पंचाचूली की गोद में ‘सात संसार-एक मुनस्यार’


Panchachuli with Nanda Devi Temple1

नवीन जोशी नैनीताल । देवभूमि कुमाऊं में एक स्थान ऐसा भी है, जिसके बारे में कोई कहता है-‘सार संसार-एक मुनस्यार’, और कोई ‘सात संसार-एक मुनस्यार’ तो कोई ‘आध संसार-एक मुनस्यार’। लेकिन इन तीनों कहावतों का मूलतः एक ही अर्थ है सारे अथवा सारे अथवा आधे अथवा सात महाद्वीपों युक्त संसार एक ओर और मुन्स्यारी एक ओर। यानी आप पूरी दुनियां देख लें, लेकिन यदि आपने मुन्स्यारी नहीं देखा तो फिर पूरी दुनिया भी नहीं देखी। मुनस्यारी में कुदरत अपने आंचल में तमाम खूबसूरत नजारों के साथ अमूल्य पेड़-पौधे व तमाम जड़ी-बूटियों को छुपाए हुए बताती है कि वह उस पर खासतौर पर मेहरबान है। देशी-विदेशी सैलानियों को बेहद पसंद समुद्र सतह से 2,200 मीटर की ऊंचाई पर बसा मुन्स्यारी देवभूमि उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल के सीमांत पिथौरागढ़ जिले में तिब्बत और नेपाल सीमा से लगा हुआ एक छोटा का कस्बा है, किंतु इसकी पूरी खूबसूरती इसके सामने खड़ी हिमाच्छादित पर्वत श्रृंखलाओं और नजदीकी खूबसूरत प्राकृतिक स्थलों और यहां की सांस्कृतिक खूबसूरती में निहित है। खासकर सामने की विस्मयकारी हिमालय की पांच चोटियांे वाली पंचाचूली पर्वतमाला, जिसे कोई पांच पांडवों के स्वर्गारोहण करने के दौरान प्रयोग की गई पांच चूलियां या रसोइयां कहते हैं तो कोई साक्षात हिमालय पर रहने वाले पंचमुखी देवाधिदेव महादेव। कहते हैं पांडवों ने स्वर्ग की ओर बढ़ने से पहले यहीं आखिरी बार खाना बनाया था। 

मुन्स्यारी पहुंचने के लिए 295 किमी की दूरी पर स्थित काठगोदाम और हल्द्वानी नजदीकी रेलवे स्टेशन तथा 330 किमी दूर पंतनगर नजदीकी हवाई अड्डा है। दिल्ली से मुन्स्यारी की सड़क मार्ग से दूरी 612 किमी, नैनीताल से 288 किमी और नए बन रहे पिथौरागढ़ के नैनी सैनी हवाई अड्डे से 128 किमी है। यहां पहुंचने के लिए अल्मोड़ा से आगे धौलछीना, सेराघाट, गणाई, बेरीनाग, चौकोड़ी से थल, नाचनी, टिमटिया, क्वीटी, बिर्थी, डोर, गिरगांव, रातापानी और कालामुनि होते हुए सड़क मार्ग से यहां पहुंचा जाता है। बिर्थी के पास सैकड़ों फीट की ऊंचाई से गिरने वाले दो बड़े झरने और एक लोहे के पुल के पास बाघ की तरह नजर आने वाला पत्थर-टाइगर स्टोन रोमांचित करते हैं। यहां से कठिन चढ़ाई वाली बेहद संकरी सड़क कालामुनि टॉप पर ले जाती है, जहां से पंचाचूली का दर्शन हर किसी की आंखें खुली की खुली रखने वाला होता है। लगता है मानो बांहें फैलाए विशाल हिमालय अपने पास बुला रहा हो, और आगे चलने पर नजर आता है पंचाचूली की गोद में बसा मुन्स्यारी। फरवरी से मई यानी बसंत और सितम्बर से नवम्बर यानी हेमंत ऋतुओं को यहां आने के सबसे उपयुक्त समय माना जाता है, इस दौरान यहां धुले-धुले से बेहद खुशनुमा प्राकृतिक नजारे दृष्टिगोचर होते हैं। साफ व सुहावने मौसम में यहां से सूर्याेदय, और खासकर सूर्यास्त के दौरान स्वर्णिम आभा के साथ दमकती पंचाचूली की चोटियांे का नजारा विस्मयकारी होता है। नवम्बर से फरवरी तक की सर्दियों में मुन्स्यारी कालामुनि से ही हिमाच्छादित रहती है, अक्सर होने वाली बर्फवारी के साथ इस दौरान यहां उत्तराखंड राज्य के राज्य वृक्ष बुरांश पर खिले लाल दमकते फूलों के नजारे तो स्वर्ग सरीखे दिव्य होते हैं, किन्तु पहुंचना थोड़ा कठिन होता है। वहीं गर्मियों के दिनों में मुन्स्यारी की शीतलता मानव में नए प्राण भर देती है। यह समय ट्रेकिंग के लिए सर्वश्रेष्ठ रहता है, लेकिन कई बार दूरी से पंचाचूली व अन्य खूबसूरत दृश्य धुंध की वजह से नहीं दिखाई देते हैं। वर्षाकाल में सड़कों के खराब रहने की संभावना रहती है। गर्मियों में होटल, लॉज और गेस्ट हाउसों के भरे होने की समस्या भी रहती है। आवासीय सुविधा के लिए कुमाऊं मंडल विकास निगम के शानदार रेस्ट हाउस के साथ ही लोक निर्माण विभाग का गेस्ट हाउस और कई प्राइवेट होटल भी हैं।

मुनस्यारी के कालामुनि व खलिया टॉप में स्कीइंग की सुविधाएं उपलब्ध हैं। यहां की हल्की घुमावदार व सुरक्षित ढलानों के अंतराष्ट्रीय स्तर का स्कीइंग स्थल बनने की पूरी संभावनाएं हैं। यह पंचाचूली व मिलम के साथ ही नामिक और रालम ग्लेशियरों के लिए ट्रेकिंग का बेस कैंप भी है, खासकर विदेशी पर्यटक यहां ट्रेकिंग और माउंटेनियरिंग के लिए आते हैं। कालामुनि में स्थानीय लोगों की गहरी आस्था का केंद्र मां दुर्गा का प्रसिद्ध मंदिर भी है। नवरात्रों में यहां के उल्का देवी मंदिर में ढोल, वाद्य यंत्र व नगाड़ों की भक्तिमय गूंज के साथ ‘मिलकुटिया’ का बहुत बड़ा मेला लगता है। बेटुलीधार, डानाधार और खलिया टॉप नजदीकी खूबसूरत पिकनिक स्पॉट हैं। नीचे घाटी में कल-कल बहती गोरी गंगा में रिवर राफ्टिंग की रोमांचकारी सुविधा उपलब्ध है। गोरी घाटी को टेªकिंग का भी स्वर्ग कहा जाता है। यहां कई जगह औषधीय गुणों युक्त गंधक की मौजूदगी बताई जाती है, जिसके प्रभाव से गोरी गंगा के जल में कई त्वचा रोगों संबंधी औषधीय गुण बताए जाते हैं। इसके जलागम में शंखधुरा, नानासैंण, जेती, जल्थ, सुरंगी, शमेर्ली व गोड़ीपार जैसे छोटे-छोटे गांवों का नजारा भी आकर्षित करता है। इसके पास ही जोहार घाटी है, जो बीते समय में तिब्बत के साथ व्यापार करने का रूट हुआ करता था। बंगाल से लेकर कश्मीर व हिमांचल सहित पूरे देश भर से व्यापारी यहां नमक व ऊन के बने वस्त्रों की खरीद फरोख्त के लिए आया करते हैं। उस दौर की ऐतिहासिक यात्रा की ढेरों यादें यहां आज भी शेर सिंह पांगती द्वारा स्वयं के प्रयासों से तैयार बड़े संग्रहालय में देखी जा सकती हैं। इस संग्रहालय को देखना भी मुन्स्यारी यात्रा का एक बड़ा आकर्षण होता है। यहां के तिकसेन नाम के बाजार में उच्च हिमालयी क्षेत्रों की जंबू, गंधरैणी, काला जीरा आदि जड़ी-बूटियां, यहां की खास बड़े आकार की राजमा दाल तथा यहां घर-घर में पलने वाली भेड़ों का पश्मीना ऊन व उससे बनी चीजें खास आकर्षण होती हैं। मुन्स्यारी वाइल्डलाइफ व बर्ड वांचिंग का भी स्वर्ग है। इस विधा में दिलचस्पी रखने वालों को यहां विस्लिंग थ्रस, वेगटेल, हॉक कूकू, फॉल्कोन और सर्पेंट ईगल सहित सैकड़ों प्रकार की खूबसूरत पक्षियों की चहचहाहट और गुलदार, कस्तूरी मृग व पर्वतीय भालू आदि वन्य जीवों की गूंज आसानी से सुनाई दे जाती है, और बहुधा दर्शन भी हो जाते हैं।

मुन्स्यारी संबंधी अन्य चित्र:

Advertisements

3 responses to “पंचाचूली की गोद में ‘सात संसार-एक मुनस्यार’

  1. पिंगबैक: विभिन्न विषयों पर अधिक पसंद किए गए ब्लॉग पोस्ट | हम तो ठैरे UTTARAKHAND Lovers, हम बताते हैं नैनीताल की खिड़की स·

  2. पिंगबैक: विभिन्न विषयों पर पुराने अधिक पसंद किए गए पोस्ट – नवीन समाचार : नवीन दृष्टिकोण से समाचार·

  3. पिंगबैक: विभिन्न विषयों पर पुराने अधिक पसंद किए गए पोस्ट – नवीन समाचार : समाचार नवीन दृष्टिकोण से·

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s