नैनीताल में पारा सारे रिकार्ड तोड़ने की ओर


24NTL-1नवीन जोशी, नैनीताल। देश के मैदानी क्षेत्रों के साथ-साथ पहाड़ों पर भी पारा आसमान उछलता नजर आ रहा है। पिछले एक सप्ताह में नैनीताल में पारे में करीब 10 डिग्री सेल्सियस की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है, और यह रविवार को यह अधिकतम 31 व न्यूनतम 20 डिग्री सेल्सियस के साथ इस वर्ष के अपने सर्वाधिक स्तर पर पहुंच गया है, तथा इस आशंका को भी प्रबल करने लगा है कि नैनीताल में अपने अधिकतम (ऑल टाइम हाई) के स्तर 37 डिग्री को भी छू सकता है।

23NTL-4सामान्यतया देश में अधिकतम तापतान की बात केवल मैदानी स्थानों के लिए और न्यूनतम तापमान की बात पर्वतीय स्थानों के लिए ही की जाती है। विश्व प्रसिद्ध पर्वतीय पर्यटन नगरी में तापमान के रिकार्डों का जिक्र न्यूनतम तापमान के लिए ही होता है। लेकिन कम लोग ही जानते होंगे कि नैनीताल में सर्दियों में न्यूनतम तापमान का रिकार्ड वर्ष 1975 के पहले दिन यानी एक जनवरी को शून्य से नीचे माइनस 4.5 डिग्री सेल्सियस का है, तो अधिकतम तापमान का रिकार्ड 30 मई 1974 को 37.5 डिग्री सेल्सियस का है। इसके अलावा यहां 25 मई 1969 को 36 तो 14, 15, 16 जून 1965 को लगातार तथा 22 मई 1978 व सात जून 1979 को 34.5, 30 मई 1968 को 34 व 26 मई 1980 को 33.5 डिग्री सेल्सियस के तापमान के रिकार्ड रहे हैं।

वर्ष में तापमान के कम अंतर के मामले में सर्वश्रेष्ठ होते हैं पहाड़

नैनीताल। सामान्यतया किसी स्थान के अधिकतम या न्यूनतम तापमान की ही बात की जाती है, किंतु मानव जीवन एवं स्वास्थ्य के लिए किसी स्थान को बेहतर बनाने के लिए उस स्थान के वर्ष में अधिकतम व न्यूनतम तापमान के अंतर को महत्वपूर्ण इकाई माना जाता है। वहीं देश में इलाहाबाद के नैनी, राजस्थान में जैसलमेर, चुरू व पश्चिम बंगाल के नीम का तारा से गुजरने वाली कर्क रेखा के पास जहां देश के मैदानी क्षेत्रों में भी सर्दियों में न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे तक गिर जाता है, और गर्मियों में अधिकतम तापमान 50 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है, यानी वर्ष के छह महीनों में मनुष्य को 50 डिग्री से अधिक तापमान के अंतर में स्वयं को ढालना पड़ता है। वहीं उत्तराखंड के पहाड़ों पर जहां सर्दियों में तापमान अधिकतम माइनस पांच डिग्री तक गिर जाता है, जबकि अधिकतम रिकार्ड 37 डिग्री तक के उपलब्ध हैं। इसके बावजूद भी यहां तापमान का अंतर 42 डिग्री तक रहता है, जो मानव स्वास्थ्य के लिए बेहतर माना जाता है।

नगर के अधिकतम तापमान के रिकार्ड डिग्री सेल्सियस में

30 मई 1974               37.5
25 मई 1969               36.0
14,15,16 जून 1965      34.5
22 मई 1978                34.5
7 जून 1979                 34.5
30 मई 1968                34.0
26 मई 1980                33.5

Advertisements

6 responses to “नैनीताल में पारा सारे रिकार्ड तोड़ने की ओर

  1. पिंगबैक: विभिन्न विषयों पर अधिक पसंद किए गए ब्लॉग पोस्ट | हम तो ठैरे UTTARAKHAND Lovers, हम बताते हैं नैनीताल की खिड़की स·

  2. पिंगबैक: विभिन्न विषयों पर अधिक पसंद किए गए ब्लॉग पोस्ट | नवीन समाचार : हम बताएंगे नैनीताल की खिड़की से देवभू·

  3. पिंगबैक: तरुण विजय ने पूरा किया कुमाऊं विवि में नैनो साइंस एवं नैनो तकनीकी केंद्र का सपना | नवीन समाचार : हम ·

  4. पिंगबैक: ‘प्रोक्सिमा-बी’ पर जीवन की संभावनाओं के प्रति बहुत आशान्वित नहीं वैज्ञानिक – नवीन समाचार : ह·

  5. पिंगबैक: कुमाऊं विवि में विकसित हो रही ‘नैनो दुनियां’, सोलर सेल बनाने को बढ़े कदम – नवीन समाचार : समाचार ·

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s