बेहद खतरनाक हो सकता है किसी और का रक्त चढ़ाना


01NTL-5-रक्त में ९० दिन पूर्व से हो रही केवल पांच बीमारियों की जांच ही है संभव
-स्वयं का अथवा नियमित स्वैच्छिक रक्तदाताओं से रक्त लेना सर्वाधिक सुरक्षित
-स्वैच्छिक रक्तदान ही नहीं हर ९० दिन में नियमित स्वैच्छिक रक्तदान है जरूरी
नवीन जोशी, नैनीताल। जी हां, मनुष्य को बेहद जरूरी होने पर ही किसी दूसरे का रक्त चढ़ाना चाहिए। देश-प्रदेश में अभी तक चढ़ाए जाने वाले रक्त में ९० दिन से पुरानी और केवल पांच बीमारियों की ही जांच की व्यवस्था उपलब्ध है। यानी यदि रक्तदान करने वाले व्यक्ति को यदि ९० दिन से कम अवधि में किसी बीमारी का संक्रमण हुआ है तो रोगी को चढ़ाए जाने वाला रक्त भी उस बीमारी से संक्रमित हो सकता है। इस समस्या से बचाव के दो तरीके हैं। यदि संभव हो तो रक्त चढ़ाने की किसी संभावित स्थिति का पहले से पता हो तो स्वयं का रक्त भी १५ दिन पूर्व रक्त बैंक में जमा कराया जा सकता है। दूसरा तरीका नियमित रूप से स्वैच्छिक रक्तदाताओं के रक्त को लेना है। इसके लिए लोगों को नियमित रूप से रक्तदान के लिए प्रेरित किया जा रहा है। राज्य में कहीं-कहीं अब १५ दिन पुरानी बीमारियों का भी पता लगाने की व्यवस्था भी की जा रही है। लेकिन यह व्यवस्था भी केवल पांच बीमारियों-एचआईवी, हेपेटाइटिस बी, हेपेटाइटिस सी, मलेरिया तथा यौन गुप्त रोग संबंधी सिपलिस बीमारियों के लिए ही है। सुरक्षित एवं असुरक्षित रक्त की इस पहेली को समझने से पहले जान लें कि रक्तदाता पांच तरह के होते हैं। पहला, व्यवसायिक तौर पर रक्तदान जो कि १९९९ से प्रतिबंधित है। दूसरा, रोगी के परिजनों के द्वारा। इसे सुरक्षित नहीं माना जाता। क्योंकि अधिकांशतया अपने परिजनों को बचाने के लिए लोग अपनी बीमारियों व अन्य समस्याओं को छुपाकर रक्तदान कर देते हैं। तीसरे, स्वयं रक्तदाता। ऐसे सीमित रक्तदाता कई बार अपने एक माह बाद होने वाली किसी ऑपरेशन जैसी स्थितियों के लिए १५ दिन पहले ही स्वयं का रक्त, रक्तबैंक में सुरक्षित रखवा सकते हैं। यह तरीका रक्त लेने का सबसे सुरक्षित तरीका बताया जाता है। इसके अलावा जो स्वैच्छिक रक्तदाताओं वाले पांचवे तरीके का सर्वाधिक प्रचार-प्रसार किया जाता है, इस वर्ग के रक्तदाताओं के भी पहले रक्तदान से मिले रक्त को चढ़ाने में भी कभी बड़ी समस्या आ सकती है। उत्तराखंड रक्त संचरण परिषद के राज्य नोडल प्रभारी एवं एनएसएस के पूर्व राज्य संपर्क अधिकारी डा. आनंद सिंह उनियाल ने बताया कि देश-प्रदेश में अब तक ९० दिन से (कुछ गिने-चुने केंद्रों में १५ दिन) पुरानी पांच बीमारियों- एचआईवी, हेपेटाइटिस बी, हेपेटाइटिस सी, मलेरिया तथा यौन गुप्त रोग संबंधी सिपलिस के टेस्ट ही उपलब्ध हैं। हमारे रक्त में मौजूद लाल रक्त कणिकाओं (आरबीसी) की उम्र १२० दिन की ही होती है। यानी हर १२० दिन में हमारे शरीर की आरबीसी मरती जाती हैं, और नया खून भी साथ-साथ बनता चला जाता है। इसीलिए हर व्यक्ति को ९० दिन में रक्तदान की सलाह दी जाती है। हर रक्तदान के दौरान रक्त की उपरोक्त पांच बीमारियों के लिए आवश्यक रूप से जांच होती है, लिहाजा पहली बार किसी व्यक्ति द्वारा दिए जाने वाले रक्त से बेशक उसकी नई बीमारियों का पता न चल पाए, लेकिन नियमित रूप से हर ९० दिन में रक्तदान करते जाने से उस व्यक्ति के इन बीमारियों से रहित होने की संभावना बढ़ जाती है। डा. उनियाल ने कहा कि इसीलिए अब स्वैच्छिक रक्तदान की जगह नियमित स्वैच्छिक रक्तदान करने का आह्वान किया जा रहा है। लिए लोगों को रक्तदान के प्रति ज्ञान देकर इस स्लोगन के साथ जागरूक किया जा रहा है कि रक्तदान से पहले रक्त का ज्ञान जरूरी है। यदि लोग रक्त व रक्तदान के प्रति ज्ञान रखने लगें तो इस समस्या का समाधान हो सकता है।

रक्त लेने में खतरे ही खतरे, रक्त देने में लाभ ही लाभ

नैनीताल। किसी अन्य का रक्त लेने में भले अनेक खतरे हों, लेकिन १८ से ६५ वर्ष के लोगों द्वारा रक्तदान किए जाने के अनेकों लाभ हैं। हर ९० दिन के नियमित अंतराल में रक्तदान करने से व्यक्ति की मुफ्त में नियमित जांच हो जाती है, तथा कोई रोग होने पर जल्द पता लग जाता है। चूंकि आरबीसी की उम्र १२० दिन ही होती है, इसलिए रक्त का दान करना किसी तरह भी शरीर के लिए नुकसानदेह नहीं होता। रक्तदान के बाद शरीर में नया खून बनता है, जिससे शरीर में ताजगी आती है, हृदयाघात के खतरे नहीं रहते, और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ जाती है। हमेशा नए युवा रक्त का संचार होता रहता है, इसलिए बुढ़ापा भी देरी से आता है। दूसरों को दान करने से मस्तिष्क में सकारात्मकता एवं धनात्मक ऊर्जा आती है, तथा स्मरण शक्ति बढ़ जाती है।

डा. उनियाल ने ६१वीं बार किया रक्तदान

61वीं बार रक्तदान करते डा. उनियाल

61वीं बार रक्तदान करते डा. उनियाल

नैनीताल। उत्तराखंड रक्त संचरण परिषद के राज्य नोडल प्रभारी डा. आनंद सिंह उनियाल ने बुधवार को विश्व रक्तदान दिवस के अवसर पर ६१वीं बार स्वैच्छिक रक्तदान किया। बताया कि वह वर्ष २००० से हर ९० दिन में स्वैच्छिक रक्तदान करते हैं और प्रदेश के हर रक्त बैंक में रक्तदान कर चुके हैं। साथ ही करीब २.२५ लाख लोगों से स्वैच्छिक रक्तदान करा चुके हैं। इनमें से करीब २०० लोग भी अब हर ९० दिन में स्वैच्छिक रक्तदान करते हैं।

Advertisements

4 responses to “बेहद खतरनाक हो सकता है किसी और का रक्त चढ़ाना

  1. पिंगबैक: विभिन्न विषयों पर अधिक पसंद किए गए ब्लॉग पोस्ट | नवीन समाचार : हम बताएंगे नैनीताल की खिड़की से देवभू·

  2. पिंगबैक: तरुण विजय ने पूरा किया कुमाऊं विवि में नैनो साइंस एवं नैनो तकनीकी केंद्र का सपना | नवीन समाचार : हम ·

  3. पिंगबैक: ‘प्रोक्सिमा-बी’ पर जीवन की संभावनाओं के प्रति बहुत आशान्वित नहीं वैज्ञानिक – नवीन समाचार : ह·

  4. पिंगबैक: कुमाऊं विवि में विकसित हो रही ‘नैनो दुनियां’, सोलर सेल बनाने को बढ़े कदम – नवीन समाचार : समाचार ·

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s