मेरी कुमाउनी कविताओं की पुस्तक-उघड़ी आंखोंक स्वींड़ और कुमाउनी नाटक-‘जैल थै, वील पै’ पीडीएफ फॉर्मेट में


कुमाउनी का पहला PDF फार्मेट में भी उपलब्ध कविता संग्रह-उघड़ी आंखोंक स्वींणऔर खास तौर पर अपने सहपाठियों को समर्पित नाटक-जैल थै, वील पै
लिंक क्लिक कर देखें।
उघड़ी आंखोंक स्वींण
उघड़ी आंखोंक स्वींण
Advertisements

3 responses to “मेरी कुमाउनी कविताओं की पुस्तक-उघड़ी आंखोंक स्वींड़ और कुमाउनी नाटक-‘जैल थै, वील पै’ पीडीएफ फॉर्मेट में

  1. पिंगबैक: My most popular Blog Posts in Different Topics | नवीन जोशी समग्र·

  2. पिंगबैक: 400 वर्ष पुरानी है कुमाउनी शास्त्रीय होली की परंपरा! | नवीन जोशी समग्र·

  3. पिंगबैक: विभिन्न विषयों पर अधिक पसंद किए गए ब्लॉग पोस्ट | नवीन समाचार : हम बताएंगे नैनीताल की खिड़की से देवभू·

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s