकोड़ा, बंटी कोली, संजय, सुधीर व एक अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया था। पुलिस की दबिश में गौरव उर्फ भूरा व बंटी कोली हाथ लग गए। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था, जबकि शेष छह आरोपित पुलिस की पकड़ से चार दिन बाद भी दूर हैं। इसलिए पुलिस अब उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट लेने और उनकी संपत्तियों की कुर्की की कार्रवाई करने की कार्रवाई शुरु कर दी है।

अलबत्ता इस मामले में एसएसपी का कहना है कि सिपाही सादे कपड़ों में निजी काम से गया था। जहां उसका कुछ लोगों से विवाद हुआ। पुलिस एफआईआर और एसएसपी के बयान अलग-अलग होने से पुलिस विभाग भी संदेह के घेरे में नजर आ रहा है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : शादी में देर तक डीजे बजाने को लेकर पुलिस कर्मियों पर हमला, पथराव…

रुद्रपुर की बंगाली कालोनी का मामला, दो भाई नामजद, 15 अन्य महिला-पुरुषों पर मुकदमा दर्जनवीन समाचार, रुद्रपुर, 6 मार्च 2022। शहर की बंगाली कालोनी में बीती रात्रि डीजे बंद कराने गई आदर्श कालोनी चौकी पुलिस पर लोगों ने पथराव कर दिया। हमले में दो पुलिस कर्मी घायल हो गए। बाद में अतिरिक्त पुलिस बल के पहुंचने पर मौके पर अफरातफरी मच गई। पुलिस ने इस मामले में ट्रांजिट कैंप निवासी दो भाइयों समेत 15 महिलाओं व पुरुषों के खिलाफ सरकारी कार्य में बांधा पहुंचाने और पथराव करने सहित अन्य आरोपों में मुकदमा दर्ज कर लिया है। साथ ही हमलावरों की तलाश करते हुए अज्ञात लोगों की पहचान शुरू कर दी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार मध्य रात्रि करीब 12 बजे पुलिस को डायल 112 पर सूचना मिली कि बंगाली कालोनी में डीजे बज रहा है। इस पर आदर्श कालोनी चौकी प्रभारी संदीप शर्मा चीता मोबाइल पुलिस कर्मियों के साथ मौके पर पहुंचे, और लोगों से डीजे बंद करने को कहा। लेकिन उनका कहा मानने की जगह मौजूद लोग पुलिस कर्मियों से ही अभद्रता व गालीगलौच करने लगे, और समझाने पर पुलिस कर्मियों पर हमलावर हो गए। इसी बीच भीड़ में मौजूद तपन पाल नाम के व्यक्ति ने आरक्षी दिनेश सिंह व संजीव कुमार का गिरेबान पकड़कर हमला कर दिया। इससे दोनों पुलिस कर्मी घायल हो गए।

मामला बिगड़ता देख पुलिस अधिकारियों को सूचना दी गई। सूचना पर सीओ अभय सिंह, कोतवाल विक्रम राठौर, एसएसआइ सतीश चंद्र कापड़ी भी पुलिस टीम के साथ पहुंच गए। इस दौरान लोगों में पुलिस टीम को देखकर भगदड़ मच गई और उन्होंने पथराव शुरू कर दिया। बाद में पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए लोगों को खदेड़ दिया और मामला शांत किया। सीओ अभय सिंह ने बताया कि तपन पाल व उसके भाई सुजल पाल पुत्र सुबोध पाल निवासी ट्रांजिट कैम्प व अन्य 15 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। आरोपितों की तलाश की जा रही है, जल्द ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : एसएसपी ने किया तल्लीताल थाने का निरीक्षण, व्यवसायियों-पुलिस कर्मियों की समस्याएं भी जानीं व समाधान का आश्वासन भी दिया…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 2 मार्च 2022। एसएसपी नैनीताल पंकज भट्ट ने बुधवार को नगर के तल्लीताल थाने का वार्षिक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्हें थाने की सुसज्जित सशस्त्र गारद ने सलामी दी। इस दौरान निरीक्षण में सभी कार्य व गतिविधियां अध्यावधिक पाए गए। इस दौरान उन्होंने थाने के कर्मचारी भोजनालय की समीक्षा करते हुए पुलिस कर्मचारियों को पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराये जाने के निर्देश दिए।

इस दौरान ही एसएसपी ने आगामी पर्यटन सीजन के दृष्टिगत तल्लीताल क्षेत्र के स्थानीय व्यापारियों एवं टैक्सी यूनियन अध्यक्षों से सीएलजी गोष्ठी के माध्यम से उनकी स्थानीय समस्याएं जानीं एवं सुझाव लिए, तथा जिनके क्रियान्वयन व समाधान हेतु आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि पर्यटन सीजन के दौरान पर्यटकों व स्थानीय व्यापारियों को दिक्कतों का सामना न करना पड़े इसके लिए पुलिस द्वारा विशेष कार्ययोजना तैयार कर लागू की जाएगी।

वहीं पुलिस कर्मचारियों के सम्मेलन के दौरान थाने में नियुक्त सभी अधीनस्थ कर्मचारियों की समस्याएं एवं उनके सुझाव जाने। थानाध्यक्ष तल्लीताल को पुलिस कर्मचारियो को नियमित ड्यूटी के पश्चात साप्ताहिक अवकाश भी अवश्य देने के निर्देश भी दिए। निरीक्षण के दौरान सीओ संदीप नेगी, थानाध्यक्ष रोहताश सिंह सागर, दान सिंह मेहता, नरेंद्र कुमार चौकी प्रभारी ज्योलीकोट, महिला उपनिरीक्षक बबीता आर्या, मोहन रावत सहित थाने में उपलब्ध पुलिस बल मौजूद रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : नकली नोटों के गैंग के साथ पकड़ा गया उत्तराखंड पुलिस का एक जवान

नवीन समाचार, हरिद्वार, 28 फरवरी 2022। उत्तराखंड पुलिस का एक जवान हरियाणा के यमुनानगर में ठग गैंग के साथ पुलिस के हत्थे चढ़ा है। उसकी पहचान हरिद्वार पुलिस के जवान यशपाल के रूप में हुई है। उसे निलंबित कर दिया गया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार यमुनानगर के गांधीनगर थाने में किराना कारोबारी मोहित से एक युवक ने दस हजार रुपये के नकली नोट बाजार में चलाने की बात कही थी। मोहित ने नकली नोट चला दिए। फिर युवक ने तीन लाख की असली रकम के बदले नौ लाख के नकली नोट देने की बात कही। सौदा तय होने के बाद मोहित ने तीन लाख की रकम दे दी। इसी दौरान पुलिस की वर्दी में पहुंचे एक युवक ने उसे पकड़ लिया। इस मामले में मोहित ने ठगी का केस दर्ज कराया था।

डीआईजी योगेंद्र सिंह रावत ने बताया कि जांच में सामने आया कि ज्वालापुर कोतवाली में तैनात सिपाही यशपाल ही मोहित को धमकाकर नकदी और बैग ले गया था। बताया कि मामले में आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : चुनाव प्रभावित कर रहा जिला बदर अपराधी पुलिस-एसओजी कर्मियों पर कार चढ़ाकर फरार

नवीन समाचार, किच्छा, 15 फरवरी 2022। एक जिला बदर अपराधी द्वारा एसओजी व पुलिस टीम पर कार चढ़ाने का मामला प्रकाश में आया है। पुलिस कर्मियों ने किसी तरह कूद कर अपनी जान बचाई। इस बीच आरोपित चौकी प्रभारी की कार को टक्कर मार क्षतिग्रस्त कर फरार भी हो गया। पुलिस ने उसका पीछा किया, लेकिन वह हाथ नहीं आया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार देर रात्रि एसओजी प्रभारी कमलेश भट्ट, लालपुर चौकी प्रभारी पंकज कुमार, आरक्षी भूपेंद्र सिंह, भूपेंद्र आर्या, राजेंद्र कश्यप, महिला आरक्षी कंचन चौधरी के साथ गश्त पर थे। इस दौरान उन्हें जिला बदर किए गए आशु भंडारी उर्फ आशुतोष भंडारी के लालपुर क्षेत्र में घूमकर चुनाव को प्रभावित करने की सूचना मिली। इस पर टीम ने महराया रोड लालपुर में घेराबंदी कर दी।

इस दौरान बिना नंबर की होंडा अमेज कार में सवार आशु भंडारी ने पुलिस की घेराबंदी देख कार की रफ्तार बढ़ा दी और रोकने के लिए खड़े पुलिस कर्मियों पर कार चढ़ाकर भागने का प्रयास किया। समय रहते पुलिस कर्मी कूद गए। वह अवरोधक बनाकर खड़ी की गई लालपुर चौकी प्रभारी की कार को भी टक्कर मारते हुए मौके से फरार हो गया। पुलिस ने उसका पीछा किया मगर वह हत्थे नहीं चढ़ा। एसओजी प्रभारी की तहरीर पर किच्छा कोतवाली में आशु भंडारी के खिलाफ जानलेवा हमला करने का मुकदमा दर्ज कर लिया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : शांतिपूर्ण चुनाव हेतु पुलिस व अर्धसैनिक बलों ने किया फ्लैग मार्च…

भवाली में फ्लैग मार्च करते पुलिस एवं अर्धसैनिक बलों के जवान।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 21 जनवरी, 2021। आगामी विधान सभा चुनाव को शांतिपूर्वक आयोजित कराने व आदर्श आचार संहिता के दृष्टिगत जनपद के एसएसपी पंकज भट्ट के निर्देशन में भवाली कोतवाली कोतवाली पुलिस, सशस्त्र अर्द्धसैनिक बल व प्रशासन द्वारा संयुक्त रुप से क्षेत्र में फ्लैग मार्च निकाला। इस दौरान सुरक्षा बलों ने कोतवाली भवाली में एकत्र होकर सर्वप्रथम भवाली मुख्य बाजार होते हुए रामगढ़ चौकी क्षेत्रान्तर्गत फ्लैग मार्च किया।

इस दौरान क्षेत्रीय जनता से बिना किसी के दबाव में आये भयमुक्त होकर मतदान करने तथा कोविड-19 के दृष्टिगत शासन-प्रशासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करने, मास्क धारण करने व शारीरिक दूरी बनाए रखने की अपील की गयी। फ्लैग मार्च में क्षेत्राधिकारी भवाली प्रमोद कुमार साह, प्रभारी निरीक्षक कोतवाली भवाली संजय गर्ब्याल सहित पुलिस तथा सशस्त्र बलों के अन्य अधिकारी-कर्मचारी शामिल रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल के कोतवाल सहित 3 इंस्पेक्टरों व 19 दरोगाओं के तबादले

पत्रकार वार्ता करते एसएसपी पंकज भट्ट।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 7 जनवरी 2022। जनपद के एसएसपी पंकज भट्ट ने शुक्रवार को जनपद में तीन निरीक्षकों एवं 19 उपनिरीक्षकों यानी कुल 22 पुलिस अधिकारियों के स्थानांतरण कर दिए हैं। खास बात यह है कि गत दिनों एक मामले में डीजीपी के द्वारा निलबित किए जाने के बाद निलंबन निरस्त होने के बाद मुख्यालय स्थित मल्लीताल कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक प्रीतम सिंह को वापस पूर्व स्थान पर लाया गया है, जबकि अब तक यह जिम्मेदारी संभाल रहे निरीक्षक धर्मवीर सोलंकी को फाइनेंशिल यूनिट का प्रभारी बनाया गया है।

वहीं पिथौरागढ़ जनपद से जनपद में आए व पूर्व में नैनीताल के कोतवाल रहे रमेश सिंह तनवर को पीआरओ व प्रभारी मीडिया सेल बनाया गया है। इसके अलावा जनपद की फाइनेंसियल यूनिट में काफी परिवर्तन किया गया है। उल्लेखनीय है कि आसन्न विधानसभा चुनाव के दृष्टिगत यह यूनिट काफी महत्वपूर्ण होने वाली है।

इनके अलावा उप निरीक्षकों की बात करें तो सतीश कुमार शर्मा को थाना हल्द्वानी से थानाध्यक्ष बेतालघाट, रमेश बोरा को थानाध्यक्ष कालाढूंगी से वरिष्ठ उपनिरीक्षक प्रथम थाना हल्द्वानी, राजवीर सिंह नेगी को थाना रामनगर से थानाध्यक्ष कालाढूंगी, मोहम्मद आसिफ खॉ को थानाध्यक्ष बनभूलपुरा से फाइनेंशिल यूनिट, नीरज भाकुनी को थानाध्यक्ष बनभूलपुरा, प्रेम राम विश्वकर्मा को वरिष्ठ उप निरीक्षक थाना मल्लीताल से वरिष्ठ उपनिरीक्षक थाना रामनगर, मुनव्वर हुसैन को वरिष्ठ उप निरीक्षक थाना रामनगर से फाइनेंशिल यूनिट, हरीश पुरी को वरिष्ठ उपनिरीक्षक थाना लालकुआं से फाइनेंशिल यूनिट,

जगवीर सिंह को फाइनेंशिल यूनिट से वरिष्ठ उपनिरीक्षक थाना मल्लीताल, महिला उप निरीक्षक बबीता मेहरा को महिला समाधान केंद्र हल्द्वानी से थाना मुखानी, सुनीता कुवंर को महिला समाधान केंद्र हल्द्वानी से थाना बनभूलपुरा, प्रकाश चंद्र को प्रभारी चौकी मालधन रामनगर, त्रिभुवन सिंह को थाना हल्द्वानी से चौकी छोई रामनगर, राजेश जोशी को थाना मुखानी से थाना चोरगलिया, ललित कुमार पांडे को प्रभारी चौकी हीरानगर, प्रताप सिंह को पुलिस लाइन से प्रभारी चौकी रामगढ़, विनय मित्तल को पुलिस लाइन से प्रभारी चौकी हंसपुर खत्ता, वीरेंद्र बिष्ट को थाना हल्द्वानी से प्रभारी चौकी कोटाबाग व दिनेश जोशी को पीआरओ द्वितीय से वाचक अपर पुलिस अधीक्षक नगर हल्द्वानी बनाया गया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : डीजीपी ने उत्तराखंड आने वाले सैलानियों के लिए बताई बेहद काम की बात, बताया- 27 वर्षों बाद बढ़ी जघन्य अपराधों के अनावरण के लिए ईनाम की राशि

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 30 दिसंबर 2021। जनपदों के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अब बेहतर कार्य करने पर 20 हजार एवं पुलिस उपमहानिरीक्षक 50 हजार तथा पुलिस महानिदेशक दो लाख रुपए तक का इनाम दे सकेंगे। प्रदेश के पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने मुख्यालय स्थित पुलिस उपमहानिरीक्षक कार्यालय में प्रेस वार्ता कर यह जानकारी दी। बताया कि 27 वर्षो के बाद राज्य में जघन्य अपराधों के निस्तारण के लिए दी जाने वाली ईनामी राशि बढ़ाई गई है।

इसके साथ श्री कुमार ने वर्तमान में बढ़ रहे कोविड वेरिएंट ओमीक्रोन के खतरे को देखते जनता से अपील की कि राज्य सरकार द्वारा जारी कोविड गाईडलाइन का अनुपालन करें। उन्होंने पुलिस विभाग को निर्देशित किया कि सार्वजनिक स्थानों पर मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करायें तथा स्वयं भी इन निर्देशों का पालन करें। आगामी विधानसभा चुनाव के दृष्टिगत उन्होंने बताया कि चुनाव को शांतिपूर्ण व सकुशल संपन्न करवाने हेतु पूर्ण रूप से तैयारी की गई है। किसी को भी चुनाव के दौरान कानून व्यवस्था को बाधित नहीं करने दिया जाएगा। इसके अलावा 31 दिसंबर व नए वर्ष के दृष्टिगत मसूरी और नैनीताल पर्यटन स्थलों पर यात्रा करने वाले पर्यटकों से उन्होंने अपील की कि बिना होटल बुकिंग कराए इन पर्यटक स्थलों में यात्रा करने से बचें ताकि उन्हें असुविधा का सामना ना करना पड़े क्योंकि ऐसे पर्यटकों को रास्ते पर ही रोक दिया जाएगा। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल पुलिस से हरियाणा में लूट, सरकारी कागजों के साथ बरामद की गई युवती व उसके अपहर्ता को छुड़ाकर फरार हुए आरोपित

नवीन समाचार, रोहतक-हरियाणा, 29 दिसंबर 2021। उत्तराखंड से लापता हुई एक युवती की तलाश में हरियाणा पहुंची नैनीताल पुलिस से लूट, पुलिस द्वारा बरामद की गई युवती व उसके अपहरणकर्ता युवक को छुड़वाने व सरकारी कागज छीनने का मामला प्रकाश में आया है। इस मामले में नैनीताल पुलिस के चौकी प्रभारी नीरज चौहान की तहरीर पर शिवाजी कॉलोनी थाने में लूट व सरकारी ड्यूटी में बाधा डालने का केस दर्ज किया गया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार नैनीताल के हल्द्वानी स्थित थाना मुखानी की आम्रपाली चौकी प्रभारी उप निरीक्षक नीरज चौहान ने हरियाणा पुलिस को शिकायत पत्र देकर बताया कि 14 दिसंबर 2021 को आम्रपाली चौकी में 20 वर्षीय युवती किरन भंडारी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई गई थी। जांच में पता चला कि लड़की हरियाणा के भिवानी जिले के गांव गोपालवास में है।

पुलिस लड़की के परिजनों के साथ गोपालवास पहुंची और लड़की को अमित चौधरी नाम के लड़के के पास से बरामद कर लिया, और सोमवार 27 दिसंबर को निजी वाहन से किरन व अमित को लेकर लौट रहे थे। इसी दौरान सुबह करीब डेढ़ बजे रोहतक के नजदीक आउटर बाईपास पर पीछे से आई एक कार ने ओवरटेक करके उनका रास्ता रोक लिया। कार में अमित का भाई रवि तथा चार अन्य लोग व दो महिलाएं थीं।

वे अमित के परिजन लग रहे थे। उन्होंने जबरन पिछली सीट पर बैठी किरन व अमित को गाड़ी की साइड का शीशा तोड़कर निकालने का प्रयास किया। नीरज नीचे उतरे और लोगों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन आरोपितों ने सरकारी कागजात छीन लिए और धक्का-मुक्की करके किरन व अमित को अपनी कार में बैठाकर फरार हो गए। आरोपितों के दो मोबाइल फोन वहीं गिरे मिले, जिनको पुलिस को सौंपा गया है।

शिवाजी कॉलोनी के कार्यकारी थाना प्रभारी एसआई राजकरण ने बताया कि नैनीताल पुलिस के एसआई नीरज चौहान की ओर से लिखित में शिकायत दी गई है। इस पर सरकारी ड्यूटी में बाधा डालने, सरकारी कागजात छीनने का मामला दर्ज किया गया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : लीजिए अब पुलिस मांगने लगी बदमाश के नाम पर रंगदारी, दरोगा पर 20 लाख की रंगदारी मांगने का आरोप

नवीन समाचार, नैनीताल, 24 दिसंबर 2021। अब तक अपराधियों पर कुख्यात बदमाशों का नाम लेकर रंगदारी मांगने के आरोप लगते थे। लेकिन अब उत्तराखंड पुलिस के एक दरोगा पर बदमाशों का नाम लेकर 20 लाख रुपये की रंगदारी मांगने का आरोप लगा है। पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने आरोपित दारोगा को निलंबित करते हुए जांच एसटीएफ को सौंप दी है।

हुआ यह कि हरिद्वार के एक बिल्डर ने डीजीपी से मुलाकात कर बताया कि उनका हरिद्वार में एक प्रोजेक्ट निर्माणाधीन है। उन्हें उत्तराखंड पुलिस का पीटीसी नरेंद्रनगर में तैनात एक दारोगा एक बदमाश का नाम लेकर लगातार वसूली के लिए फोन कर रहा है। बिल्डर ने बताया कि जब उसने फोन उठाना बंद कर दिया तो आरोपित ने वाट्सएप पर मैसेज भेजकर बदमाश के नाम पर रंगदारी मांगी और रंगदारी न देने पर काम बंद करवाने की धमकी दी। डीजीपी ने मामले की जांच के आदेश जारी किए तो पता लगा कि बदमाश के नाम पर रंगदारी मांगने वाला आरोपित दारोगा भवानी शंकर है। दरोगा की मूल तैनाती उत्तरकाशी में है, जबकि इस समय वह पुलिस ट्रेनिंग सेंटर (पीटीसी) नरेंद्रनगर में संबद्ध है। बताया जा रहा है कि दरोगा का हरिद्वार में घर है, जिसके निकट ही बिल्डर प्रोजेक्ट तैयार कर रहा है।

पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने बताया कि किसी पुलिसकर्मी की ओर से बदमाश का नाम लेकर रंगदारी मांगना गंभीर मामला है। मामले में दरोगा को निलंबित कर जांच एसटीएफ को सौंपी गई है। जांच के बाद ही पता लगेगा कि दारोगा बिल्डर को डराने के लिए किसी बदमाश का नाम ले रहा था या दरोगा के बदमाश के साथ कोई कनेक्शन हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : उच्च न्यायालय ने दिए डीजीपी द्वारा निलंबित कोतवाल को बहाल करने के आदेश

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 22 दिसंबर 2021। उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने गत दिनों मुख्यालय स्थित मल्लीताल कोतवाली के निलंबित किए गए कोतवाल प्रीतम सिंह को बहाल करने के आदेश दिए हैं। उल्लेखनीय है कि गत नवंबर माह में प्रदेश के डीजीपी अशोक कुमार ने कोतवाली में आए दो पक्षों के बीच संपत्ति विवाद में हुई मारपीट के मामले में एक पक्ष की शिकायत पर कार्रवाई न करने की उच्च न्यायालय पहुंची शिकायत पर बिना शिकायतकर्ता की शिकायत के कोतवाल प्रीतम सिंह को निलंबित कर दिया था।

इस पर कोतवाल प्रीतम सिंह की ओर से उन्हें बहाल करने हेतु उच्च न्यायालय में प्रार्थना पत्र दिया था। इस पर सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश आरएस चौहान व न्यायमूर्ति आलोक कुमार वर्मा की खंडपीठ ने उन्हें बहाल करने के आदेश दिए।

उल्लेखनीय है कि एक पक्ष की शिकायत पर मुकदमा दर्ज करने व गिरफ्तारी करने तथा दूसरे पक्ष की शिकायत पर कार्रवाई नहीं करने की शिकायत पर जब यह मामला न्यायालय पहुंचा तो कोतवाल के साथ ही जनपद की एसएसपी का फोन भी नहीं मिला। इस पर डीजीपी अशोक कुमार वर्चुअल माध्यम से न्यायालय में पेश हुए, और उन्होंने मामले में पुलिस की लापरवाही मानते हुए कोतवाल प्रीतम सिंह को निलंबित कर दिया था। न्यायालय ने भी अपने आदेश में कहा था कि पुलिस अपने कर्तव्यों का पालन ठीक ढंग नही कर रही है। जिसके कारण प्रेमी जोड़े आये दिन उच्च न्यायालय में सुरक्षा के लिए गुहार लगाने पहुंच रहे हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : लगातार दूसरे दिन 33 पुलिस अधिकारियों-डीएसपी के तबादले..

उत्तराखंड पुलिस मुख्यालय भी होगा पेपरलेस, ITDA तैयार कर रहा ई-ऑफिसनवीन समाचार, देहरादून, 18 दिसंबर 2021। उत्तराखंड पुलिस मुख्यालय ने शनिवार को प्रदेश भर में 33 पुलिस उपाधीक्षकों (डीएसपी) के स्थानांतरण कर दिए हैं। इनमें 17 डीएसपी को प्रशिक्षण समाप्त होने के बाद विभिन्न जनपदों में भेजा गया है। जिलों में आमद कराने के बाद अब इन्हें सर्किलों में तैनात किया जाएगा।

स्थानांतरण आदेश के अनुसार नए डीएसपी अंकित कंडारी को बागेश्वर, नीरज सेमवाल देहरादून, सुमित पांडेय पिथौरागढ़, नितिन लोहानी नैनीताल, अभिनव चौधरी चंपावत, परवेज अली ऊधमसिंह नगर, विभा दीक्षित नैनीताल, अस्मिता मंमगई टिहरी गढ़वाल, रीना हरिद्वार, ओशिन जोशी अल्मोड़ा, हर्षवर्धनी सुमन रुद्रप्रयाग, विभव सैनी पौड़ी गढ़वाल, नताशा सिंह चमोली, विवेक सिंह कुटियाल एसटीएफ देहरादून, प्रशांत कुमार उत्तरकाशी, निहारिका सेमवाल हरिद्वार और स्वप्निल मुयाल को डीएसपी सुरक्षा बनाकर भेजा गया है।

इनके अलावा हेमेंद्र नेगी को सीआईडी देहरादून से हरिद्वार, सुरेंद्र भंडारी को आर्थिक अपराध अनुसंधान इकाई से उत्तरकाशी, ओमप्रकाश भट्ट पीएसी हरिद्वार से आईआरबी द्वितीय, अनिल मनराल पिथौरागढ़ से विजिलेंस हल्द्वानी, अनुज कुमार देहरादून से इंटेलीजेंस मुख्यालय, प्रबोध कुमार घिल्डियाल देहरादून से पीएसी हरिद्वार, अनुज उत्तरकाशी से पीएसी हरिद्वार, जोधराम जोशी आईआरबी द्वितीय से मंडलाधिकारी हरिद्वार, कमल पंवार एसडीआरएफ से सीआईडी देहरादून, सुनीता वर्मा मंडलाधिकारी हरिद्वार से पीटीसी नरेंद्र नगर और अन्नराम आर्य को मंडलाधिकारी हल्द्वानी से 46वीं वाहिनी पीएसी ट्रांसफर किया गया है।

साथ ही सीओ सिटी शेखर सुयाल को देहरादून से हरिद्वार, जबकि, हरिद्वार से अभय सिंह को ऊधमसिंह नगर, पौड़ी गढ़वाल से सीओ कोटद्वार को देहरादून, गणेश लाल को रुद्रप्रयाग से पौड़ी गढ़वाल और मनोज कुमार ठाकुर को ऊधमसिंह नगर से पुलिस मुख्यालय देहरादून भेजा गया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल जनपद के नए एसएसपी ने संभाला पदभार, बताईं प्राथमिकताएं

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 17 दिसंबर 2021। नैनीताल जनपद में नए पुलिस कप्तान पंकज भट्ट ने शुक्रवार देर रात्रि जिला मुख्यालय में पदभार ग्रहण कर लिया। इस दौरान श्री भट्ट ने जनपद में बेहतर पुलिस व्यवस्था, अपराध रहित वातावरण बनाए रखने हेतु अपनी प्राथमिकताएं गिनाईं।

उन्होंने कहा कि वर्तमान में युवाओं में नशे की बढ़ती प्रवृत्ति की रोकथाम हेतु जनपद के आम जन को जागरुक किया जाएगा। गत दिनों आई आपदा के दौरान नैनीताल का पर्यटन प्रभावित हुआ है। इसके पुनरुत्थान हेतु जनपद पुलिस को विशेष पर्यटक प्रशिक्षण दिलाया जाएगा। उल्लेखनीय है कि आज ही डीआईजी ने इस हेतु मिशन अतिथि चलाने की बात कही है। इसके अलावा श्री भट्ट ने सड़क दुर्घटनाओं की रोकथाम हेतु यातायात जागरूकता अभियान के अंतर्गत वाहन चालकों को जागरूक करने, बढ़ रहे साइबर अपराधों की रोकथाम हेतु लोगो को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से जागरूक करने, यातायात अवरोध-जाम से निजात पाने हेतु नई कार्ययोजनाएं तैयार करने और आसन्न विधानसभा चुनाव को निष्पक्ष रूप से संपादित कराने के उद्देश्य से अभी से ही अति संवेदनशील एवं संवेदनशील बूथ स्थलों के निरीक्षण में तेजी लाने की बात कही। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बेहतर पुुलिसिंग के लिए नैनीताल व चंपावत जनपद के थाने व सर्किल चुने गए कुमाऊं के सर्वश्रेष्ठ थाने व सर्किल, मिलेंगे पुरस्कार…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 17 दिसंबर 2021। कुमाऊं परिक्षेत्र के पुलिस उपमहानिरीक्षक डॉ नीलेश आनंद भरणे द्वारा शुक्रवार को समीक्षा बैठक की गई। इस दौरान परिक्षेत्र स्तर पर मैदानी जनपदों के शीर्ष 3 थानों में जनपद नैनीताल के थाना बनभूलपुरा, लालकुंआ व कालाढूंगी थाने का चयन किया गया है। जबकि पर्वतीय जनपदों के जनपद चंपावत का थाना टनकपुर, थाना तामली तथा थाना पंचेश्वर प्रथम तीन स्थानों पर रहे।

इसी क्रम में परिक्षेत्र के सर्किलों के कार्यों की समीक्षा में मैदानी सर्किलों में प्रथम स्थान पर रामनगर, द्वितीय स्थान पर लालकुंआ व तृतीय स्थान पर हल्द्वानी जबकि पर्वतीय सर्किलों में प्रथम स्थान टनकपुर, द्वितीय स्थान पर चम्पावत तथा तृतीय स्थान पर भवाली को चयनित किया गया। इन्हें इस माह की मासिक अपराध गोष्ठी में सम्मानित किया जायेगा। डीआईजी डॉ. भरणे ने अन्य जनपदों के थानों व सर्किलों से भी इसी तरह बेहतर कार्य करने को कहा गया है।

डॉ. भरणे ने बताया कि यह रैंकिंग परिक्षेत्र के थानों द्वारा अपराधों के अनावरण, विवेचनाओं के निस्तारण, अपराधियों की गिरफ्तारी, चोरी व लूट की संपत्ति की बरामदगी, अपराधों की रोकथाम हेतु की गई निरोधात्मक कार्रवाई तथा अन्य जनजागरूकता अभियानों एवं यातायात को सुगम बनाने की दिशा में की गई कार्यवाही के आधार पर की गई है। इसका उद्देश्य कुमाऊं परिक्षेत्र के सभी जनपदों व थानों की कार्य करने की क्षमता को बढ़ाना तथा उनके बीच सकारात्मक प्रतिस्पर्धा की भावना को जागृत करते हुए पुलिस की कार्यप्रणाली को और अधिक प्रभावी व बेहतर बनाना है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल की एसएसपी सहित उत्तराखंड में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के बड़े पैमाने पर तबादले

नवीन समाचार, देहरादून, 16 दिसंबर 2021। पुलिस महकमे ने बड़े पैमाने पर पुलिस अधिकारियों के तबादले कर दिए हैं कई जिलों के कप्तान भी बदले गए हैं नैनीताल जिले का नया कप्तान पंकज भट्ट को बनाया गया है। जबकि यशवंत सिंह को पुलिस अधीक्षक पौड़ी बनाया गया है। जबकि नवनीत सिंह को एसडीआरएफ से टिहरी का नया पुलिस अधीक्षक बनाया गया । साथ ही मंजूनाथ को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अल्मोड़ा बनाया गया है। देखिए पूरी सूची :

स्थानांतरण सूची में श्वेता चौबे को पुलिस अधीक्षक चमोली, चमोली के पुलिस अधीक्षक यशवंत सिंह को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पौड़ी नवनीत सिंह को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक टिहरी, टिहरी की पुलिस अधीक्षक तृप्ति भट्ट को पुलिस अधीक्षक अभिसूचना व सुरक्षा, प्रदीप कुमार राय को पुलिस अधीक्षक उत्तरकाशी, प्रीति प्रियदर्शनी को सेनानायक 31वी वाहिनी पीएसी रुद्रपुर, निवेदिता कुकरेती को पुलिस अधीक्षक कार्मिक, पी रेणुका देवी को पुलिस अधीक्षक अपराध व कानून व्यवस्था, दद्दन पाल को सेनानायक 40वी वाहिनी पीएसी हरिद्वार, मंजूनाथ टीसी को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अल्मोड़ा, प्रह्लाद नारायण मीणा को पुलिस अधीक्षक सीआईडी, मणिकांत मिश्रा को सेनानायक एसडीआरएफ, अल्मोड़ा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पंकज भट्ट को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नैनीताल, विशाखा अशोक को पुलिस अधीक्षक क्राइम व मुख्यालय, हिमांशु कुमार वर्मा को पुलिस अधीक्षक यातायात व क्राइम ऊधमसिंह नगर बनाया गया है।

इसके अलावा प्रांतीय पुलिस सेवा के कई पुलिसकर्मियों के भी स्थानांतरण किए गए है। चंद्रमोहन को अपर पुलिस अधीक्षक काशीपुर, हरबंस सिंह को अपर पुलिस अधीक्षक नगर हल्द्वानी, जगदीश चंद्र को अपर पुलिस अधीक्षक यातायात व अपराध नैनीताल, मनोज कुमार कटियाल को अपर पुलिस अधीक्षक यातायात व अपराध हरिद्वार, कमलेश उपाध्याय को अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण देहरादून, प्रकाश चंद्र को उप सेनानायक आईआरबी द्वितीय, अरुणा भारती को अपर पुलिस अधीक्षक जीआरपी हरिद्वार, सुरजीत सिंह पवार को उप सेनानायक 40 वीं वाहिनी पीएसी हरिद्वार, प्रमोद कुमार को अपर पुलिस अधीक्षक अपराध व कानून व्यवस्था, हरीश वर्मा को उप सेनानायक 46वीं वाहिनी पीएसी रुद्रपुर, मिथिलेश कुमार सिंह को उप सेनानायक एसडीआरएफ, स्वतंत्र कुमार सिंह को अपर पुलिस अधीक्षक नगर हरिद्वार, राजेश कुमार भट्ट को अपर पुलिस अधीक्षक क्षेत्रीय अभिसूचना हल्द्वानी की जिम्मेदारी दी गई है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बिग ब्रेकिंग नैनीताल: एसएसपी ने 27 दरोगाओं के किए स्थानांतरण

Photo posted in internet media with a weapon may have to go to jail Preeti  Priyadarshini

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 12 दिसंबर 2021। नैनीताल जनपद की एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी ने रविवार को 27 उप निरीक्षकों व उप निरीक्षक-विशेष श्रेणी के स्थानान्तरण तत्काल प्रभाव से कर दिए हैं। स्थानांतरण आदेश के अनुसार उप निरीक्षक विकास रावत को लालकुआं से हल्द्वानी, कृपाल सिंह को लालकुआं से रामनगर, रजनी आर्या को लालकुआं से बनभूलपुरा, राजेश जोशी को चोरगलिया से मुखानी, मनोज नयाल को रामनगर से बनभूलपुरा, नीतू को भीमताल से हल्द्वानी,

राजकुमारी को रामनगर से भीमताल, सुरेश सिंह को मल्लीताल से बनभूलपुरा, नितिन बहुगुंणा को मल्लीताल से प्रभारी चौकी गन्ना सेंटर, जितेन्द्र सोराड़ी को मुक्तेश्वर से मुखानी, नीरज चौहान को बेतालघाट से प्रभारी चौकी आम्रपाली मुखानी, संजय बृजवाल को प्रभारी चौकी भोटियापड़ाव से प्रभारी चौकी बेलपड़ाव, विजय पाल सिंह को बनभूलपुरा से प्रभारी चौकी मंडी, अमर पाल सिंह को बनभूलपुरा से प्रभारी चौकी मल्ला काठगोदाम, प्रकाश चन्द्र को प्रभारी चौकी मल्ला काठगोदाम से हल्द्वानी, कृष्णा गिरी को तल्लीताल से प्रभारी चौकी आरटीओ मुखानी, भूपाल राम पौरी को हल्द्वानी से प्रभारी चौकी लामाचौड़ मुखानी,

जगवीर सिंह को प्रभारी चौकी मालधन से प्रभारी चौकी रामगढ़, मनोज कुमार को प्रभारी चौकी रामगढ़ से प्रभारी चौकी खेड़ा, त्रिभुवन सिंह को मुखानी से हल्द्वानी, प्रवीण कुमार को पुलिस लाइन से प्रभारी चौकी राजपुरा, बाल कृष्ण को पुलिस लाइन से हल्द्वानी, सतीश कुमार शर्मा को फाइनेशियल टास्क फोर्स से हल्द्वानी, कविंद्र शर्मा को बहुउद्देशीय भवन हल्द्वानी से फाइनेशियल टास्क फोर्स, तारा सिंह राणा को प्रभारी चौकी हीरानगर से वरिष्ठ उप निरीक्षक हल्द्वानी, प्रकाश पोखरियाल को प्रभारी देखरेख चौकी राजपुरा से प्रभारी चौकी भोटिया पड़ाव व भुवन सिंह राणा को प्रभारी चौकी खेड़ा से बनभूलपुरा स्थानांतरित किया गया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : फिर आधा दर्जन से अधिक पुलिस इंस्पेक्टरों-दरोगाओं के स्थानांतरण, बदले हल्द्वानी-नैनीताल, भवाली, रामनगर के कोतवाल

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 5 दिसंबर 2021। नैनीताल जनपद की एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी ने एक बार फिर आधा दर्जन से अधिक पुलिस निरीक्षकों-उपनिरीक्षकों के तबादले कर दिए हैं।

तबादलों के अनुसार निरीक्षक संजय गर्ब्याल को पुलिस लाइन नैनीताल से प्रभारी निरीक्षक थाना भवाली, अरुण कुमार सैनी को प्रभारी निरीक्षक थाना हल्द्वानी से प्रभारी निरीक्षक थाना रामनगर, हरेंद्र चौधरी को प्रभारी साइबर सेल से प्रभारी निरीक्षक थाना हल्द्वानी, धर्मवीर सोलंकी को प्रभारी चुनाव प्रकोष्ठ से प्रभारी निरीक्षक थाना मल्लीताल, उमेश कुमार मलिक को पुलिस लाइन नैनीताल से प्रभारी साइबर सेल-एटीटीएफ एफटीएफ, डीआर वर्मा को थाना मल्लीताल से प्रभारी चुनाव प्रकोष्ठ, उप निरीक्षक कविंद्र शर्मा को थानाध्यक्ष मुखानी से बहुउद्देशीय भवन हल्द्वानी व दीपक बिष्ट प्रभारी चौकी लामाचौड़ से थानाध्यक्ष मुखानी बनाया गया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : चार महिलाओं सहित छह पुलिस कर्मी लाइन हाजिर

अब नैनीताल पुलिस में चली चुनावी तबादला एक्सप्रेस, 28 दरोगा के तबादले, 9  बहुद्देश्यीय भवन हल्द्वानी में संबद्ध — नवीन समाचार : समाचार नवीन ...नवीन समाचार, टनकपुर, 5 दिसंबर 2021। टनकपुर के एसपी देवेंद्र पिंचा ने सीओ की रिपोर्ट पर लंबे समय से ड्यूटी में गैर हाजिर चल रहे छह पुलिस आरक्षियों को अनुशासनहीता और लापरवाही बरतने के आरोप में लाइन हाजिर कर दिया है। बताया जा रहा है कि निलबित किए गए सिपाही ड्यूटी में लापरवाही भी बरतते थे। इनमें चार महिला सिपाही भी शामिल हैं। निलंबित सिपाहियों मे टनकपुर में तैनात शशि किरण राणा, गिरीश राम, विजय लक्ष्मी, बृजेश कुमार, अखिला गड़िया और हेमलता कश्यप शामिल हैं।

बताया गया है कि यह सिपाही लंबे समय से ड्यूटी से नदारद चल रहे थे, और अनेक चेतावनियों के बाद भी वे ड्यूटी पर नहीं लौट रहे थे। इसी को देखते हुए बीते दिनों सीओ अविनाश वर्मा ने इसकी रिपोर्ट एसपी देवेंद्र पिंचा को भेजी थी। इस पर एसपी पिंचा ने मामले को गंभीरता से लेते हुए सभी छह सिपाहियों को तत्काल लाइन हाजिर करने के आदेश जारी कर दिए हैं। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : अब नैनीताल पुलिस में चली चुनावी तबादला एक्सप्रेस, 28 दरोगा के तबादले, 9 बहुद्देश्यीय भवन हल्द्वानी में संबद्ध

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 1 दिसंबर 2021। प्रदेश में आसन्न विधानसभा चुनावों के दृष्टिगत तबादला एक्सप्रेस बुधवार को नैनीताल पुलिस से होकर गुजरी। यहां एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी ने 28 दरोगाओं के तबादले कर दिए हैं। बुधवार को जारी तबादला आदेशों के अनुसार कालाढूंगी थाना प्रभारी नन्दन सिंह रावत को एसओजी प्रभारी बनाया गया है।

इनके अलावा रमेश सिंह बोरा को थानाध्यक्ष भीमताल से थानाध्यक्ष कालाढूंगी, प्रमोद पाठक को थानाध्यक्ष वनभूलपुरा से थानाध्यक्ष काठगोदाम, आसिफ खॉ को थानाध्यक्ष मुक्तेश्वर से थानाध्यक्ष वनभूलपुरा बनाया गया है। इसके अलावा 9 दरोगा एसएसआई हल्द्वानी मंगल सिंह नेगी, निर्मल लटवाल चौकी टीपी नगर, संजय बोरा थाना वनभूलपुरा, दीवान सिंह थाना वनभूलपुरा, कुसुम रावत थाना वनभुलपुरा, त्रिभुवन जोशी को प्रभारी देखरेख चौकी आम्रपाली, मंजू ज्याला थाना मुखानी, धरम सिंह थाना मुखानी, गुरविन्दर कौर थाना मुखानी व हरीश राम आर्या थाना काठगोदाम को बहुउद्देशीय भवन हल्द्वानी से से सम्बद्ध कर दिया गया है।

वहीं दीपा जोशी को प्रभारी देखरेख चौकी न्यायालय हल्द्वानी से थाना रामनगर, दिनेश चन्द्र जोशी को प्रभारी चौकी मंडी से पीआरओ सैल, विमल कुमार मिश्रा को थानाध्यक्ष काठगोदाम से थानाध्यक्ष भीमताल, कमित जोशी को थाना काठगोदाम से थाना कालाढूंगी, दिलीप कुमार चौकी पीरूमदारा को थाना रामनगर से थाना लालकुआं, मनोहर सिंह पांगती को थाना कालाढूंगी से थाना भवाली, गगनदीप को थाना कालाढूंगी से थाना लालकुआं, मेहनाज को थाना कालाढूंगी से थाना बेतालघाट, महेंद्र राज सिंह को प्रभारी चौकी कोटाबाग से थाना भीमताल, रमेश चन्द्र पंत को थाना कालाढूंगी से थाना बेतालघाट, महेश चन्द्र जोशी को प्रभारी चौकी बेलपड़ाव से थानाध्यक्ष मुक्तेश्वर, महेश राम को थाना कालाढूंगी से थाना मुक्तेश्वर, भावना बिष्ट को थाना तल्लीताल से थाना लालकुआं एवं प्रेमा कोरंगा थाना बेतालघाट से थाना लालकुआं स्थानांतरित किया गया है। इधर विभागीय सूत्र बता रहे हैं कि गत दिनों त्वरित आदेशों से स्थानांतरित कुछ निरीक्षक व उपनिरीक्षक अभी भी पूर्व स्थानों पर जमे हुए हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : पुलिस क्षेत्राधिकारियों के तबादले

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 27 नवंबर 2021। जनपद की एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी ने जनपद में तीन उपाधीक्षकों-क्षेत्राधिकारियों के कार्य क्षेत्रों में बदलाव कर दिए हैं। भूपेंद्र सिंह धोनी को क्षेत्राधिकारी भवाली से क्षेत्राधिकारी हल्द्वानी, प्रमोद कुमार शाह को क्षेत्राधिकारी यातायात से क्षेत्राधिकारी भवाली और शांतनु पाराशर को क्षेत्राधिकारी हल्द्वानी से क्षेत्राधिकारी यातायात व महिला सुरक्षा बनाया गया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : सूचना के अधिकार के तहत मिली जानकारी के बाद पुलिस की सीपीयू यूनिट के अवैध होने का दावा….

नवीन समाचार, देहरादून, 17 नवंबर 2021। उत्तराखंड में पुलिस की एक नई सीपीयू यानी सिटी पेट्रोलिंग यूनिट यातायात नियंत्रण का काम कर रही है। पूर्व डीजीपी बीएस सिद्द्धू द्वारा गठितयह यूनिट यातायात व्यवस्था को देखते हुए यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों से जुर्माना भी वसूल करती है। लेकिन सूचना अधिकार कार्यकर्ता अधिवक्ता विकेश नेगी ने सूचना के अधिकार से मिली जानकारी के आधार पर सीपीयू के अवैध होने का दावा किया है।

सावधान! CPU पुलिस से उलझना अब पड़ेगा भारी, आंखों में फेंकेंगे मिर्ची स्प्रे  | Khabar Uttarakhand Newsनेगी ने बताया कि उन्होंने सीपीयू के गठन को लेकर सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत पुलिस से जानकारी मांगी कि क्या सीपीयू के गठन को लेकर कोई शासनादेश जारी हुआ है? यदि हां तो उसकी प्रति उन्हें उपलब्ध कराई जाएं। इस पर पुलिस महानिदेशक कार्यालय के लोक सूचना अधिकारी उपमहानिरीक्षक सेंथिल, अबूदई कृष्णराज एस ने जानकारी दी है कि सीपीयू के गठन को लेकर अब तक कोई शासनादेश जारी नहीं हुआ है। सीपीयू का गठन तत्कालीन डीजीपी बीएस सिद्द्धू के कार्यालय ज्ञाप पत्रांक डीजीपी-अप.- 294/2013 दिनांक 19 नवम्बर 2013 के आधार पर किया गया था। अधिवक्ता विकेश नेगी का कहना है कि इस आधार पर सीपीयू का गठन पूरी तरह से गैर-कानूनी है। उनके अनुसार इस तरह की पुलिस का उल्लेख पुलिस एक्ट में भी नहीं है। ऐसे में सीपीयू के गठन पर सवाल खड़े होते हैं।

नेगी का यह भी कहना है कि पुलिस एक्ट में सीपीयू की वर्दी का कहीं कोई जिक्र नहीं है। इसका सीधा मतलब है कि यह यूनिट पुलिस एक्ट के बाहर काम कर रही हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सीपीयू को मिलने वाली सुविधाओं पर खर्च किया जाने वाला बजट किस निधि से आ रहा है इसकी भी कोई जानकारी नहीं दी जा रही है।

हालांकि पुलिस द्वारा दी गयी सूचना को नेगी ने आधा-अधूरा माना है, और कहा है कि वह इस सूचना से संतुष्ट नहीं हैं। लिहाजा उन्होंने इस मामले में प्रथम अपीलीय अधिकारी के यहां अपील की है। उनका कहना है कि पुलिस द्वारा काटे गये चालान को परिवहन विभाग के पास जमा कराया जाता है जबकि पुलिस का कथन है कि यह राजकोष में जमा कराया जाता है। इस सूचना को लेकर भी भ्रम की स्थिति है। नेगी ने कहा कि वह इस पूरे मामले को लेकर नैनीताल उच्च न्यायालय में जनहित याचिका दायर करने जा रहे हैं। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : डीजीपी ने कहा-करीब सवा लाख लोगों को आपदा में बचाया, बताईं पुलिस की भावी योजनाएं

-बताया-पुलिस में 1526 पदों पर भर्ती के लिए भेजा अध्याचन, पुलिस प्रशिक्षण में शामिल होगा आपदा प्रबंधन: डीजीपी

पत्रकार वार्ता करते प्रदेश के डीजीपी अशोक कुमार।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 24 अक्टूबर 2021। प्रदेश के पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने बताया कि राज्य में 28 हजार पुलिस कर्मी कार्यरत हैं और तीन हजार पद रिक्त हैं। अभी विभाग से 1526 पदों पर भर्ती के लिए अध्याचन भेजा है। उन्होंने कहा कि राज्य ने हर आपदा से कुछ सीखा है। 2013 की आपदा के बाद राज्य में एसडीआरएफ का गठन किया गया। अब कोशिश की जा रही है कि एसडीआरएफ का यथासंभव विस्तार हो। साथ ही यह निर्णय लिया गया है कि पुलिस विभाग में आरक्षी से लेकर उपनिरीक्षक व उपाधीक्षक के पदों पर नियुक्ति के मूल पाठ्यक्रम में आपदा प्रबंधन को शामिल किया जाएगा। उन्होंने आपदा में पुलिस द्वारा करीब सवा लाख लोगों का जीवन बचाने का दावा भी किया। देखें विडियो :

श्री कुमार रविवार को जनपद के आपदा प्रभावित क्षेत्रों का निरीक्षण करने के बाद मुख्यालय में पत्रकारों से वार्ता कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि राज्य की पुलिस ने आपदा के नुकसान को कम करने में बेहतरीन कार्य किया है। 17 से आई आपदा की सूचना 16 की शाम को यानी 24 घंटे पूर्व प्राप्त हुई। इसके तत्काल बाद इस सूचना को पूरे प्रदेश में फैलाया गया और 17 से ही करीब 65 हजार सैलानियों को पहाड़ों की ओर आने से रोककर और खतरनाक स्थानों पर रह रहे 48 हजार स्थानीय लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाकर उनकी जान बचाई गई। इसके अलावा करीब विभिन्न स्थानों पर फंसे हुए करीब 10 हजार लोगों को बचाया गया।

उन्होंने बताया कि वर्तमान में राज्य में 76 शव मिल चुके हैं, जबकि 8 पर्वतारोहियों सहित 14 लोग अभी गायब हैं। नैनीताल जनपद में सुकना में 2 व झूतिया में एक व्यक्ति गायब है। उनकी तलाश की जा रही है। पुलिस कर्मियों में आक्रोश व आत्महत्या के बढ़ते मामलों के प्रश्न पर डीजीपी ने कहा कि उनकी मांगें जायज थीं। शासन ने 2001 में नियुक्त पुलिस कर्मियों को 4600 ग्रेड-पे देने का आदेश जारी कर दिया है। इसके बाद वालों के मामले को आगे समिति देखेगी। इस मौके पर डीआईजी डॉ. नीलेश आनंद भरणे व एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी भी मौजूद रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : एसएसपी की पांच दिन में दूसरी बड़ी कार्रवाई, चौकी प्रभारी सहित 3 लाइन हाजिर, दो निलंबित

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 21 सितंबर 2021। गत 17 सितंबर को दो पुलिस कर्मियों को निलंबित करने के पांच दिन बार नैनीताल जनपद की एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी ने फिर लापरवाही बरतने वाले दो पुलिस कर्मियों को निलंबित तथा चौकी प्रभारी सहित तीन को लाइन हाजिर कर दिया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मंगोली चौकी प्रभारी नरेंद्र कुमार तथा रामनगर थाने के दो सिपाहियों लखविंदर सिंह और परमजीत के खिलाफ जनता की ओर से अलग-अलग मामलों में शिकायतें की गई थीं। जांच के आधार पर तीनों को लाइन हाजिर कर दिया गया है। जबकि विभागीय कार्य में लापरवाही बरतने पर भीमताल के सिपाही सुंदर लाल और हल्द्वानी के सिपाही रणवीर को निलंबित किया गया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : एसएसपी ने सुनीं नैनीताल की समस्याएं, दिए सत्यापन एवं अनाधिकृत वाहनों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 18 सितंबर 2021। शनिवार को पहली बार जनपद की एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी ने नगर की समस्याएं जानने के लिए नगर के चुनिंदा लोगों के साथ पुलिस लाइन में बैठक आयोजित कर मुलाकात की। इस दौरान बैठक में उपस्थित लोगों ने शहर में बढ़ते नशे तथा पार्किंग व बढ़ती जाम के साथ शहर में बाहरी लोगों द्वारा किए जा रहे अतिक्रमण और अवैध निर्माण आदि की समस्याओं को प्रमुखता से रखा। एसएसपी ने जल्द समस्याओं को सुनते हुए इस पर एसएसपी ने सीओ को एक सप्ताह में टैक्सी और पर्यटन गाइडों का सत्यापन करने तथा आम जनता को परेशान किए बिना अनाधिकृत रूप से पार्क और संचालित किए जा रहे वाहन चालकों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने और संगीन अपराध करने वालों को न बख्शने के निर्देश दिए।

बैठक में नगर पालिकाध्यक्ष सचिन नेगी ने शहर में नशे का कारोबार तेजी से बढ़ने की समस्या को सामने रखा। टैक्सी एसोसिएशन के बाहरी शहरों से पहुंच रहे लोगों द्वारा शहर में टैक्सियों का संचालन करने की समस्या उजागर की। कहा कि बाहरी क्षेत्रों से पहुंचे कई लोग नगर में बिना किसी लाइसेंस या सत्यापन के पर्यटन गाइड के रूप में कार्य कर रहे हैं, इससे नगरवासी बेरोजगार हो गए हैं। तल्लीताल व्यापार मंडल के पूर्व अध्यक्ष मारुति नंदन साह ने शहर में बेतरतीब तरीके से खड़े किए जाने वाले वाहनों और जाम की समस्या तथा युवाओं द्वारा माल रोड सहित अन्य मार्गों में तेज गति से दो पहिया वाहन चलाने की समस्याएं रखीं।

पालिका के नामित सभासद मनोज जोशी ने भी बाहरी क्षेत्रों से कई लोगों के शहर में अवैध रूप से शहर में बसने और बिना सत्यापन के कार्य करने का आरोप लगाये। उन्होंने इस पर रोक लगाने के लिए नगर में हर व्यक्ति का अनिवार्य रूप से पुलिस सत्यापन किये जाने की आवश्यकता जताई। साथ ही बैठक में मौजूद लोगों को आश्वासन दिया कि सभी समस्याओं को प्रमुखता से लेते हुए उनके निस्तारण की कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। बैठक में एसपी हरीश वर्मा, सीओ संदीप नेगी, कोतवाल अशोक कुमार सिंह, प्रतिसार निरीक्षक महेश चंद्रा, सभासद प्रेमा अधिकारी, मोहम्मद फारुख, तरुण कांडपाल, अमरप्रीत सिंह, विवेक साह, दीपिका बिनवाल, सहित अन्य अनेक लोग मौजूद रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : कार्य में लापरवाही पर एसएसपी ने दो पुलिस कर्मी किए निलंबित

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 17 सितंबर 2021। ड्यूटी के दौरान लापरवाही बरतने के आरोप में जनपद की एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी ने जनपद के दो पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है। निलंबित किए गए पुलिस कर्मियों में से हल्द्वानी ओर दूसरा भीमताल का है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार गत 2 सितंबर को हल्द्वानी क्षेत्र में फायरिंग की घटना सामने आई थी। जांच में पता चला कि मामले के आरोपितों का वाहन मंडी चौकी स्थित मोतीनगर बैरियर से गुजरा था। सीसीटीवी फुटेज देखने पर सामने आया कि यहां पुलिसकर्मी ने वाहन चेक नहीं किए। इसके अलावा दूसरी घटना में 6 सितंबर को काठगोदाम क्षेत्र से एक इनोवा कार चोरी होने की घटना की जांच में यही तथ्य सामने आए कि संबंधित वाहन मोतीनगर बैरियर से गुजरा, लेकिन इस बार भी यहां तैनात पुलिस कर्मी ने वाहन की जांच नहीं की। इस पर दोनों मामलों में लापरवाह पाए गए आरक्षी रणवीर सिंह को निलंबित करने की कार्रवाई की गई है।

इसके अलावा यहां तैनात इंडियन रिजर्व बटालियन (आईआरबी) के चार सिपाहियों पर भी लापरवाही का आरोप है। इस संबंध में एसएसपी ने आईआरबी के अधिकारियों से कार्रवाई के लिए पत्राचार किया है। वहीं अन्य मामले में भीमताल में तैनात सिपाही सुंदर लाल बीते दिनों एक प्रकरण में न्यायालय गया था। इस बीच उसने शराब पी ली, और शराब के नशे में न्यायालय में पेशी करा दी। यही नहीं उसने नशे अभद्रता भी की। प्रारंभिक जांच में दोषी पाये जाने पर उसे भी निलंबित कर दिया गया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पुलिस टीम पर लाठी-डंडों से हमला, एसआई घायल, आरोपित फरार-दो गिरफ्तार

नवीन समाचार, नानकमत्ता, 15 सितंबर 2021। पारिवारिक कलह की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस टीम पर स्थानीय लोगों के लाठी-डंडों से हमला करने की घटना हुई हैं। घटना में पुलिस के एक दरोगा गंभीर रुप से घायल हो गए, जबकि आरोपित फरार हो गए। बहरहाल इनमें से दो आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है। जबकि एक आरोपित अभी भी फरार है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार को पुलिस को डायल 112 पर अज्ञात व्यक्ति की सूचना मिली कि ग्राम पीपलगोला-बरकी डंडी में एक व्यक्ति अपने घर में तोड़फोड़ करते हुए पत्नी के साथ मारपीट कर रहा है। इस सूचना पर एसआई जगत सिंह भंडारी, आरक्षी दिनेश चंद्र के साथ आनन-फानन में मौके पर पहुंचे और भीड़ को किनारे कर मारपीट कर रहे जसपाल सिंह पुत्र मजीत सिंह को बमुश्किल पकड़ कर थाने ले जाने के लिए गाड़ी की तरफ बढ़ने लगे तो आरोपित जसपाल सिंह और उसके चचेरे भाइयों चिम्मन सिंह व कुलविंदर सिंह आक्रोशित हो गए। उन्होंने लाठी डंडो से पुलिस टीम पर हमला कर दिया। इसमें एसआई भंडारी गंभीर रुप से घायल हो गए।

साथ ही आरोपितों ने जसपाल को पुलिस से छुड़ाकर घर के बाहर रोड पर खड़ी एसआई की प्राइवेट कार संख्या यूके18के-2888 के शीशे, बोनट आदि क्षतिग्रस्त कर दिए और और जान से मारने की धमकी देते हुए फरार हो गए। इस पर घायल एसआइ भंडारी को सरकारी अस्पताल लाया गया। जहां कंधे की गंभीर अंदरूनी चोटों को देखते हुए चिकित्सकों ने उन्हें हायर सेंटर रेफर कर दिया। साथ ही पुलिस ने एसआइ भंडारी की तहरीर पर पुलिस ने जसपाल सिंह व उसके दोनो भतीजों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। मामले की जांच एसआइ नवीन बुधानी को सौंपी गई। मामले में एसएसपी के निर्देश पर गठित पुलिस टीम ने दबिश देकर बुधवार की सुबह आरोपित चिम्मन सिंह व कुलविन्दर सिंह को गिरफ्तार कर लिया। जबकि जसपाल सिंह अभी भी फरार है। पुलिस ने दोनों आरोपितों को न्यायालय में पेश कर न्यायालय के आदेश पर जेल भेज दिया गया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : जीपीएस से जुड़ेंगे नैनीताल के पार्किंग स्थल, बार कोड से मिलेगी रूट की जानकारी

-पुलिस अधिकारियों-कर्मचारियों को दिया जाएगा अच्छे व्यवहार का प्रशिक्षण
डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 13 सितंबर 2021। कुमाऊं परिक्षेत्र के नए डीआईजी डॉ. नीलेश आनंद भरणे ने नैनीताल की यातायात एवं पार्किंग व्यवस्था को दुरुस्त करने का पहला टास्क हाथ में लिया है। नगर के पार्किंग स्थलों का निरीक्षण करने के उपरांत सोमवार को उन्होंने पत्रकार वार्ता की। इस दौरान उन्होंने पहले चरण में 15 दिन तक परीक्षण के आधार पर की जाने वाली व्यवस्थाओं की जानकारी दी।

बताया कि नगर में लंबे समय से एक स्थान पर खड़े वाहनों को हटाने के लिए उनके मालिकों को नोटिस देकर एमवी एक्ट में कार्रवाई की जाएगी। पुलिस बैरियरों को भी चौराहों पर आवश्यकतानुसार ही लगाएगी। पार्किंग स्थलों को उनकी क्षमता के अनुसार ही प्रयोग किया जाएगा व नए पार्किंग स्थल भी विकसित किए जाएंगे और पार्किंग स्थलों को जीपीएस से जोड़ा जाएगा तथा बारकोड स्कैनिंग के माध्यम से रूट निर्धारित किए जाएंगे। पर्यटन सीजन व सप्ताहांत पर शहर में अनावश्यक घूमने वाले वाहनों को सही रूट, होटल व पार्किंग आदि की जानकारी दी जाएगी, ताकि उन्हें ऐसे न घूमना पड़े। पुलिस लाइन में पुलिस कर्मियों व अधिकारियों को अच्छा व्यवहार करने का प्रशिक्षण दिया जाएगा। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : कैदी की जेल में मौत मामले में जिले के पुलिस अधिकारियों को ‘सुप्रीम’ राहत

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नई दिल्ली, 7 सितंबर 2021। नैनीताल जनपद की एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी एवं उनके मातहत अधिकारियों को नैनीताल जनपद से स्थानांतरण के उच्च न्यायालय के आदेश पर व्यक्तिगत तौर पर बड़ी मनोवैज्ञानिक राहत मिली है।

उल्लेखनीय है कि हल्द्वानी जेल में काशीपुर के कैदी प्रवेश कुमार की मार्च माह में हुई मौत के मामले में उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी को हटाने के निर्देश दिए थे। इस पर आज सर्वोच्च न्यायालय ने रोक लगा दी है। इस मामले में उच्च न्यायालय ने चार बंदी रक्षकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने, मामले की सीबीआई जांच करने तथा एसएसपी नैनीताल को हटाने के निर्देश दिए गए थे।

इस आदेश के खिलाफ राज्य सरकार सर्वोच्च न्यायालय गई, इस पर सर्वोच्च न्यायालय ने इस पूरे मामले में एसएसपी नैनीताल और उनके अधीनस्थ अधिकारियों को बड़ी राहत देते हुए, मामले में स्थगनादेश दे दिया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : कुमाऊं के नए डीआईजी ने संभाला कार्यभार, अपना मोबाइल नंबर-ईमेल जारी कर कहा, कोई न सुने तो डीआईजी से कहें

DIG Nilesh Bharne supervising rescue operation at Chamoli in Uttarakhand -  The Hitavadaडॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 6 सितंबर 2021। कुमाऊं परिक्षेत्र के नए पुलिस उप महानिरीक्षक-डीआईजी के पद पर डॉ. नीलेश आनंद भरणे ने सोमवार को कार्यभार ग्रहण कर लिया। मूलतः महाराष्ट्र के निवासी भरणे 2005 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। राज्य में उनकी पहली तैनाती कुमाऊं परिक्षेत्र के ऊधमसिंह नगर जनपद में एएसपी के पद पर हुई थी और वह इस जनपद में दो बार एसएसपी के पद पर रहे हैं।

कार्यभार ग्रहण करने के बाद उन्होंने जो सबसे बड़ी बात कही है, वह यह कि पुलिस से संबंधित किसी भी मामले में यदि थाना, सर्किल या जिला स्तर पर सुनवाई न हो रही हो तो वह शिकायत डीआईजी से की जा सकती है। इस हेतु उन्होंने मोबाइल नंबर 7500016666 और ईमेल पता भी जारी किया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : हल्द्वानी में नाबालिग से छेड़छाड़ करता कैमरे में कैद हुआ पुलिस कर्मी, वर्दी में हुई जमकर पिटाई

दुकान में अकेली बैठी नाबालिग से पुलिसकर्मी ने की अश्लील हरकत, परिजनों ने पकड़कर जमकर की धुनाईनवीन समाचार, हल्द्वानी, 5 सितंबर 2021। हल्द्वानी में एक पुलिसकर्मी द्वारा वर्दी को शर्मसार करने की घटना प्रकाश में आई है। रविवार को मुखानी थाना क्षेत्र में एक पुलिस कर्मी द्वारा 6 वर्षीया नाबालिग बच्ची के साथ अश्लील हरकत करने के आरोप में परिजनों ने पुलिस कर्मी की जमकर धुनाई कर दी और बाद में उसे थाना पुलिस के सुपुर्द कर दिया गया है। आरोपित पुलिस कर्मी यातायात नगर चौकी में हेड कांस्टेबल के पद पर तैनात है। देखें घटना का वायरल हो रहा वीडियो:

परिजनों की तहरीर पर आरोपित के खिलाफ थाना मुखानी में भारतीय दंड संहिता की धारा 364, 354ए तथा 9(a)(iv)(L)/10 पॉक्सो अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। एसएसपी ने इस घटना को घिनौनी व शर्मनाक बताते हुए जनता से संबंधित वीडियो को नाबालिग बच्ची से जुड़ी होने के कारण शेयर न करने की अपील की है।

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार को सरस्वती इन्क्लेव बिठौरिया में रहने वाला पुलिस के एचसीपी मदन सिंह परिहार (58) पास ही एक दुकान में दूध लेने गया था। इसी बीच वह दुकान में घुस गया और अंदर बैठी नाबालिग लड़की से अश्लील हरकत करने लगा। आरोपित पूर्व में भी इस तरह की हरकत कर चुका था, इसलिए रविवार को परिजनों ने उसकी वीडियो रिकॉर्डिंग भी कर ली ताकि इसे सबूत के साथ पकड़ा जा सके। इसके बाद उसे पकड़ लिया, और उसकी जमकर धुनाई लगाई गई।

बाद में उसे पुलिस के सुपुर्द कर दिया गया। एसएसपी ने आरोपित एचसीपी को निलंबित कर दिया है। सीओ शान्तनु पराशर ने बताया कि आरोपित के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही की जा रही है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में दरोगा पदोन्नति परीक्षा के परिणाम पर लगी रोक

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 4 सितंबर 2021। उत्तराखंड उच्च न्यायालय की न्यायमूर्ति रवींद्र मैठाणी की एकलपीठ ने फरवरी 2021 में हुई दरोगा पदोन्नति परीक्षा का परिणाम घोषित करने पर रोक लगा दी है।

उल्लेखनीय है कि आरक्षी आशीष त्यागी की याचिका में कहा गया है कि फरवरी 2021 में आरक्षी से उप निरीक्षक-प्लाटून कमांडर पद पर पदोन्नति के लिए अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने परीक्षा कराई थी। आयोग ने दो बार इसकी आंसर-की जारी की। पहली आंसर-की में दिए गए प्रश्नों का उसने सही उत्तर दिया था, लेकिन दूसरी आंसर-की में उसके एक सवाल को गलत बताया गया। जब उसने आरटीआई के तहत पुलिस भर्ती केंद्र नरेंद्रनगर और अन्य से जानकारी मांगी तो उसका जवाब सही था। याचिका में कहा गया कि उसके जिस प्रश्न को गलत बताया गया था वह था-गार्ड की ताकत क्या है और याचिकाकर्ता ने इसका जवाब दिया था-एक हेड कांस्टेबल और तीन कांस्टेबल। उसका यह उत्तर सही था।

याचिकाकर्ता का कहना था कि यदि इस पदोन्नति परीक्षा का परिणाम घोषित होता है और सफल उम्मीदवारों को प्रशिक्षण के लिए भेजा जाता है तो याचिकाकर्ता के अधिकार पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। पक्षों को सुनने के बाद हाईकोर्ट की एकलपीठ ने पदोन्नति परीक्षा के परिणाम घोषित करने पर रोक लगा दी है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : नैनीताल पुलिस ने ‘मित्र पुलिस’ का नाम किया साकार

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 29 अगस्त 2021। मल्लीताल कोतवाली पुलिस ने रविवार को मित्र पुलिस की अवधारणा को सही साबित करते हुए एक उल्लेखनीय कार्य किया। हुआ यह कि नगर में घूमने आई सेक्टर 47 गुड़गांव निवासी आंचल गिरधर पुत्री गूनेश गिरिधर का पर्स कहीं खो गया।

यह पर्स किसी तरह कोतवाली पुलिस को मिल गया। पर्स में गाड़ी की आरसी, 4 क्रेडिट कार्ड तथा आधार कार्ड, पैन कार्ड आदि सामग्री थी। पुलिस ने पर्स मिलने पर किसी तरह पर्स स्वामिनी को तलाश कर उसके सुपुर्द कर दिया, इस पर सैलानियों ने नैनीताल पुलिस की कार्यप्रणाली की मुक्त कंठ से सराहना की। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : खुशखबरी: स्वतंत्रता दिवस पर उत्तराखंड के 6 पुलिस कर्मी-अधिकारी राष्ट्रपति के हाथों होंगे सम्मानित

नवीन समाचार, देहरादून, 14 अगस्त 2021। स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर उत्तराखंड के छः पुलिस अधिकारियों को विशिष्ट सेवाओं के लिए देश के राष्ट्रपति के हाथों ‘पुलिस पदक’ से सम्मानित किया जाएगा।

सम्मानित होने वाले पुलिस कर्मियों में 31वीं वाहिनी पीएसी रुद्रपुर के सेनानायक ददन पाल, देहरादून के पुलिस अधीक्षक-सतर्कता धीरेंद्र गुंज्याल, पुलिस उपाधीक्षक-मुख्यमंत्री सुरक्षा वीरेंद्र सिंह रावत, पुलिस उपाधीक्षक-पुलिस संचार मुख्यालय देहरादून दिग्विजय सिंह परिहार, एसपीआर हल्द्वानी के उपनिरीक्षक विशेष श्रेणी मोहन राम व 46वीं वाहिनी पीएसी के मुख्य आरक्षी विशेष श्रेणी चालक जई राम शामिल हैं। पुलिस कर्मियों के सम्मानित होने के लिए चुने जाने पर उत्तराखंड के पुलिस कर्मियों में हर्ष एवं उत्साह की लहर है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : यहां घटना के दौरान ही पहुंच गई पुलिस और ज्वैलर की दुकान के भीतर ही दबोच लिए शटर तोड़कर घुसे चोर

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 3 अगस्त 2021। हालांकि पुलिस को लेकर घटना के बाद पहुंचने के तंज कसे जाते हैं, पर हल्द्वानी की मंडी चौकी पुलिस ने आभूषणों की एक दुकान में शटर तोड़कर घुसे चोरों को दुकान के अंदर ही धर दबोचा। यह अपनी तरह की अनूठी घटना हो सकती है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार रात्रि हल्द्वानी की मंडी चौकी में तैनात आरक्षी रणवीर एवं होम गार्ड शिशुपाल गस्त करते हुए गौजाजली बिचली की ओर जा रहे थे। तभी रात्रि लगभग 2.35 बजे उन्होंने वहां पर स्थित दीक्षा ज्वेलर्स के दुकान के अंदर से एक व्यक्ति को गली में भागते हुए देखा तो उन्होंने उसका पीछा किया। वह युवक तो खेतो के रास्ते से भाग गया। लेकिन गश्त कर रहे रणवीर व शिशुपाल ने वापस आकर दीक्षा ज्वेलर्स की दुकान को चेक किया तो दुकान के दोनों ताले लगे हुए थे किंतु शटर बीच से कुछ उठा हुआ नजर आया। उनहोंने इसकी सूचना रात्रि अधिकारी को दी और दुकान स्वामी को घटना से अवगत कराते हुए दुकान खुलवाने कहा।

दुकान स्वामी ने जैसे ही दुकान खोली तो दुकान के अंदर न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी बनभूलपुरा निवासी दो लोगों को चोरी किए जा रहे श्रीयंत्र, 5 गणेश जी की 2 विष्णु-लक्ष्मी व 3 लक्ष्मी माता की चांदी की मूर्तियों तथा कई स्वर्णाभूषणों के साथ मौके से गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए आरोपितों ने बताया कि उनके साथ लाइन नम्बर 1 बनभूलपुरा निवासी एक अन्य साथी भी था जो उनकी मोटर साईकिल की आवाज सुनकर भाग गया। यह भी पता चला कि पकड़े गए आरोपित स्मैक पीने के आदी हैं। उनके विरुद्ध कोतवाली हल्द्वानी में भारतीय दंड संहिता की धारा 380, 457, 411 व 34 के तहत अभियोग पंजीकृत कर दिया गया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : चालान काटने वाली महिला इंस्पेक्टर का खुद होगा चालान

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 1 अगस्त 2021। गत दिवस शहर के तीन स्पा सेंटरों में छापेमारी कर वाहवाही लूटने वाली एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल की प्रभारी महिला निरीक्षक ललिता पांडेय परेशानी में फंस गई हैं। उस दौरान मास्क न पहनना उन्हें भारी पड़ गया है।

मीडिया में इस दौरान के फोटो छपने व उनके द्वारा मास्क न पहनकर कोविड प्रोटोकॉल का पालन न किये जाने का मामला उठने के बाद जनपद की एसएसपी ने उनका कोविड नियमों का उल्लंघन चालान करने का आदेश दिया है। इस प्रकार स्पा सेंटरों का चालान करने वाली महिला निरीक्षक का खुद चालान कटना तय हो गया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : अधिवक्ता से अभद्रता करने के मामले की होगी जांच, थानेदार होंगे लाइन हाजिर, पीड़ित को मिलेगी सुरक्षा…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 02 जुलाई 2021। उत्तराखंड उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति आरएस चौहान व न्यायमूर्ति आलोक कुमार वर्मा की खंडपीठ ने पिथौरागढ़ के कोतवाल रमेश तनवार द्वारा अधिवक्ता प्रभात बोरा के साथ अभद्रता करने के मामले में याचिकाकर्ता, उसके परिवार और उनकी सम्पति को सुरक्षा देने के आदेश दिए हैं। न्यायालय ने अपने आदेश में यह भी कहा है कि जांच पूरी होने तक आरोपित कोतवाल लाइन हाजिर रहेंगे। इस मामले में न्यायालय ने पुलिस विभाग से तीन सप्ताह में विस्तृत जांच रिपोर्ट पेश करने को भी कहा है।

इधर हाईकोर्ट बार एसोसिएशन की नई कार्यकारिणी को कार्यभार ग्रहण करने की तैयारी, उधर बार काउंसिल पहुंची आपत्तियां…

न्यायालय में सुनवाई के दौरान हाइकोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अवतार सिंह रावत, महासचिव विकास बहुगुणा ने खंडपीठ के सामने पीड़ित का पक्ष रखते हुए कहा कि अधिवक्ता किसी मामले के सिलसिले में कोतवाली पिथौरागढ़ गए हुए थे। इस बीच गाड़ी की पार्किंग को लेकर उनके व कोतवाल के बीच कहासुनी हो गयी। अधिवक्ता द्वारा जब कोतवाल से ढंग से बात करने को कहा गया तो उन्होंने उनको गालीगलौच व थाने से धक्के मारकर बाहर कर दिया। जब उन्होंने इसकी शिकायत एसपी सुखबीर सिंह से की तो कोतवाल को लाइन हाजिर कर दिया गया। लेकिन उनका कहना था कि कोतवाल का इस तरह से पेश आना अवमानवीयता है, उनके खिलाफ इस अव्यवहारिक आचरण करने के लिए विभागीय कार्यवाही की जाये और उनको सुरक्षा भी दिलाई जाए। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल एसएसपी नें फेंटे पुलिस कर्मियों के पत्ते, 100 से अधिक के किए तबादले…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 1 जुलाई 2021। नैनीताल जनपद की वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रीति प्रियदर्शिनी ने लंबे समय से एक स्थान पर जमे 102 पुलिस कर्मियों के स्थानांतरण कर दिए हैं। बताया गया है कि निर्धारित समय सीमा से अधिक अवधि पूरी करने के कारण स्थानांतरण किए गए हैं। स्थानांतरित पुलिस कर्मियों में कांस्टेबल, महिला कांस्टेबल व हेड कांस्टेबल शामिल हैं।
देखें पूरी स्थानांतरण सूची:

आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बहुत खूब: नैनीताल पुलिस ने 3 दिन में गिरफ्तार किए ईनामी स्मैक माफिया सहित 53 वांछित बदमाश

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 18 जून 2021। नैनीताल जनपद की पुलिस ने 52 वांछितों एवं काफी समय से फरार चल रहे हल्द्वानी क्षेत्र के इनामी बदमाश ’स्मैक माफिया समी उर्फ समीर’ पुत्र अकरम खान निवासी दरऊ थाना किच्छा जनपद उधम सिंह नगर को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। अकरम पर जनपद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा 1000 रुपए का इनाम घोषित किया गया था।
यह कार्रवाई जनपद की वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रीति प्रियदर्शिनी के निर्देशों पर अवैध तस्करी की रोकथाम हेतु निरोधात्मक कार्यवाही करते हुए वांछित के विरूद्व कार्यवाही के लिए चलाए जा रहे 3 दिवसीय अभियान ‘आपरेशन वांटेड’ एवं वारंटियों के विरूद्व कार्यवाही के लिए चलाए जा रहे आपरेशन सर्च अभियान के तहत की गई है। इस अभियान के तहत बीते तीन दिनों में 71 वांछित आरोपितों में से 52 को एवं 14 इनामी बदमाशों में से एक को गिरफ्तार किया गया है। बताया गया है कि इसके अलावा आपरेशन सर्च के तहत 1 अपराधी के विरूद्व न्यायालय से गैरजमानती वारंट भी प्राप्त किया गया है, व 2 की तलाशी व गिरफ्तारी की कार्यवाही की जा रही हैैै। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : छोटे बच्चों वाली व गर्भवती महिला पुलिस कर्मियों को लेकर HC में याचिका दायर, सरकार से जवाब तलब..

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 12 जून 2021। उत्तराखंड उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति आरएस चौहान व न्यायमूर्ति आलोक कुमार वर्मा की खंडपीठ ने कोविड की संभावित तीसरी लहर के दौरान पुलिस विभाग में कार्यरत गर्भवती महिलाओं, पांच साल तक के बच्चों की माताओं की सुरक्षा को लेकर दायर जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए राज्य सरकार से तीन सप्ताह में जवाब दाखिल करने के निर्देश दिए हैं। मामले में अगली सुनवाई आठ जुलाई को होगी।

उल्लेखनीय है कि यूएस नगर निवासी सुभाष तनेजा ने उच्च न्यायालय में जनहित याचिका दायर कर कहा है कि विशेषज्ञों ने कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों में संक्रमण होने की संभावना जताई है। ऐसे में पुलिस विभाग में कार्यरत गर्भवती महिलाओं, पांच साल तक के बच्चों की माताओं को खतरा हो सकता है। याचिका में इस दायरे में आने वाली महिला पुलिसकर्मियों को संभव होने पर अवकाश पर भेजने, फील्ड के बजाय ऑफिस ड्यूटी या घर से कार्य करने देने के निर्देश देने की याचना की गई है। याचिकाकर्ता के अनुसार उनके द्वारा इस संबंध में पुलिस महानिदेशक को प्रत्यावेदन भेजा था। जिसके बाद डीजीपी ने एक साल तक के छोटे बच्चों की माता महिला पुलिसकर्मी को फील्ड ड्यूटी से छूट प्रदान की थी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नई पुलिस सेवा नियमावली व पदोन्नतियों पर उत्तराखंड हाईकोर्ट के सरकार को बड़े निर्देश…

-न्यायालय के फैसले के अंतिम निर्णय के अधीन होंगी पदोन्नतियां, सरकार को पदोन्नति आदेश में करना होगा उल्लेख
डॉ.नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 28 मई 2021। उत्तराखंड उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायधीश न्यायमूर्ति आरएस चौहान व न्यायमूर्ति आलोक कुमार वर्मा की खंडपीठ ने उत्तराखण्ड पुलिस में हाल ही में जारी पुलिस सेवा नियामावली 2018 (संसोधन सेवा नियमावली 2019) को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए स्पष्ट रूप से कहा है कि सरकार द्वारा नई सेवा नियमावली के तहत की गई सभी पदोन्नतियां याचिकाओं के अंतिम निर्णय के अधीन रहेंगी। न्यायालय के अंतिम निर्णय के बाद विभाग में हुई पदोन्नतियों में आवश्यक सुधार हो सकेगा। मामले की अगली सुनवाई 24 जून को होगी।
शुक्रवार को मामले की सुनवाई करते हुए खंडपीठ ने राज्य सरकार को निर्देश दिए कि यदि विभाग में इस नियमावली के तहत कोई प्रमोशन किया जाता है। तो उसमें स्पष्ट रूप से इसका उल्लेख किया जाए कि यह सभी पदोन्नतियां न्यायालय के अंतिम निर्णय के अधीन होंगी। मालूम हो कि पुलिस विभाग में कार्यरत सत्येंद्र कुमार व अन्य की ओर से उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर कहा है कि इस सेवा नियमावली में आर्म्स फोर्स के पुलिस आरक्षियों को पदोन्नति के अधिक मौके दिए हैं। जबकि सिविल व इंटलीजेंस के आरक्षियों को पदोन्नति के लिये कई चरणों से गुजरना पड़ रहा है। याचिकाकर्ताओं का यह भी कहना है कि उच्च अधिकारियों द्वारा उप निरीक्षक से निरीक्षक व अन्य उच्च पदों पर अधिकारियों की पदोन्नति निश्चित समय पर केवल डीपीसी द्वारा वरिष्ठता व ज्येष्ठता के आधार पर होती है। परन्तु पुलिस विभाग की रीढ़ की हड्डी कहे जाने वाले पुलिस के सिपाहियों को पदोन्नति हेतु उपरोक्त मापदंड न अपनाते हुये कई अलग-अलग प्रकियाओं से गुजरना पडता है। विभागीय परीक्षा भी देनी पड़ती है, साथ ही पास होने के बाद 5 किमी की दौड़ लगानी पड़ती है। इन प्रक्रियाओं को पास करने के उपरांत कर्मियो के सेवा अभिलेखों का परीक्षण किया जाता है। जिसके बाद ही उसकी पदोन्नति होती है। इस प्रकार उच्च अधिकारियों द्वारा निचले स्तर के कर्मचारियों के साथ दोहरा मानक अपनाया जाता है। जिस कारण 25 से 30 वर्ष की संतोषजनक सेवा (सर्विस) करने के बाद भी सिपाहियों की पदोन्नति नहीं हो पाती है। अधिकांशतः पुलिसकर्मी सिपाही के पद पर भर्ती होते है और सिपाही के पद से ही सेवानिवृत्त हो जाते है। क्योकि निचले स्तर के कर्मचारियों की पदोन्नति हेतु कोई निश्चित समय अवधि निर्धारित नही की गई है और न ही उच्च अधिकारियों द्वारा इस ओर कभी कोई ध्यान दिया गया है। याचिका में कहा गया है कि नियमावली में समानता के अवसर का भी उल्लंघन है।

यह भी पढ़ें : पुलिस कर्मियों को मिली ठेठ कुमाउनी आशीषें, ‘जीते रहना, तुम्हारे पुत्र-पुत्री व नाती-पाते भी जीते रहें….’

नवीन समाचार, नैनीताल, 15 मई 2021। भले काम का भला नतीजा… जी हां, उत्तराखंड पुलिस इन दिनों प्रदेश के डीजीपी अशोक कुमार के निर्देशों पर ‘मिशन होंसला’ के तहत जरूरतमंदों को मदद पहुंचाने के अभियान पर है। इसी कड़ी में शनिवार को कालाढूंगी के थाना प्रभारी दिनेश नाथ महंत को एक वृद्धा से जो ठेठ कुमाउनी अंदाज में आशीर्वाद मिला-‘बेटा जीरया, जागि रया, तुमर भल है जौ, तुमार च्याल-चेली, नाती-पोती जी रौ।’ यानी बेटे, तुम जीते रहना, तुम्हारा भला हो जाए, तुम्हारे बेटा-बेटी, नाती-पोते भी जीते रहें।
दरअसल हुआ यह कि थानाध्यक्ष महंत थाने के पुलिस बल के साथ कालाढुंगी क्षेत्र के गांवों में बुजुर्गो की कुशलता जानते हुए ग्राम गुलजारपुर पहुंचे थे। यहां गांव की एक बृद्व महिला जो आंख से देख पाने से भी मजबूर है और लाठी की सहायता से चलती-फिरती है, आय के कोई भी स्त्रोत नही है, व झुग्गी-झोपड़ी में अकेले रहती है। उसके घर में राशन भी नहीं था। थानाध्यक्ष ने उसे सहित गांव के ऐसे ही सात काफी गरीब व असहाय परिवारों को राशन तथा आवश्यकता की अन्य सामग्री उपलब्ध करवायीं। इस पर वृद्धा के मुंह से अनायास ने पुलिस कर्मियों के लिए ठेठ कुमाउनी में आशीषें निकल आईं, जो पुलिस कर्मियों को भी निस्संहेह आजन्म याद रहेंगी।

ह भी पढ़ें : गलतियों के लिए अपने पुलिस कर्मियों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करता है उत्तराखंड

नवीन समाचार, देहरादून, 11 जनवरी 2021। उत्तराखंड अपने पुलिस कर्मियों के खिलाफ गलतियों पर तत्काल कार्रवाई करता है। राज्य पुलिसकर्मियों के खिलाफ लंबित विभागीय कार्यवाहियों के मामले में देश के राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में अंतिम दस में शामिल है, यानी उत्तराखंड में गड़बड़ी पाए जाने पर पुलिसकर्मियों के विरुद्ध कार्रवाई अन्य राज्यों की तुलना में ज्यादा जल्दी होती है।
केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधीन ब्यूरो ऑफ पुलिस रिसर्च एंड डेवलपमेंट (बीपीआर एंड डी) के हालिया आंकड़ों के मुताबिक एक जनवरी २०२० तक उत्तराखंड में पुलिस कर्मियों के विरुद्ध विभागीय कार्यवाही के मात्र ६५ मामले लंबित थे जबकि एक जनवरी २०१९ तक महज ५५ मामले लंबित थे। बीपीआर एंड डी के आंकड़ों के मुताबिक देश में एक जनवरी २०२० तक पुलिस कर्मियों के विरुद्ध विभागीय कार्यवाही के २७९४४ मामले लटके पड़े हैं। इनमें से एक तिहाई मामले बिहार, तेलंगाना और जम्मू-कश्मीर के हैं। २०१९ में पुलिस कर्मियों के विरुद्ध विभागीय कार्यवाही के ५३,६७५ मामले लंबित थे, जिसमें उसी साल शुरू २७,१७६ मामले व २०१८ के २६,४९९ मामले थे। इनमें से २०१९ में २५७३१ मामले निस्तारित कर दिए गए जबकि २७९४४ मामले अब तक एक जनवरी २०२० तक लटके थे। राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों की बात करें तो बिहार में एक जनवरी २०२० तक सबसे ज्यादा पुलिस कार्मिकों के विरुद्ध विभागीय कार्यवाही के अधिकतम यानी ४६५५ लंबित थे। २०१९ में ३,९४३ मामले लंबित थे। बिहार के बाद तेलंगाना व जम्मू-कश्मीर का नंबर है। सबसे कम मामलों की बात करें तो दादरा नगर हवेली, दमन व दीव और लक्षद्वीप अंतिम तीन में हैं। पंजाब-नागालैंड के आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं।

यह भी पढ़ें : डीजीपी का ऐलान-‘खाकी में इंसान’ को मिलेगा साप्ताहिक विश्राम…

-डीजीपी अशोक कुमार ने की उत्तराखंड पुलिस के लिए नए साल के बड़े तोहफे की घोषणा
नवीन समाचार, देहरादून, 28 दिसम्बर 2020।‘खाकी में इंसान’ पुस्तक लिखने वालेउत्तराखंड के नए डीजीपी अशोक कुमार लगातार ‘मित्र पुलिस’ के कल्याण कार्यों को जारी कर रहे हैं। सोमवार को उन्होंने मित्र पुलिस कर्मियों को नए साल का तोहफा देते हुए उन्हें 1 जनवरी से साप्ताहिक विश्राम देने की घोषणा की है। श्री कुमार ने आज प्रदेश के पर्वतीय जनपदों-पौड़ी गढ़वाल, टिहरी, उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, अल्मोड़ा, पिथौरागढ़, बागेश्वर एवं चम्पावत में नियुक्त पुलिसकर्मियों को साप्ताहिक विश्राम प्रदान करने के निर्देश जारी कर दिये हैं। श्री कुमार ने बताया कि पुलिस कर्मियों के मनोबल एवं कार्यक्षमता को बढ़ाने के लिए प्रथम चरण में परीक्षण के तौर पर दिनांक 1 जनवरी, 2021 से 9 पर्वतीय जनपदों में थाना, चौकी व पुलिस लाइन में नियुक्त मुख्य आरक्षियों एवं आरक्षियों को साप्ताहिक विश्राम की सुविधा उपलब्ध कराये जाने का निर्णय लिया गया है।

इस आदेश के साथ यह भी साफ किया गया है कि कि साप्ताहिक विश्राम के दौरान पुलिस कर्मी नियुक्ति मुख्यालय नहीं छोड़ेंगे तथा रिजर्व ड्यूटी पर समझे जाएंगे। आपदा, दुर्घटना एवं कानून व्यवस्था की स्थिति जैसी विशेष परिस्थिति में साप्ताहिक विश्राम पर गये कर्मी को थाना प्रभारी द्वारा वापस बुलाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : ज्योलीकोट में नवनिर्मित पुलिस चौकी के नवनिर्मित भवन का हुआ उद्घाटन

नवीन समाचार, नैनीताल, 22 अक्टूबर 2020। ज्योलीकोट में काफी समय से बनी नई पुलिस चौकी का बृहस्पतिवार को आईजी कुमाऊं अजय रौतेला ने जनपद के एसएसपी सुनील कुमार मीणा एवं अन्य पुलिस अधिकारियों की उपस्थिति में उद्घाटन किया। धार्मिक आयोजन पंडित मनोज पालीवाल ने संपन्न करवाए। इस अवसर पर आईजी को पुलिस की गारद के द्वारा सलामी भी दी गई।
बताया गया है कि इसके बाद पुलिस चौकी कस्बे के पेट्रोल पंप के पास बने नए भवन से संचालित होगी। इसके अलावा पूर्व चौकी स्थल पर भी जांच चौकी यथावत बनी रहने की संभावना व्यक्त की गई है। बताया गया कि वर्ष 2016 से करीब 50 लाख रुपए की लागत ने नए पुलिस चौकी भवन एवं इसके साइट डेवलपमेंट का कार्य हुआ है। इस अवसर पर एएसपी अमित श्रीवास्तव, सीओ विजय थापा, तल्लीताल थाना प्रभारी विजय मेहता, निरीक्षक जगदीश देउपा, ज्योलीकोट चौकी प्रभारी जोगा सिंह, महेश कांडपाल, महेश विश्वकर्मा, अंकुर जैन, भाजपा मंडल अध्यक्ष पुष्कर जोशी, सनी मेहता आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें : चिंताजनक आंकड़ा: पिछले एक वर्ष में उत्तराखंड पुलिस के 6 जवान हुए शहीद, सभी की मृत्यु वाहन दुर्घटना में, इनमें चार नैनीताल जिले के

-पुलिस स्मृति दिवस पर पुष्प चक्र भेंट कर शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि
नवीन समाचार, नैनीताल, 21 अक्टूबर 2020। देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए शहीद हुए अर्धसैनिक बलों एवं राज्य पुलिस बलों के अमर जवानों को श्रद्धांजलि देने के लिए हर वर्ष 21 अक्टूबर को ‘पुलिस स्मृति दिवस’ मनाया जाता है। इस अवसर पर बुधवार को मुख्यालय स्थित रिजर्व पुलिस लाइन के प्रांगण में कुमाऊं परिक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक अजय रौतेला, नैनीताल जिले के एसएसपी सुनील कुमार मीणा सहित अनेक पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों ने शहीद स्मारक पर पुष्प चक्र एवं श्रद्धा पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।

‘पुलिस स्मृति दिवस’ के अवसर पर कुमाऊं परिक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक अजय रौतेला ने बताया कि गत 1 सितंबर 2019 से 31 अगस्त 2020 तक पूरे देश में 265 पुलिस एवं अर्धसैनिक बलों के अधिकारी व कर्मचारी वीरगति को प्राप्त हुए है। इनमें उत्तराखंड के 6 शहीद भी शामिल हैं। इनमें नैनीताल जनपद की महिला उपनिरीक्षक माया बिष्ट भी शामिल हैं, जिनकी 22 अक्टूबर 2019 को राज्यपाल के जनपद नैनीताल भ्रमण की ड्यूटी के दौरान वीरभट्टी के पास हुई सड़क दुर्घटना के कारण 26 अक्टूबर को मौत हो गई थी। इसी घटना में आरक्षी ललित मोहन व चालक नंदन सिंह की भी मृत्यु हो गई थी, जबकि नैनीताल पुलिस के ही उपनिरीक्षक नरेश पाल सिंह की 25 दिसंबर 2019 को हल्द्वानी थाना क्षेत्र में देवलचौड़ चौराहे पर अज्ञात मोटरसाइकिल की टक्कर से घायल होकर 30 दिसंबर को मृत्यु हुई थी। इनके अलावा आरक्षी संजय कुमार की कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव की किट वितरण ड्यूटी के दौरान थाना प्रेमनगर देहरादून से क्वॉरेंटाइन सेंटर इंदिरा हॉस्पिटल आते हुए सड़क दुर्घटना में एवं आरक्षी कैलाश लाल की पुलिस लाइन रुद्रपुर से अपर पुलिस अधीक्षक रुद्रपुर जाते समय सड़क दुर्घटना में घायल होने के कारण मेडिसिटी अस्पताल रुद्रपुर में उपचार के दौरान गत 17 जुलाई को मृत्यु हो गई थी।

इस दौरान सशस्त्र सुसज्जित पुलिस गारद द्वारा शस्त्र उल्टा कर एवं समस्त पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों ने 2 मिनट का मौन धारण कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। कार्यक्रम में एसपी-पुलिस संचार केंद्र गिरजा शंकर पांडे, सीओ रामनगर पंकज गैरोला, लालकुआं बलजीत भाकुनी, भवाली अनिल मनराल, नैनीताल विजय थापा, हल्द्वानी शांतनु पराशर, आरआई महेश चंद्र कांडपाल, नगर कोतवाल अशोक कुमार, दीप चंद भट्ट, एसओजी प्रभारी अब्दुल कलाम के साथ ही जनपद के विभिन्न थाना-चौकियों में तैनात पुलिस के अधिकारी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड पुलिस के लिए खास रहा 74वां स्वतंत्रता दिवस, 4 को राष्ट्रपति, 1-1 को गृह मंत्री व मुख्यमंत्री से सहित 116 को मिले उत्कृष्ट, सराहनीय व विशिष्ट सेवाओं के लिए पदक, देखें पूरी सूची

नवीन समाचार, देहरादून/नैनीताल, 14 अगस्त 2020। उत्तराखंड पुलिस के लिए 74वां स्वतंत्रता दिवस खास रहा। इस दौरान केएस नगन्याल, दलीप सिंह कुंवर, कैलाश चंद्र पंवार व पीएस बहुगुणा को राष्ट्रपति, कमलेश कुमार भट्ट को गृह मंत्री व धीरेंद्र रावत को मुख्यमंत्री से पदक प्राप्त हुए। साथ ही डीसी ढोंढियाल, डीसी बडोला, पीएस बहुगुणा, तारा दत्त जोशी, जीएस गुलेरिया व शिव कुमार को उत्कृष्ट सेवाओं के लिए पदक मिले। साथ ही 13 पुलिस कर्मियों को सराहनीय सेवा सम्मान चिन्ह तथा 103 को विशिष्ट सेवाओं के लिए सम्मान चिन्ह प्रदान किये गये।
देखें पूरी सूची:

इधर इस दौरान कुमाऊं मंडल एवं जिला मुख्यालय में आईजी अजय रौतेला ने ध्वजारोहण करने के उपरांत कर्मचारियों को राष्ट्रीय एकता की शपथ दिलाई तथा पदक प्राप्त अधिकारियों व कर्मचारियों के नाम पढ़े। जबकि पुलिस लाइन में एसएसपी सुनील कुमार मीणा ने ध्वजारोहण किया। साथ ही जनपद के विशिष्ट कार्य के लिए सराहनीय सेवा सम्मान चिन्ह प्राप्त रवि कुमार सैनी (प्रभारी निरीक्षक रामनगर), अशोक कुमार (प्रभारी निरीक्षक मल्लीताल), सुशील कुमार (थानाध्यक्ष वनभूलपुरा), प्रमोद पाठक (पी.आर.ओ. एस.एस.पी. नैनीताल) देवनाथ गोस्वामी (वाचक अ.पु.अ. नैनीताल, मनवर सिंह (प्रभारी चौकी मेडिकल)एवं कैलाश नेगी (प्रभारी चौकी मंगलपडाव) तथा सराहनीय सेवा के लिए सराहनीय सेवा सम्मान चिन्ह प्राप्त पुलिस लाइन में तैनात उप निरीक्षक-विशेष श्रेणी दिनेश चन्द्र पन्त एवं वरिष्ठ आरक्षी भूपाल सिंह रावत को सम्मान चिन्ह एवं सम्मान राशि से सम्मानित किया। इस अवसर पर एएसपी राजीव मोहन, सीओ विजय थापा, प्रतिसार निरीक्षक महेश चंद्र कांडपाल, सूबेदार मेजर जहीर अहमद सहित अन्य पुलिस कर्मी मौजूद रहे।

ह भी पढ़ें : ब्रेकिंग : उत्तराखंड में 22 पुलिस इंस्पेक्टर बने सीओ…

नवीन समाचार, देहरादून, 23 मई 2020। उत्तराखण्ड राज्य में पुरे 22 इंस्पेक्टर अब सीओ बन गए है। प्रान्तीय  पुलिस सेवा संवर्ग के पुलिस उपाधीक्षक कनिष्ठ वेतनमान  (पे मैट्रिक्स में लेवल—10) के पद पर प्रोन्नति कोटे की चयन वर्ष 2019—20 की रिक्तियों के सापेक्ष उत्तराखंड लोक सेवा अयोग, हरिद्वार द्वारा की गई संस्तुति के आधार पर स्थायी पुलिस निरीक्षकों को पुलिस उपाधीक्षक, कनिष्ठ वेतनमान के पद प्रोन्नति प्रदान करने के लिए राज्यपाल ने अपनी संस्तुति दे दी है। अपर सचिव अतर सिंह द्वारा जारी सूची के अनुसार इंस्पेक्टर अब सीओ बन गए है।   प्रोन्नत होने वाले निरीक्षकों में हरिद्वार में तैनात इंस्पेक्टर प्रकाश चंद मठपाल और विशेष अभिसूचना विभाग में तैनात प्रभारी निरीक्षक सुनीता वर्मा सहित पंकज कुमार उप्रेती, होशियार चन्द, बलजीत सिंह भाकुनी, अनिल कुमार शर्मा, श्यामदत्त नैटियाल, अजय कुमार त्यागी,वीरेन्द्र दत्त उनियाल, विनोद कुमार थापा, विमल प्रसाद, दिनेश चन्द बडोला, भूपेन्द्र सिंह भण्डारी, कमलेश पंत, उमेश पाल सिंह रावत, अनराम आर्य, तिलक राम वर्मा, चन्द्र  सिंह बिष्ट, प्रकाश कम्बोज, अनिल मनराल, सुरेन्द्र सिंह सामन्त व रमा देवी को सीओ बनाया गया है।

यह भी पढ़ें : सिपाही व दरोगा ने डीआईजी से पूछा, कौन डीआईजी-कहां के डीआईजी… हुए लाइन हाजिर, निलंबित

नवीन समाचार, नैनीताल, 25 फरवरी 2020। जिला-मंडल मुख्यालय में मित्र पुलिस का ऐसा चेहरा सामने आया है, जो उनके नाम को साकार नहीं करता है। बेशक पुलिस कर्मी अपनी कार्य परिस्थितियों में काफी तनावों व दबावों में होते हैं, लेकिन उनसे उम्मीद की जाती है कि वे आम लोगो के साथ पूरी सादगी और संवेदनशीलता से पेश आएं। उनके लिए कठिन परिस्थितियों में भी शांत रहने और परेशान लोगों की समस्या सुनने की उम्मीद की जाती है। लेकिन मुख्यालय में सोमवार अपराह्न एक ऐसा मामला प्रकाश मंे आया है, जहां मल्लीताल कोतवाली पुलिस के एक सिपाही व एक दरोगा ने चेकिंग के दौरान एक महिला की समस्या नहीं सुनी। महिला वाहन के कुछ कागजात घर पर भूल आई थी और उसके पास पैंसे भी नहीं थे। उधर पुलिस कर्मी उसका चालान करने पर उतारू थे। महिला ने कुमाऊं रेंज के डीआईजी जगतराम जोशी से बात की। डीआईजी जोशी ने संबंधित पुलिस कर्मी से बात कराने को कहा तो महिला ने अपना फोन सिपाही को थमा दिया। सिपाही ने फोन कान पर लगा कर दूसरी ओर से डीआईजी की आवाज को भी गंभीरता से लिए बगैर डीआईजी से भी अभद्रता कर डाली। डीआईजी जोशी ने बताया, उनसे सिपाही ने कहा, ‘कौन डीआईजी ? कहां के डीआईजी ?’ साथ ही और भी अभद्रता करने लगा। डीआईजी जोशी ने बताया, उन्हें लगा कि संभवतया महिला ने किसी और को फोन मिला दिया है। क्योंकि जैसी बातें सिपाही कर रहा था, वैसी बातें एक पुलिस कर्मी कर ही नहीं सकता। इस पर उन्होंने सिपाही से दरोगा से बात करने को कहा तो दरोगा भी डीआईजी से अभद्रता करने लगा। डीआईजी जोशी ने बताया, उन्होंने अपने पूरे जीवन व सेवा में किसी पुलिस कर्मी से इस तरह की भाषा व व्यवहार नहीं देखा था। इसलिए दोनों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की संस्तुति की गई है। सिपाही को निलंबित करने एवं दरोगा को लाइन हाजिर किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें : भारी पड़ी सिपाही को हनक, रात भर ग्रामीणों ने बंधक रखा

नवीन समाचार, नैनीताल, 17 फरवरी 2020। रीठासाहिब थाने के ‘अजीन’ नाम के एक पुलिस के सिपाही को हनक दिखाना भारी पड़ गया। ग्रामीणों ने उसे रात भर बंधक बनाकर बैठाए रखा और उस पर अपहरण करने का आरोप भी लगाया। आखिर सिविल एवं राजस्व पुलिस के जवानों ने दूसरे दिन मौके पर जाकर पुलिस कर्मी को ग्रामीणों के चंगुल से बचाया।
प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार की रात करीब नौ बजे काठगोदाम-हैड़ाखान रोड पर रौंसिला के पास कुछ लड़के सड़क पर दौड़ने का अभ्यास कर रहे थे। इस बीच चंपावत की ओर से कार चालक से लड़कों का विवाद हो गया। कार चालक ने स्थानीय ग्राम तिल्वाड़ी निवासी एक 12वीं कक्षा के छात्र 18 वर्षीय नीरज सिंह पुत्र तुला सिंह को जबरन कार में बैठा लिया और साथ ले जाने लगा। वह खुद को पुलिस का डीआइजी बताकर सरकार को गाली भी देते रहा। इस बीच ग्रामीणों में छात्र के अपहरण होने की आशंका को लेकर हल्ला मच गया और ग्रामीण जुट गए। उन्होंने आगे घेर कर, वाहन सड़क पर टेढ़े खड़े कर कार चालक को पकड़ लिया और उसके कब्जे से स्थानीय लड़के को छुड़ा कर चालक की जमकर पिटाई भी कर दी। कार चालक पूछताछ में खुद को सरकारी अधिकारी बताने लगा। इस पर ग्रामीणों ने रात भर उसे बंधक बनाकर रख दिया। सोमवार सुबह आक्रोशित ग्रामीणों ने हैड़ाखान मार्ग पर जाम लगाकर सिपाही के निलंबन व मुकदमा दर्ज करने की मांग शुरू कर दी। सुबह जानकारी मिलने पर काठगोदाम थानाध्यक्ष नंदन सिंह रावत दल-बल के साथ मौके पर पहंुचे। बाद में राजस्व पुलिस का क्षेत्र होने की जानकारी मिलने पर स्थानीय राजस्व उप निरीक्षक व तहसीलदार भी मौके पर पहुंचे। एक बजे प्रशासन के मोबाइल पर चम्पावत एसपी के निलंबन का आदेश मंगाने व ग्रामीणों को दिखाने पर मामला शांत हुआ। काठगोदाम थानाध्यक्ष नंदन सिंह रावत ने बताया कि पूछताछ में चालक रीठासाहिब जनपद चंपावत निवासी पुलिस का सिपाही निकला। उसका आते हुए ग्रामीण युवकों से विवाद हो गया था। इस पर वह एक युवक को साथ में ले आया था। राजस्व पुलिस की मौजूदगी में ग्रामीणों के साथ वार्ता कर उसे मुक्त करा लिया गया है, और दोनों पक्षों में विवाद शांत करा लिया गया है। छात्र को नशे की बिक्री की सूचना पर ले जाने की दलील भी पुलिस कर्मी के द्वारा दी गई।

यह भी पढ़ें : फर्जी तरीके से उत्तराखंड पुलिस में भर्ती हो गया हत्यारा, उम्रकैद की हुई है सजा

नवीन समाचार, अल्मोड़ा, 3 फरवरी 2020। बरेली में हत्या के एक मामले में नामजद आरोपित रहे युवक के उत्तराखंड पुलिस में फर्जी तरीके से भर्ती होने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। इधर बरेली की अदालत ने उसके साथ ही हत्याकांड के सभी छह आरोपितों को उम्र कैद की सजा सुना दी है। खुद को शहदौरा (किच्छा) का मूल निवासी बताकर 2001 में उत्तराखंड गठन के बाद हुई पहली पुलिस भर्ती में भर्ती हुआ और गत वर्ष अल्मोड़ा व इससे पहले ऊधमसिंह नगर में भी तैनात रहा तथा यहां से विजिलेंस देहरादून में संबद्ध कर दिये गये आरक्षी मुकेश कुमार के खिलाफ अब पंतनगर थाने में धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कर जांच तेज कर दी गई है।
मामले में अल्मोड़ा के एसएसपी कार्यालय के वरिष्ठ प्रधान लिपिक जोध सिंह तोमक्याल ने तहरीर देकर कहा कि वर्ष 2001 में उत्तराखंड पुलिस में कांस्टेबल पद की भर्ती में मूलरूप से अभयपुर, थाना कैंट, बरेली निवासी मुकेश कुमार पुत्र सतेंद्र पाल ने ऊधम सिंह नगर से आवेदन भरा। उसने दस्तावेज में अपना पता शहदौरा गांव किच्छा लिखाया। भर्ती के बाद पुलिस ने शहदौरा जाकर बकायदा सत्यापन भी किया, मगर फर्जी पता पकड़ में न आ सका। अब खुलासा हुआ है कि फर्जी पता बता कांस्टेबल बना मुकेश कुमार 25 दिसंबर 1997 को बरेली में एक हत्या के मामले में नामजद था। इस मामले में वादी रहे नरेश कुमार ने एसएसपी अल्मोड़ा को हत्यारोपित कांस्टेबल के खिलाफ शिकायती पत्र भेजा। इसमें मुकेश के अल्मोड़ा में तैनात होने का जिक्र किया गया था। अल्मोड़ा से रिपोर्ट ऊधम सिंह नगर एसएसपी कार्यालय भेजी गई। इस पर गहन जांच की गई तो खुलासा हुआ कि हत्याकांड में नामजद आरोपित अपना पता बदल उत्तराखंड पुलिस में भर्ती हो गया। इधर पंतनगर थाने में आरोपित कांस्टेबल मुकेश के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड पुलिस में ‘लेटर बम’ से हड़कंप, मुख्यालय तक पहुंची बात…

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 20 जनवरी 2020। उत्तराखंड पुलिस में ट्रांसफर-पोस्टिंग के मसले को उठाते एक बेनाम ‘लेटर बम’ से हड़कंप मच गया है। बात मुख्यालय तक पहुंच गई है। मीडिया के साथ पुलिस के अधिकारियों व मुख्यालय को भेजे गये बेनाम पत्र में इंस्पेक्टर, दरोगा, कांस्टेबलों के ट्रांसफर और पोस्टिंग कराने के नाम पर वसूली के आरोप लगाए गए हैं। पत्र में शिकायकर्ता ने अपना नाम नहीं लिखा है, लेकिन आरोप बेहद संगीन है। मामला पुलिस मुख्यालय पहुंचने के बाद जांच के आदेश हो गए हैं। एसएसपी ने ट्रांसफर, पोस्टिंग को गोपनीय करार देते हुए जांच के बाद कार्रवाई करने की बात कही है। पत्र में कहा गया है कि एसएसपी ऊधमसिंह नगर कार्यालय में तैनात दो कर्मचारियों ने कुछ इंस्पेक्टर, दरोगा और कर्मचारियों का एक ग्रुप बनाया है। इनसे वे एकमुश्त राशि वसूलते हैं, जो इनको पैसा नहीं देता है, उसकी नेगेटिव फीड बैक एसएसपी को देते हैं।
ट्रांसफर कराने के नाम पर मोटी रकम वसूली इससे बेहतर कार्य करने वाले कर्मचारी कुंठित हो रहे हैं। पत्र में दोनों कर्मचारियों की अर्जित संपत्ति की जांच करने और आरोपों के संबंध में दोनों की कॉल डिटेल निकाल कर जांच कराने को कहा है। यह भी आरोप है कि ट्रांसफर कराने के नाम पर मोटी रकम वसूली जाती है। इनके ग्रुप के लोग दस साल से एक ही सर्किल में नियुक्त हैं। जिनके घर रामनगर, काशीपुर में हैं, वे काशीपुर सर्किल और जिनके घर हल्द्वानी में हैं वे रुद्रपुर सर्किल में पोस्टिंग करा लेते हैं। पुलिस की गोपनीय बातें नेताओं तक पहुंच रही हैं।
गोपनीय पत्र में एसएसपी को ईमानदार बताया गया है, लेकिन यह भी कहा कि गलत फीडबैक का फायदा ये दोनों कर्मचारी उठा रहे हैं। इनमें से एक कर्मी का दूसरे जिले में तबादला होने के बावजूद रसूख के दम पर जिला नहीं छोड़ने का आरोप लगा है।
इस पर एसएसपी बरिंदरजीत सिंह का कहना है कि ट्रांसफर और पोस्टिंग में घपलेबाजी को लेकर कोई तथ्य सामने नहीं आया है। जिनके बारे में कहा जा रहा है, उनके लिए यह करना संभव नहीं है। ट्रांसफर और पोस्टिंग गोपनीय प्रक्रिया होती है। बिना नाम के शिकायती पत्र में तथ्य नहीं होने से जांच संभव नहीं होती है। शिकायती पत्र की सूचना मुख्यालय को भी है और इस मामले में वहां से जांच के आदेश दिए गए हैं। जांच के अनुरूप कार्यवाही की जाएगी। आगे से इस संबंध में ज्यादा ध्यान रखा जाएगा। हो सकता है किसी को मनपंसद पोस्टिंग न मिली हो या पुलिस को बदनाम करने के मकसद से भी बिना नाम का पत्र भेजा गया हो।

यह भी पढ़ें : राज्यपाल की फ्लीट के दौरान हुई पुलिस वाहन की दुर्घटना में घायल हुई महिला एसआई ने भी तोड़ा दम, बड़ा सवाल-क्या पुलिस वाले इंसान नहीं होते…?

महिला उप निरीक्षक माया बिष्ट

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 26 अक्तूबर 2019। बीती 22 अक्तूबर को जनपद मुख्यालय के निकट दुर्गापुर स्थित विद्यालय में राज्यपाल की फ्लीट गुजरने से कुछ देर पहले हुई पुलिस वाहन की दुर्घटना में घायल हुई महिला उप निरीक्षक माया बिष्ट ने शनिवार को उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। उनका इस दुर्घटना के बाद से नगर के एक निजी अस्पताल में उपचार चल रहा था। इस दुर्घटना में पहले ही दो पुलिस कर्मियों की मृत्यु हो चुकी है। उनकी मृत्यु के बाद शासन-प्रशासन से हताहत पुलिस कर्मियों की मदद के लिए कोई सरकारी मदद-मुआवजा नहीं दिया गया। ऐसे में स्वयं पुलिस कर्मियों की ओर से सवाल उठ रहे हैं कि क्या पुलिस कर्मी इंसान नहीं होते। जब जहरीली शराब पीकर और पुलिस से भिड़ने पर मृत्यु होने पर आम लोगों को सरकार 50 लाख रुपए तक मुआवजा और आश्रित को सरकारी नौकरी दे देती है तो पुलिस कर्मियों को क्यों नहीं। क्या इसलिए कि वह अनुशासित बल हैं, या कि वे अपनी नौकरी की व्यस्तता के बीच किसी राजनीतिक दल के लिए ‘वोट’ नहीं होते।
इधर साथी पुलिस कर्मियों के अनुसार दिवंगत एसआई माया बिष्ट एक कर्तव्यनिष्ठ पुलिस अधिकारी के साथ ही व्यवहार कुशल व मृदुभाषी महिला, पत्नी और एक बेटी की मां भी थीं। वे थाना लालकुआं में तैनात थीं। उनके पति सुरेश बिष्ट यहीं ईएसआई अस्पताल में कार्यरत हैं।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.