new-doc-20_4

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2017 : अबकी बार किसकी सरकार ?


राजनीतिक दलों पर मेरे विचार:

किसी भी संगठन के राजनीतिक दल होने के लिये एक प्रमुख शर्त है, उसका चुनाव लड़ना। यदि कोई राजनीतिक दल चुनाव नहीं लड़ता है तो वह राजनीतिक दल ही नहीं है, वरन केवल एक संगठन है। दूसरी बात, लोकतंत्र में किसी राजनीतिक दल की असली परीक्षा उसकी चुनाव में जीत या हार से ही तय होती है। क्योंकि इसी से तय होता है कि उस दल की विचारधारा का कितनी जनता समर्थन या विरोध करती है। यदि कोई राजनीतिक दल बहुत अच्छी विचारधारा व सिद्धांतों वाला है, किंतु वह चुनाव नहीं जीत पाता है, तो उसका कोई मूल्य नहीं। एक और बात, हर राजनीतिक दल की कोई एक विचार धारा या सिद्धांत होते हैं। लेकिन मेरे विचार से उस दल के विचार या सिद्धांत उसके सत्ता में आने पर किये गये कार्यों से देखे और आंके जाने चाहिये, केवल चुनाव के दौरान वादों, वादों और दावों से नहीं। चुनाव के दौरान कई राजनीतिक नेता और जनता के लोग भी अपना दल या निष्ठा बदलते हैं। मेरे विचार से इसमें कुछ बुरा नहीं है। क्योंकि यही समय होता है जब लोकतंत्र में नेता हों अथवा जनता, किसी दल के पिछले कार्यकाल का मूल्यांकन कर सकते हैं, और दलीय निष्ठा बदल सकते हैं। बेशक, इसमें लोगों अथवा राजनीतिक नेताओं का स्वार्थ, राजनीतिक नफा-नुकसान छुपा हुआ हो। पढ़ना जारी रखें “उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2017 : अबकी बार किसकी सरकार ?”

उत्तराखंड के लिए प्रधानमंत्री मोदी के सीएम कैंडीडेट के तौर पर पसंद हो सकते हैं पूर्व नौकरशाह सूर्यप्रताप सिंह


  • कैग में एकमात्र आईएएस अधिकारी के तौर पर भी हैं तैनात, प्रधानमंत्री मोदी हैं इनकी इमानदारी से प्रभावित और उनके करीब भी हैं सिंह
  • बेहद चर्चित आईएएस अधिकारी रहे हैं एसपी सिंह, नैनीताल व हल्द्वानी में रहा 90 के दशक में जलवा, जीएमवीएन के एमडी भी रहे
  • भाजपा उत्तराखंड के साथ ही यूपी में भी कर सकती है उपयोग, हल्द्वानी और अयोध्या सीट से चुनाव लड़ने की संभावना
  • आरएसएस के साथ ही यूपी के पूर्व सीएम कल्याण सिंह के बेहद करीबी माने जाते हैं

नवीन जोशी, नैनीताल। केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारी बहुमत से सत्तारूढ़ होने के बाद से हुए कई राज्यों के विधानसभा चुनावों में भाजपा अनपेक्षित निर्णय करती रही है, और बिहार व दिल्ली को छोड़कर उसके ये निर्णय सफल भी रहे हैं। ऐसे ही किसी निर्णय की उत्तराखंड में भी पार्टी रणनीति बना सकती है। इसी कड़ी में प्रधानमंत्री के करीबी, कैग में तैनात एकमात्र प्रशासनिक अधिकारी, 1982 बैच के आईएएस अधिकारी, पूर्ववर्ती यूपी के दौर में 1990 के दशक में तत्कालीन नैनीताल जनपद (वर्तमान ऊधमसिंह नगर जनपद भी शामिल) के डीएम रहते उस दौर में भी मजबूत व राज्य की मौजूदा काबीना मंत्री डा. इंदिरा हृदयेश से टकराने तथा गढ़वाल में जीएमवीएन के एमडी रहते गढ़वाल में एक तत्कालीन मंत्री (जिनके पुत्र वर्तमान में भी मंत्री हैं) के ससुर के खिलाफ कार्रवाई करते हुए बेहद दबंग और चर्चित रहे आईएएस अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह भाजपा में शीघ्र शामिल हो सकते हैं, और आगामी विस चुनावों में पहले से घोषित अथवा बाद में मुख्यमंत्री के रूप में पेश किये जा सकते हैं। हालांकि बकौल सिंह अभी तक उनकी भाजपा नेताओं से कोई बात नहीं हुई है, और वे यह भी मानते हैं कि किसी भी दल के नेता उन्हें स्वीकार नहीं कर पाएंगे। लेकिन उन्होंने इतना स्पष्ट कहा कि वे उनके एजेंडे को स्वीकार करने वाले किसी भी दल में शामिल हो सकते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि वे केवल विधायक बनने या सत्ता का आनंद प्राप्त करने के लिये नहीं वरन राजनीति में सुधार करने, समाज के लिये कुछ बेहतर करने के लिये राजनीति में आना चाहते हैं। उनकी ख्वाहिश है कि शिक्षा या किसी क्षेत्र विशेष में मौका मिले तो वे उसे सुधार कर रख दें। उन्होंने यूपी में सपा व बसपा को सांपनाथ व नागनाथ की संज्ञा देने के साथ भाजपा व प्रधानमंत्री मोदी के विचारों के प्रति स्पष्ट तौर पर झुकाव भी प्रदर्शित किया है।
पढ़ना जारी रखें “उत्तराखंड के लिए प्रधानमंत्री मोदी के सीएम कैंडीडेट के तौर पर पसंद हो सकते हैं पूर्व नौकरशाह सूर्यप्रताप सिंह”

img-20161003-wa0000

सर्जिकल स्ट्राइक : जिसे सबूत चाहिए , यहाँ देखे


सर्जिकल स्ट्राइक : पक्के वैज्ञानिक http://tpc.googlesyndication.com/safeframe/1-0-5/html/container.html#xpc=sf-gdn-exp-1&p=http%3A//m.navbharattimes.indiatimes.comसबूत हैं, मगर देंगे नहीं !

img_20161006_075612
राष्ट्रीय सहारा 06 अक्टूबर 2016

-वैज्ञानिकों ने कहा भारत उपग्रह आधारित सुदूर संवेदी में विश्व में अग्रणी, मगर पाकिस्तान कहीं ठहरता नहीं, सामरिक दृष्टिकोण से सबूत देना हो सकता है आत्मघाती
नवीन जोशी, नैनीताल। बीती 29 मई को भारतीय सेना द्वारा पाक अधिकृत कश्मीर में किये गये ‘सर्जिकल स्ट्राइक” के बाद देश के चंद नेताओं द्वारा सबूत मांगने की स्थितियों के बीच वैज्ञानिक पूरी तरह सेना की कार्रवाई के साथ ही सेना व सरकार के पास कार्रवाई के पक्के वैज्ञानिक सबूत होने के प्रति भी मुतमईन हैं। बहुत संभावना है कि यह सबूत मानव द्वारा की गई फोटोग्राफी या वीडियो ग्राफी से इतर उपग्रह आधारित पृथ्वी पर निगरानी रखने वाले उपकरणों आधारित सुदूर संवेदी यानी रिमोट सेंसिंग के भी हो सकते हैं, जिसमें भारत विश्व में अग्रणी है। भारत अंतरिक्ष में पृथ्वी की कक्षा में मौजूद अपने उपग्रहों से एक फिट तक के रिजोल्यूशन के फोटो और वीडियो खींचने में सक्षम हैं। अलबत्ता, यह सबूत किसी भी कीमत पर, नेताओं के कैसे भी आरोप-प्रत्यारोपों के बावजूद सार्वजनिक नहीं किये जा सकते हैं, क्योंकि इनसे देश की सामरिक रणनीति आदि बेपर्दा हो सकती है, और यह देश की सुरक्षा के लिये आत्मघाती हो सकता है। पढ़ना जारी रखें “सर्जिकल स्ट्राइक : जिसे सबूत चाहिए , यहाँ देखे”

Harish Rawat as Gandhi

“जो जावत के बाद फिर-फिर आवत है, वो हरीश रावत है”


बचपन में पढ़ी संस्कृत की कहानी पुर्नमूषको भव: 24 घंटे से भी कम समय के लिए दुबारा सीएम बने हरीश रावत पर कमोबश सही बैठी, इस तरह संभवतया उन्होंने एक दिन के लिए सीएम बने जगदंबिका पाल का रिकॉर्ड भी शायद तोड़ दिया। लगने लगा था कि हाईकोर्ट के आदेश के बाद दुबारा मुख्यमंत्री बनने की जल्दबाजी ने उन्हें कहीं का नहीं छोड़ा। लगा, बिना हाईकोर्ट के आदेश की लिखित कॉपी के मुख्यमंत्री बनने और रात्रि में ही आनन-फानन में कैबिनेट की बैठक कर उन्होंने 11 महत्वपूर्ण फैसले लेकर अपने पक्ष को और कमजोर कर दिया है। लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। हरीश रावत बदले राजनीतिक घटनाक्रमों के साथ फिर से मुख्यमंत्री बन गए, और सदन में अपना बहुमत भी साबित कर लिया। इस पर कहा जाने लगा, “जो आवत है-वो जावत है। पर जो जावत के बाद फिर-फिर आवत है, वो हरीश रावत है”। रावत ने इस बार ही नहीं, पूर्व में तीन बार अल्मोड़ा से लोकसभा का चुनाव स्वयं और फिर अपनी पत्नी को भी न जीता पाने के बाद, राजनीतिक रूप से ‘चुक’ जाने की चर्चाओं के बाद पुनः लौटते हुए हरिद्वार से न केवल जीत दर्ज की, वरन केन्द्रीय मंत्री और फिर उत्तराखंड के मंत्री भी बन गए।

यह भी पढ़ें :

21 अप्रैल 2016 की खबर: फिर ‘न्यायिक हिरासत’ में ही जा सकती है उत्तराखंड की ‘सियासत’

पढ़ना जारी रखें ““जो जावत के बाद फिर-फिर आवत है, वो हरीश रावत है””

Rashtriya Sahara 19 01 2016

नैनीताल के नवीन समाचार 



केन्द्रीय बजट में सुनी जाएगी नैनीताल की आवाजें ?


केवल आधा दर्जन साहित्यकारों ने ही वास्तव में लौटाए पुरस्कार

Brajendra
डा. बृजेंद्र त्रिपाठी

-इनसे से भी आधों ने लौटाई पुरस्कार की राशि
नैनीताल (एसएनबी)। पिछले दिनों साहित्य अकादमी के पुरस्कार लौटाने की खूब चर्चाएं रहीं, और अनेक साहित्यकारों के पुरस्कार लौटाने की खबरें मीडिया में आर्इं। लेकिन सच्चाई यह है कि मुश्किल से आधा दर्जन साहित्यकारों ने ही साहित्य अकादमी को औपचारिक तौर पर अपने पुरस्कार लौटाने के पत्र भेजे, वहीं इनमें से भी करीब आधों ने ही साहित्य अकादमी पुरस्कार के साथ मिली एक लाख रुपए की धनराशि लौटाने की हिम्मत दिखाई।

पढ़ना जारी रखें “नैनीताल के नवीन समाचार “

नितीश के ‘महानायक’ होने का सच


d9125मीडिया में बहुप्रचारित हो रहा है-‘महागठबंधन की महाजीत, महानायक बने नितीश’। मानो एक प्रांत बिहार जीते नितीश में मोदी से खार खाए लोगों को उनके खिलाफ मोहरा मिल गया है। नितीश बाबू भी राष्ट्रीय चैनलों पर राष्ट्रीय नेता बनने के दिवास्वप्न देखते दिखाए जा रहे हैं। जबकि सच्चाई यह है कि चुनाव परिणाम की रात नितीश सो नहीं पाए हैं। सच है कि उन्हें महागठबंधन ने अपने नेता के रूप में पेश किया था, इसलिए उनकीं तीसरी बार बिहार के मुख्यमंत्री पद पर ताजपोशी तय है। लेकिन भीतर का मन सवाल कर कचोट रहा है, पिछली बार के मुकाबले सीटें और वोट दोनों कम मिले हैं। गठबंधन में ‘छोटे भाई’ लालू, अधिक सीटों (80)के साथ ‘बड़े भाई’ बनकर उभरे हैं। पीछे से मन कह रहा है, जिस भाजपा को पिटा हुआ बता रहे हैं, वह तो 24.8 फीसद वोटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। मीडिया कह रहा है, उन (नितीश) का जादू चला है, जबकि सच्चाई यह है कि उन्हें लोक सभा चुनाव (16.04फीसद)  से महज 0.76 फीसद अधिक ही और भाजपा से आठ फीसद से भी कम, महज 16.8 फीसद वोट मिले हैं, और उनके सहयोगी लालू व कांग्रेस को मिलाकर पूरे महागठबंधन का वोट प्रतिशत भी लोक सभा चुनाव के मुकाबले करीब पांच फीसद गिरा है। लोक सभा चुनाव में जहां लालू को 20.46 फीसद वोट मिले थे, वहीं अबकी 18.4 फीसद मिले हैं। चार से 27 सीटों पर पहुंचकर ‘बाल सुलभ’ बल्लियां उछल रही राहुल बाबा की कांग्रेस को भी लोक सभा के 8.56 फीसद के बजाय 6.7 फीसद वोट ही मिले हैं और कुल मिलाकर महागठबंधन को भी जहां लोक सभा चुनाव में 46.28 फीसद वोट मिले थे, वहीं इस बार महज 41.9 फीसद वोट ही मिले हैं।

पढ़ना जारी रखें “नितीश के ‘महानायक’ होने का सच”

अब मोदी की बारी है….


अब 56 इंच का सीना दिखाने का वक्त आ गया है मोदी जी !

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमेशा बड़ी और प्रेरित करने वाली बातें करते हैं। उनका नजरिया हमेशा औरों से अलग (गिलास को आधा पानी और आधा हवा से भरा बताने वाला) होता है। वे 36 नहीं 56 इंच के सीने की बात करते हैं। उनकी इन्हीं बातों से देश ही नहीं दुनिया उनकी मुरीद है। अपने शपथ ग्रहण में पहले से आजमाये और केवल नाम के ‘शरीफ’ दुश्मन को न केवल बुलाकर बल्कि पहली पांत में बैठाकर और फिर बिन बुलाए अचानक दुश्मन की मांद में घुसकर बधाई देने पहुंचने का जिगर भी उन्होंने दिखाया, और इस तरह वे श्रीकृष्ण की भांति ‘कौरवों’ को प्राकृतिक न्याय के सिद्धांत के तहत ‘महाभारत’ से पूर्व सुलह के पूरे मौके दे चुके हैं, और ‘शिशुपाल’ को 100 गलतियां करने तक बख्शने की औपचारिकता भी निभा चुके हैं। इस तरह वे अंतर्राष्ट्रीय बिरादरी के समक्ष दुश्मन पाकिस्तान को जितना ‘एक्सपोज’ करना था, वह भी कर चुके हैं। इन औपचारिकताओं के बाद वह अब प्रधानमंत्री के रूप में स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर कश्मीर पर संभवतया इतिहास में पहली बार ‘56 इंच के सीने के अनुरूप’ पाकिस्तान के कब्जे वाले ‘गुलाम कश्मीर’ की ‘एक और आजादी की जरूरत’ के लिए बोले हैं। तो उम्मीद करनी होगी कि वे स्वयं, स्वयं के लिए बड़ी कर चुकी उम्मीदों और ‘शठे शाठ्यम समाचरेत’ की नीति के अनुरूप दुश्मन को उस की समझ में आने वाली गोली की बोली में जवाब देंगे। आमीन ! (13.08.2016)

पढ़ना जारी रखें “अब मोदी की बारी है….”