सरकार की गलती व पंतनगर विवि की वादाखिलाफी से कुमाऊं विवि के छात्रों का भविष्य अधर में


Kumaon University Vice Chancellor Pr. Hoshiyar Singh Dhami

Kumaon University Vice Chancellor Pr. Hoshiyar Singh Dhami

  • हल्द्वानी के एमबी डिग्री कालेज तथा पिथौरागढ़ व बागेश्वर महाविKumaon Universityद्यालयों को लोक सभा चुनाव के संचालन को लंबे समय के लिए लेने के कारण देर से हो पाई परीक्षाएं
  • पंतनगर विवि ने कुमाऊं विवि की परीक्षाओं से पहले ही करा दी काउंसिलिंग, और पहले प्रोविजनल और बाद में ऑरिजिनल मार्कशीट लाने को कहा, लेकिन पहले ही भर दी पूरी सीटें
नवीन जोशी, नैनीताल। कुमाऊं विवि के सैकड़ों छात्र-छात्राएं इस वर्ष उच्च मैरिट के बावजूद पंतनगर विवि में प्रवेश से वंचित हो गए हैं। पंतनगर विवि ने पूर्व में कुमाऊं विवि के कुलपति से इस बाबत किए गए वादे को न निभाते हुए यहां के छात्रों को प्रवेश देने के मार्ग कमोबेश बंद कर दिए हैं।
उल्लेखनीय है कि कुमाऊं विवि ने मूलतः अपने शैक्षणिक कलेंडर के आधार पर अप्रैल माह में वार्षिक परीक्षाएं निर्धारित की थीं, और लोक सभा चुनावों के मद्देनजर व्यवस्था करते हुए परीक्षा दो चरणों में, पहले चरण में दो अप्रेल से 19 अप्रैल तक और चुनाव के लिए समय छो़कर 22 मई से दूसरे चरण में कराने का कार्यक्रम जारी भी कर दिया था। इस कार्यक्रम पर भी परीक्षा हो जाती तो परिणाम समय पर आ सकते थे, लेकिन केवल हल्द्वानी के एमबी डिग्री कॉलेज तथा पिथौरागढ़ व बागेश्वर महाविद्यालयों को परीक्षा संचालन के लिए जिला प्रशासन द्वारा विवि की ‘नां’ के बावजूद संबंधित जिलों के जिलाधिकारियों के द्वारा संविधान की धारा 160 का प्रयोग करते हुए 28 मार्च से 20 मई यानी करीब दो माह के लिए अधिगृहीत कर लिए जाने, और इस विकट स्थिति का पता होने के बावजूद पंतनगर विवि ने कुमाऊं विवि की परीक्षाएं 24 जुलाई तक होने से पहले ही 20, 21 व 22 जुलाई को अपने यहां काउंसिलिंग करा दीं। इस कारण काउंसिलिंग के लिए आवेदन करने वाले कुमाऊं विवि के सैकड़ों छात्र काउंसिलिंग में शामिल नहीं हो पाए। इस पर कुमाऊं विवि के कुलपति प्रो. एचएस धामी ने पंतनगर विवि के कुलपति प्रो. मैथ्यू प्रसाद से बात की और पत्र भी भेजा, जिसके जवाब में पंतनगर विवि के कुलपति ने लिखित तौर पर प्रो. धामी के सुझाव को माना कि कुविवि 31 जुलाई तक प्रवेश के इच्छुक छात्रों को ‘सील्ड कवर’ में प्रोविजनल अंकपत्र उपलब्ध करा दे तो यहां के छात्रों को आठ-नौ अगस्त को दूसरी काउंसिलिंग में मौका दे दिया जाएगा। कुविवि ने वादा निभाते हुए अपने यहां आवेदन करने वाले 63 छात्रों को 31 जुलाई को ‘सील्ड कवर’ में प्रोविजनल अंकपत्र उपलब्ध भी करा दिए, लेकिन पंतनगर विवि अपने वादे से मुकर गया। फिर कुलसचिव के हस्ताक्षरों को गलत बता दिया गया। इस पर कुविवि के सहायक कुलसचिव डा. दिनेश चंद्रा स्वयं पंतनगर जाकर हस्ताक्षरों की पुष्टि कर आए। बाद में नियम विरुद्ध अंकपत्रों में कुलपति के हस्ताक्षर भी आवश्यक बताए गए, और प्रोविजनल की बजाय वास्तविक अंकपत्र ही जारी कर उपलब्ध कराने को कहा गया। इस पर कुविवि ने मंगलवार को इन छात्रों के परीक्षा के केवल 20 दिन के भीतर अंकपत्र भी जारी कर दिए हैं, लेकिन अब पंतनगर विवि की ओर से कहा जा रहा है कि वहां कुविवि के छात्रों के लिए सीट ही रिक्त नहीं हैं। इससे यहां के छात्रों का भविष्य अधर में लटक गया है।
 
कुलपति ने राज्यपाल एवं शासन से की शिकायत
नैनीताल। पंतनगर और कुमाऊं विवि के राज्य विवि होने के बावजूद पंतनगर विवि द्वारा कुविवि की परीक्षाओं से पहले ही अपनी कांसिलिंग की तिथि जारी करने और पहले अनंतिम अंकपत्र मांगने और बाद में उन्हें न मानने तथा अब अंतिम अंकपत्र जारी करने के बावजूद यहां के छात्रों को कांसिलिंग में शामिल न करने की कुलपति प्रो. एचएस धामी ने कुलाधिपति प्रदेश के राज्यपाल एवं शासन से शिकायत की है। प्रो. धामी ने बताया कि उन्होंने इस बाबत प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री व उच्च शिक्षा सचिव को भी पत्र लिखकर प्रकरण की जानकारी दी है।
 
पंतनगर विवि की आंतरिक राजनीति बताई जा रही है कारण
नैनीताल। भरोसेमंद सूत्रों पर यकीन करें तो पंतनगर विवि की वादाखिलाफी के पीछे वहां की अंदरूनी राजनीति और मत्वाकांक्षा बड़ा कारण है। बताया गया है कि पंतनगर विवि के कुलपति भी वादा निभाना चाहते हैं, पर प्रवेश समिति में शामिल पूर्व में कुमाऊं विवि में कुलपति बनने के इच्छुक एक सदस्य मामले में कुविवि और अपने कुलपति को नीचा दिखाने की कोशिस में हैं, इस कारण कुमाऊं विवि के छात्रों के भविश्य से खिलवाड़ कर दिया गया है।
 
अखिल भारतीय तीसरी रेंक का छात्र भी पंतनगर में प्रवेश से वंचित
नैनीताल। पंतनगर विवि की वादाखिलाफी से कुमाऊं विवि का ‘इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ रिमोट सेंसिंग’ देरादून के लिए हुई परीक्षा में अखिल भारतीय स्तर पर देश में तीसरी रेंक हासिल करने वाले और इस परीक्षा को उत्तीर्ण करने वाले प्रदेश के एकमात्र छात्र राजकुमार को भी पंतनगर विवि में प्रवेश से वंचित रहना पडा है। इससे साफ हो जाता है कि पंतनगर विवि ने अपनी जिद के आगे अच्छी रेंक वाले कुमाऊं विवि के छात्रों को प्रवेश न देकर अपेक्षाकृत कमजोर छात्रों से अपनी सीटें भर ली हैं। गदरपुर निवासी राजकुमार ने बताया कि उसे कुमाऊं विवि से मिले अनंतिम अंकपत्र के कारण पंतनगर विवि की कांसिलिंग में शामिल नहीं किया गया, जबकि इसी अनंतिम अंकपत्र से उसने आईआईआरसी देरादून में प्रवेश ले लिया है। राजकुमार अब वहां ‘फारेस्ट रिसोर्सेज एंड ईको सिस्टम एनालिसिस’ विषय में एमटेक करने जा रहा है।
Advertisements

5 responses to “सरकार की गलती व पंतनगर विवि की वादाखिलाफी से कुमाऊं विवि के छात्रों का भविष्य अधर में

  1. पिंगबैक: My most popular Blog Posts in Different Topics | नवीन जोशी समग्र·

  2. पिंगबैक: कुमाऊं विवि में नैनो टेक्नोलॉजी साइंस सेंटर बनाएंगे तरुण विजय | नवीन जोशी समग्र·

  3. पिंगबैक: विभिन्न विषयों पर अधिक पसंद किए गए ब्लॉग पोस्ट | नवीन समाचार : हम बताएंगे नैनीताल की खिड़की से देवभू·

  4. पिंगबैक: कुमाऊं विवि में विकसित हो रही भविष्य की ‘नैनो दुनिया’, एक साथ दो पेटेंट फाइल कर रचा इतिहास – न·

  5. पिंगबैक: विभिन्न विषयों पर पुराने अधिक पसंद किए गए पोस्ट – नवीन समाचार : समाचार नवीन दृष्टिकोण से·

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s