इतिहास के झरोखे से कुछ महान उत्तराखंडियों के नाम-उपनाम व एतिहासिक घटनायें


  • वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली – पेशावर कांड के नायक
  • इन्द्र मणि बडोनी: उत्तराखंड का गाँधी
  • देवकी नंदन पांडे: कुमाऊँ का गाँधी
  • अनुसुया प्रसाद बहुगुणा: गढ़ केसरी
  • बद्री दत्त पांडे: कुमाऊँ केसरी ( कुमाऊं का इतिहास पुस्तक के लेखक)
  • बद्री दत्त पांडे: कुली बेगार आन्दोलन के नायक
  • पं. हर्ष देव जोशी (हरक देव जोशी) : कुमाऊं का चाणक्य, कुमाऊं का शिवाजी
  • हर्ष देव ओली: काली कुमाऊं का शेर
  • विश्वेश्वर दत्त सकलानी: वृक्ष मानव
  • शिव प्रसाद डबराल: चारण, इन्साइक्लोपीडिया ऑफ उत्तराखंड
  • मौला राम: गढ़वाली चित्रकला के जन्मदाता
  • पंडित नैन सिंह रावत: भारतीय राज्यों का साथी, मौलिक पंडित
  • गुमानी पंत: कुमाऊं साहित्य के प्रथम कवि,
  • लोकरत्न गौरी दत्त पांडे: गौर्दा
  • हेमवंती नंदन बहुगुणा: धरती पुत्र, हिमालय पुत्र
  • रानी कर्णावती: नाक कटी रानी
  • गौरा देवी: चिपको वुमन (चिपको आन्दोलन की जन्मदात्री)
  • दीपा देवी: टिंचरी माई, ठगुली देवी
  • आइरिन पंत: अल्मोड़ा की बेटी, पाकिस्तान की बहू
  • फेड्रिक विल्सन: पहाड़ी विल्सन
  • तीलू रौतेली: उत्तराखंड की झाँसी की रानी
  • मोहन लाल उनियाल: श्रीमन्त
  • गिरीश तिवारी ‘गिर्दा’ : जनकवि
  • कल्याण सिंह रावत: मैती आंदोलन के जन्मदाता
  • कुंवर सिंह नेगी: गढ़वाल का हातिमताई
  • कालू महर: उत्तराखण्ड के प्रथम स्वतंत्रता सेनानी
  • जिया रानी: कुमाऊं की लक्ष्मीबाई
  • बच्चू लाल भट्ट -गढ़वाली
  • महिधर शर्मा डंगवाल: धर्माधिकारी

    उत्तराखंड के कुछ और व्यक्तित्वों के बारे में पढने के लिए यहाँ क्लिक करें 

यह भी पढ़ें : 

उत्तराखण्ड की इतिहास के झरोखे से कुछ एतिहासिक घटनायें :

  • 1635 : उत्तराखंड में आगे बढ़ रही शाहजहाँ की नवाजत खान के नेतृत्व वाली रॉयल मुग़ल सेना को रानी कर्णावती की सेना से हार कर गढ़वाल वापस लौटना पड़ा ।
  • 1743-45 : कुमाऊँ  पर रुहेलों का आक्रमण।
  • 1790: कुमाऊँ में चन्द राजाओं के अवसान के बाद गोरखाओं का शासन प्रारम्भ।
  • 1803: गढवाल में गोरखाओं का शासन प्रारम्भ।
  • 1813 : कुमाऊं रेजिमेंट की स्थापना।
  • 1815: सिंगोली संधि से कुमाऊं में अंग्रेजों का आगमन, पवांर नरेश द्वारा टिहरी की स्थापना।
  • 1815: 24 अप्रैल को अलमोड़ा में 1/3 गोरखा राइफल्स (आरंभ में कुमाऊं स्थानीय बटालियन नाम, अब गोरखा रेजिमेंट) की स्थापना।
  • 1815 : 28 दिसंबर को गढ़वाल के तत्कालीन महाराजा सुदर्शन शाह ने पवार राजवंश की तीसरी और आखिरी राजधानी टिहरी की स्थापना की, जो अब डूब चुकी है।
  • 1816: सिंगोली संधि के अनुसार टिहरी के अलावा शेष गढ़वाल में अंग्रेजों का आगमन।
  • 1834: अंग्रेज अधिकारी ट्रेल ने हल्द्वानी नगर बसाया।
  • 1840: देहरादून में चाय के बगान का प्रारम्भ।
  • 1841: 18 नवम्बर को नैनीताल नगर की स्थापना।
  • 1842 : उत्तरी भारत के पहले ‘द हिल्स’ (अंग्रेजी भाषा में) नामक समाचार पत्र का प्रकाशन मसूरी के सेमेनरी स्कूल परिसर स्थित प्रिंटिंग प्रेस से प्रारंभ। 
  • 1847: रुड़की इन्जीनियरिंग कालेज की स्थापना।
  • 1850: नैनीताल में प्रथम मिशनरी स्कूल-वर्तमान सीआरएसटी इंटर कॉलेज खुला।
  • 1852: रुड़की मे सैनिक छावनी का निर्माण।
  • 1854: रुड़की गंग नहर में सिंचाई हेतु जल छोडा गया।
  • 1857: टिहरी नरेश सुदर्शन शाह ने काशी विश्वनाथ  मंदिर का जीर्णोंद्धार किया गया।
  • 1860: देहरादून में अशोक शिलालेख की खोज, नैनीताल बनी ग्रीष्मकालीन राजधानी।
  • 1861: देहरादून, सर्वे आफ़ इंडिया की स्थापना।
  • 1865: देहरादून में तार सेवा प्रारम्भ।
  • 1868 : नैनीताल से उत्तराखंड के पहले देशी (हिन्दी-उर्दू) ‘समय विनोद’ नामक पाक्षिक पत्र का प्रकाशन प्रारंभ।
  • 1874: अल्मोडा नगर में पेयजल व्यवस्था का प्रारम्भ।
  • 1877: महाराजा द्वारा प्रतापनगर की स्थापना।
  • 1878: गढ़वाल के बीर सैनिक बलभद्र सिंह को ‘आर्डर आफ़ मेरिट’ प्रदान किया गया।
  • 1880: 18 सितंबर को नैनीताल में महाविनाशकारी भूस्खलन; 53 यूरेशियन सहित 151 लोग हुए जिन्दा दफ़्न ।
  • 1887: लैन्सडाउन में गढवाल राइफ़ल रेजिमेंट का गठन।
  • 1888: नैनीताल में सेंट जोजेफ़ कालेज की स्थापना।
  • 1891: हरिद्वार – देहरादून रेल मार्ग का निर्माण।
  • 1894: गोहना ताल टूटने से श्रीनगर में क्षति।
  • 1896: महाराजा कीर्ति शाह ने कीर्तिनगर का निर्माण।
  • 1897: कोटद्वार-नजीबाबाद रेल सेवा प्रारम्भ।
  • 1899: काठगोदाम रेलसेवा से जुडा।
  • 1900: हरिद्वार-देहरादून रेलसेवा प्रारम्भ।
  • 1903: टिहरी नगर में विद्युत ब्यवस्था।
  • 1905: देहरादून एयरफ़ोर्स आफ़िस में एक्स-रे संस्थान की स्थापना।
  • 1912: भवाली में क्षय रोग अस्पताल की स्थापना, मंसूरी में विद्युत योजना।
  • 1914: गढवाली बीर, दरवान सिंह नेगी को विक्टोरिया क्रास प्रदान किया गया।
  • 1918: सेठ सूरजमल द्वारा ऋषिकेश में ‘लक्षमण झूला’ का निर्माण।
  • 1922: गढवाल राइफ़ल्स को ‘रायल’ से सम्मानित किया गया, नैनीताल विद्युत प्रकाश में नहाया।
  • 1926: हेमकुंड साहब की खोज।
  • 1930: चन्द्रशेखर आजाद का दुगड्डा में अपने साथियों के साथ शस्त्र प्रशिक्षण हेतु आगमन, देहरादून में नमक सत्याग्रह, मंसूरी मोटर मार्ग प्रारम्भ।
  • 1932: देहरादून मे “इंडियन मिलिटरी एकेडमी ‘की स्थापना।
  • 1935: ऋषिकेश-देवप्रयाग मोटर मार्ग का निर्माण।
  • 1938: हरिद्वार-गोचर हवाई यात्रा ‘हिमालयन एयरवेज कम्पनी’ ने शुरू की।
  • 1942: 7 वीं गढवाल रेजिमेंट की स्थापना।
  • 1945: हैदराबाद रेजिमेंट का नाम बदलकर “कुमाऊं रेजिमेंट” रखा गया।
  • 1946: डीएवी कालेज देहरादून में कक्षाएं शुरू हुई।
  • 1948: रुड़की इन्जीनियरिंग कालेज-विश्वविद्यालय में रूपांतरित किया गया।
  • 1949: अगस्त में टिहरी राज्य का  भारतीय गणतन्त्र में, अल्मोडा कालेज की स्थापना।
  • 1953: बंगाल सैपर्स की स्थापना रुड़की में की गई, उत्तराखंड का पहला हिंदी दैनिक अखबार ‘पर्वतीय’ नैनीताल से प्रकाशित।
  • 1954: हैली नेशनल पार्क का नाम बदलकर जिम कार्बेट नेशनल पार्क रखा गया।
  • 1960 : तीन सीमान्त जिले उत्तरकाशी, चमोलीपिथौरागढ़ का गठन।
  • 1969: गढ़वाल मण्डल की स्थापना, मुख्यालय पौड़ी बनाया गया।
  • 1958: मंसूरी में डिग्री कालेज की स्थापना।
  • 1960: पंतनगर में कृषि एवम प्राद्यौगिकी विश्वविद्यालय की आधारशिला रखी गई।
  • 1973: गढवाल एवम कुमांऊ विश्वविद्यालय की घोषणा की गई। 1 मार्च को गोपेश्वर से ‘चिपको आंदोलन’ की शुरुवात।
  • 1975: देहरादून प्रशाशनिक रूप से गढ्वाल में सम्मिल्लित किया गया, चमोली जनपद में 87 किमी में फ़ैली फ़ूलों की घाटी को राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया।
  • 1983 : प्रथम उत्तराखंडी (गढ़वाली) फिल्म  ‘जग्वाल’ प्रदर्शित (निर्माता : पाराशर गौड़)।
  • 1986: पिथौरागढ जनपद के 600 वर्ग किमी में फ़ैले अस्कोट वन्य जीव विहार की घोषणा की गई। गढ़वाली फिल्म ‘घर जवें’, ‘प्यारो रुमाल’, ‘कौथिक’ व ‘उदंकार’ प्रदर्शित।
  • 1987: पौडी गढ़वाल में 301 वर्ग किमी में फ़ैले सोना-चांदी वन्य जीव विहार की घोषणा की गई। कुमाउनी भाषा की प्रथम फिल्म ‘मेघा आ’ प्रदर्शित (निर्माता : जीवन बिष्ट)।
  • 1988: अल्मोडा बनभूमि के क्षेत्र बिनसर वन्य जीव विहार की घोषणा की गई।
  • 1991: 20 अक्तूबर को भूकम्प में 1500 ब्यक्तियों की मौत।
  • 1992: उत्तरकाशी में गंगोत्री राष्ट्रीय उद्यान तथा गोविंद राष्ट्रीय उद्यान की स्थापना।
  • 1994: उधमसिंह नगर जिले का गठन, पृथक उत्तराखण्ड राज्य की मांग का आंदोलन- खटीमा में गोली चली, मुजफ़्फ़रनगर काण्ड, अनेक लोग शहीद हुए।
  • 1995: श्रीनगर में आंदोलनकारियों पर गोली चली।
  • 1996: रूद्रप्रयाग, चम्पावत, बागेश्वर व ऊधमसिंह नगर, चार नये जनपद बनाये गये।
  • 1997: रुद्रप्रयाग, चम्पावतबागेश्वर जिलों का गठन।
  • 1999: चमोली में भूकम्प, 110 ब्यक्तियों की मौत।
  • 2000: 9 नबम्बर-उत्तरांचल राज्य की स्थापना।
  • 2007: 1 जनवरी  से राज्य का नाम ‘उत्तरांचल’ से बदलकर ‘उत्तराखंड ‘
  • 2009 :15 जनवरी को हेमवती नंदन बहुगुणा को मिला उत्तराखंड में पहले केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा
  • 2013: 15-16 जून को केदारनाथ में भीषण जल प्रलय।
Advertisements

2 responses to “इतिहास के झरोखे से कुछ महान उत्तराखंडियों के नाम-उपनाम व एतिहासिक घटनायें

  1. पिंगबैक: उत्तराखंडी ‘बांडों’ के कन्धों पर देश की सुरक्षा की जिम्मेदारी – नवीन समाचार : हम बताएंगे नैन·

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s